Holi Herbal Colours Trick: केमिकल से भरपूर रंगों से अपनी त्वचा को बचाएं, होली के लिए ऐसे घर पर बनाएं हर्बल कलर

Herbal Colours: होली के पर्व पर बाजारों में केमिकल से भरपूर रंग धड़ल्ले से बिकते हैं। यह रंग हमारी त्वचा को कई तरह से नुकसान पहुंचाते हैं। अगर आप अपनी त्वचा को हेल्दी रखना चाहते हैं हर्बल कलर का इस्तेमाल करें।

Holi 2021 How to make herbal colours at home in hindi
herbal colours at home in hindi  

मुख्य बातें

  • केमिकल से भरपूर रंगों से होते हैं कई तरह के स्किन डिजीज, खुजली और रैशेज है आम परेशानी
  • प्राकृतिक चीजों से बने रंग त्वचा के लिए होते हैं बेहद फायदेमंद, घर पर आसानी से बनाए जा सकते हैं यह रंग
  • कई प्राकृतिक चीजों का रंग होता है पक्का, चेहरे के स्वास्थ्य को बढ़ाने में भी करते हैं मदद

रंगों के बिना होली का त्यौहार बिल्कुल फीका लगता है। होली के पर्व पर कुछ हो या ना हो लेकिन रंग और मिठाइयां जरूर होनी चाहिए। त्योहारों के समय, बाजार में मिलने वाली वस्तुओं में मिलावट का स्तर अत्यधिक होता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। होली के पर्व पर सबसे ज्यादा मिलावट रंगों में होता है। बाजार में ऐसे कई केमिकल से भरपूर रंग मौजूद हैं जो तरह-तरह के स्किन डिजीज के कारण बनते हैं। केमिकल से भरपूर रंगों का इस्तेमाल करने से ज्यादा फायदा प्राकृतिक चीजों को उपयोग करके हर्बल रंग बनाने में है। प्राकृतिक चीजों का उपयोग करके रंग बनाने के कई फायदे हैं, जैसे, आप हानिकारक रंगों से बच जाएंगे, दूसरा, यह प्राकृतिक चीजें आपकी त्वचा के लिए लाभदायक साबित होंगी, तीसरा, आपका समय बचेगा और चौथा कि इन महंगे रंगों को ना खरीदकर आपके पैसे भी बचेंगे। 

यहां जानें घर पर प्राकृतिक चीजों का उपयोग करके कैसे बनाएं हर्बल रंग 

इस तरह से बनाएं लाल रंग

होली में सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाला रंग लाल रंग होता है। अगर आप लाल रंग बनाना चाहते हैं तो गुड़हल के फूल के पाउडर को आटे के साथ अच्छे से मिला दीजिए। गीला लाल रंग बनाने के लिए हल्दी को पानी के साथ मिलाइए फिर उसमें नींबू का रस डाल दीजिए। 

हल्दी की मदद से बनाएं पीला रंग

पीला रंग बनाने के लिए सबसे पहले दो चम्मच हल्दी पाउडर लीजिए फिर उसमें हल्दी से दोगुना बेसन डालकर मिला दीजिये। यह मिश्रण त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होता है। आप चाहें तो हल्दी को आटा, मैदा, मुल्तानी मिट्टी और टेलकम पाउडर के साथ भी मिला सकते हैं। 

प्याज और टेसू के फूलों की मदद से बनाएं नारंगी रंग 

नारंगी रंग बनाने के लिए सबसे पहले 11 से 12 बड़े प्याज को चुन लीजिए फिर उन्हें पानी में उबाल लीजिए। उबलने के बाद पानी नारंगी रंग में तब्दील हो जाएगा। आप टेसू के फूलों का उपयोग भी नारंगी रंग बनाने के लिए कर सकते हैं। इसके लिए आपको रात भर टेसू के फूलों को भिगोकर रखना है। सुबह यह पानी नारंगी रंग का हो जाएगा।

पत्तियों से बनाएं हरा रंग

हरे रंग के बिना होली के रंगों का मजा नहीं आता है। अगर आप हरा रंग बनाना चाहते हैं तो पालक, टमाटर, धनिया पुदीने की पत्ती को पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बना लीजिए। इसके साथ आप चाहें तो 3-4 चम्मच मेहंदी को 2 लीटर पानी में भी मिलाकर गीला रंग बना सकते हैं। 

गुड़हल के फूलों से बनाएं नीला रंग

नीला रंग बनाने के लिए सबसे पहले गुड़हल को धूप में सुखा लीजिए फिर उसे पीस लीजिए। पीसने के बाद आपको नीले रंग का प्राकृतिक पाउडर मिल जाएगा। अगर आप गीला नीला रंग चाहते हैं तो काले अंगूर में पानी मिलाकर अच्छी तरह से पीस दीजिए। काले अंगूर के पत्तों को उबालकर भी आप गीला नीला रंग बना सकते हैं। 

अनार से बनाएं गुलाबी रंग 

अनार ना ही सिर्फ खाने में बल्कि गुलाबी रंग बनाने में भी कारगर है। अगर आप गिला गुलाबी रंग चाहते हैं तो अनार के दानों को पानी में मिला दीजिए। 

 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर