Rakhi Shayari in Hindi: राखी पर भाई-बहन से जुड़ी शायरी, इन Photos के साथ कहें-Happy RakshaBandhan

Raksha Bandhan Shayari in Hindi for Brother and Sister: 2021 में रक्षा बंधन का पर्व 22 अगस्त को मनाया जाएगा। इस मौके पर आप शायरियों के जरिए भी राखी की बधाई दे सकते हैं।

 Rakhi shayari in Hindi| Happy Raksha Bandhan Shayari, Raksha Bandhan Shayari, Happy Raksha Bandhan Shayari 2021,राखी शायरी हिंदी, राखी पर शायरी, राखी की शायरी, रक्षा बंधन की शायरी,राखी शायरी फोटो,रक्षा बंधन पर शायरी
Raksha Bandhan Shayari in Hindi / राखी पर हिंदी शायरी  |  तस्वीर साभार: Times Now

मुख्य बातें

  • राखी पर्व सावन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है
  • 2021 में रक्षा बंधन 22 अगस्त को है
  • राखी का पर्व 22 अगस्त को मनाया जाएगा

Rakhi shayari in Hindi: रक्षा बंधन यानी राखी का त्यौहार 22 अगस्त को मनाया जाएगा। यह पर्व हिंदू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में शुमार होता है जो सावन मास के अंतिम दिन यानी पूर्णिमा को मनाया जाता है। आप इस मौके पर इन तस्वीरों और शायरियों के जरिए बधाई संदेश  दे सकते हैं। शायरियों के जरिए बधाई देना यकीनन राखी पर बधाई देने का अनूठा अंदाज है जो सबको पसंद आएगा। 

Rakhi shayari in Hindi 2021 (राखी की हिंदी शायरी)

किसी के जख्म पर चाहत से पट्टी कौन बांधेगा
अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बांधेगा
(मुनव्वर राना)

अयां है अब तो राखी भी चमन भी गुल भी शबनम भी
झमक जाता है मोती और झलक जाता है रेशम भी
तमाशा है अहा हा-हा गनीमत है ये आलम भी
उठाना हाथ प्यारे वाह-वा टुक देख लें हम भी
तुम्हारी मोतियों की और ज़री के तार की राखी
(नजीर अकबराबादी)

Raksha Bandhan Shayari

जिंदगी भर की हिफ़ाज़त की कसम खाते हुए
भाई के हाथ पे इक बहन ने राखी बांधी
(अज्ञात)

बहनों की मोहब्बत की है अज्मत की अलामत
राखी का है त्यौहार मोहब्बत की अलामत
(मुस्तफा अकबर)

राखियां ले के सिलोनों की बरहमन निकलें
तार बारिश का तो टूटे कोई साअत कोई पल
(मोहसिन काकोरवी)

गुलशन से कोई फूल मयस्सर न जब हुआ
तितली ने राखी बांध दी कांटे की नोक पर
(अज्ञात)

bhai behan rakhi shayari

आस्था का रंग आ जाए अगर माहौल में
एक राखी जिंदगी का रुख बदल सकती है आज
(इमाम आजम)

या रब मिरी दुआओं में इतना असर रहे
फूलों भरा सदा मिरी बहना का घर रहे
(अज्ञात)

अदा से हाथ उठते हैं गुल-ए-राखी जो हिलते हैं
कलेजे देखने वालों के क्या क्या आह छिलते हैं
कहाँ नाज़ुक ये पहुंचे और कहाँ ये रंग मिलते हैं
चमन में शाख पर कब इस तरह के फूल खिलते हैं
जो कुछ खूबी में है उस शोख-ए-गुल-रुख्सार की राखी
(नजीर अकबराबादी)

Raksha Bandhan Shayari

या रब मिरी दुआओं में इतना असर रहे
फूलों भरा सदा मिरी बहना का घर रहे
(अज्ञात)

रक्षा बंधन का त्यौहार है
हर तरफ खुशियों की बौछार है
बंधा एक रेशम की डोरी में
भाई-बहन का प्यार है

बहन ने भाई को बांधा है प्यार
कच्चा है धागा पर रिश्ते है पक्के
यही होते है भाई-बहन के रिश्ते सच्चे

सावन की रिमझिम फुहार है
रक्षाबंधन का त्यौहार है
भाई बहन की मीठी सी तकरार है
प्यार और खुशियों का त्यौहार है

happy rakhi shayari 2021

अनोखा भी है, निराला भी है
तकरार भी है, प्यारा भी है
अच्छी यादों का पिटारा भी है
ऐसे ही राखी का रिश्ता संवारा है

मन को छू जाती है तेरी हर बात
आंखों से पढ़ लेती हो मेरे जज्बात
राखी बांध हर लेती हो हर सब दुख
जीवन में  इससे बड़ा नहीं कोई सुख

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर