कोरोना से बचाव के लिए कौन सा मास्क सबसे ज्यादा कारगर? सही मास्क का चयन जरूरी

कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए मास्‍क जितने जरूरी हैं, उतना ही यह भी जरूरी है कि सही मास्‍क का इस्‍तेमाल किया जाए। बाजार में कई तरह के मास्‍क उपलब्‍ध हैं, ऐसे में इसे लेकर और भी समझदारी दिखाने की जरूरत है।

कोरोना से बचाव के लिए कौन सा मास्क सबसे ज्यादा कारगर? सही मास्क का चयन जरूरी
कोरोना से बचाव के लिए कौन सा मास्क सबसे ज्यादा कारगर? सही मास्क का चयन जरूरी  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली : दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण कहर बरपा रहा है। वैश्विक जगत में इसे कोरोना की तीसरी लहर के तौर पर देखा जा रहा है, जिससे भारत भी अछूता नहीं है। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर लगातार दिशा-निर्देश जारी किए जा रहे हैं। इसमें मास्‍क लगाने, सैनिटाइजेशन और सोशल डिस्‍टेंसिंग को काफी अहम माना जा रहा है। लेकिन बाजार में कई तरह के मास्‍क उपलब्‍ध हैं। फिर कौन सा मास्‍क कोरोना से बचाव में कारगर होगा, इसे लेकर लोगों में भ्रम की स्थिति है।

बाजार में इन दिनों डिजाइनर मास्क भीमिल रहे हैं और लोग अपने कपड़ों के साथ मैचिंग के हिसाब से भी मास्‍क पहन रहे हैं। लेकिन क्‍या ये मास्‍क कोरोना से बचाव में कारगर हैं? आखिर क‍िस तरह के मास्‍क कोरोना से बचाव के लिए अहम हैं? इस बारे में सरकार ने भी कहा है कि क्लीनिकली एप्रूव्ड मास्क को ही बेहतर बताया है और इस क्रम में एन95 मास्क उपयोगी बताए जा रहे हैं। एक और मास्क है, जिसे कोरोना के खिलाफ लड़ाई मे कारगर माना जा रहा है। इसका नाम जी99 है और इसे नई दिल्ली स्थित निमार्ता एवं निर्यातक, जीनस अपेरल्स तैयार किया है।

कितना कारगर जी99 मास्क?

जीनस का दावा है कि उसका जी99 मास्क कोरोना से 99.99 प्रतिशत तक सुरक्षा करता है। यह अमेरिका की आईएसओ सर्टिफाईड लैबोरेटरी द्वारा अनुमोदित है। यह स्विस टेक्नॉलॉजी द्वारा पॉवर्ड है, जो प्रतिष्ठित ऑस्ट्रेलियन इंस्टीट्यूट से सर्टिफाइड है। जीनस जी99 मास्क को खासततौर पर कोरोना से बचाव के लिए बनाया गया है। इसमें अतिरिक्त सुरक्षा के लिए सुरक्षा की पांच परतें हैं। सबसे अंदर की परत ऑर्गेनिक कॉटन की है, जो लंबे समय तक पहने जाने के बाद अतिरिक्त कम्फर्ट प्रदान करती है। यह अत्यधिक मुलायम स्किन-फ्रेंडली कॉटन परत नमी को अवशोषित कर लेती है, जिससे कम गर्मी उत्पन्न होती है।

ट्रिपल पार्टिकुलेट (3 इन टू 1) कंपोजिट नैनोटेक फिल्ट्रेशन सिस्टम प्रदूषण, बैक्टीरिया, पीएम 2.5 पार्टिकल्स को फिल्टर कर सपोर्ट का काम करता है। बाहरी परत ड्रॉपलेट्स से सुरक्षा देती है और बड़े कणों को फिल्टर कर देती है। बीच में सीम कट डिजाईन के साथ यह मास्क बेहतरीन फिट सुनिश्चित करता है और ग्लासेस पर फॉगिंग को रोकता है। इसमें ईयर लूप्स की फैब्रिक बहुत मुलायम है, जिसके करण यूजर्स इसे लंबे समय तक आराम से पहन सकते हैं और कानों को कोई तकलीफ भी नहीं होती। जीनस जी99 मास्क टिकाऊ है और 30 बार की कोमल धुलाई तक बार बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

कहां मिलेगा ये मास्‍क?

अमित अग्रवाल, मैनेजिंग डायरेक्टर, जीनस अपेरल्स ने कहा, 'दुनिया में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के साथ लोगों को इस वायरस से खुद को सुरक्षित रखना जरूरी हो गया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सही कहा है कि मौजूदा समय में फेस मास्क नई वैक्सीन बन गया है। हमें जीनस जी99 मास्क लॉन्च करने की खुशी है, जो यूएसए की आईएसओ सर्टिफाईड लैबोरेटरी द्वारा प्रमाणित है और कोरोना वायरस के खिलाफ 99.99 प्रतिशत प्रभावशाली है।

इस मास्क को अभी तक भारत में शानदार प्रतिक्रिया मिल रही है और यह अमेरिका, यूके, फ्रांस, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, यूएई, दुबई, नाईजीरिया, सीरिया, म्यनमार, ओमन, डेनमार्क, स्पेन, जर्मनी, अफगानिस्तान आदि देशों को निर्यात किया जा रहा है। जीनस जी99 मास्क का मूल्य सिंगल पीस पैक के लिए 270 रु. है। यह मास्क चार रंगों - ब्लैक, मिडनाईट ब्लैक, इनसिग्निया ब्लू, पॉवडर ब्लू में पांच साईज - स्मॉल, मीडियम, लार्ज, एक्स्ट्रा लार्ज एवं डबल एक्स्ट्रा लार्ज में उपलब्ध है। यह मास्क रिटेल स्टोर्स एवं अमेजन जैसी ई-कॉमर्स साईट्स से खरीदा जा सकता है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर