Parenting Tips: डांट फटकार से नहीं बनेगी बात, जानें फिर बच्चे की गाली देने की आदत कैसे छुड़ाएं

parenting tips in hindi: परिवार का माहौल और आसपास का वातावरण बच्चों के जीवन में बहुत असर डालता हैं। यदि आपके बच्चे गाली देना सीख गए है, तो डांट फटकार की जगह इन तरीकों से उनकी इस आदत को दूर करें।

how to stop your child from using foul language, how to stop saying bad words, how to make a kid stop saying bad words, how to make your kid stop saying bad words
बच्चे को बुरे शब्द कहने से कैसे रोकें 
मुख्य बातें
  • घर का माहौल बच्चे पर बहुत असर डालता है
  • बच्चे बहुत जल्दी गंदी आदतें सीख जाते हैं
  • जानें बच्चे की गाली देने की आदत को दूर करने का तरीका

Parenting Tips: बच्चे में सीखने की प्रवृत्ति बहुत होती है। यदि बच्चे के आसपास का माहौल खराब हो तो वह बहुत जल्दी खराब चीजें सीख जाते हैं। ऐसे में उनके आसपास के माहौल पर ध्यान देना बेहद जरूरी होता है। यदि आपके बच्चे बाद इन दिनों बात बात पर आपको गाली देना शुरू कर दिए हैं, तो आपको उन्हें मारने के बजाय अच्छी चीजें सिखलाने की कोशिश करनी चाहिए। यह बच्चे की बिगड़ने का अवस्था होती है। तो चलिए आज हम आपको बच्चे के गाली देने की प्रवृत्ति को कैसे दूर किया जा सकता है,उन्हें बताते हैं।

बच्चों की गाली देने की आदत छुड़ाने का तरीका

1. खुद में लाएं बदलाव 

बच्चे वही करते हैं जो बड़े करते है। ऐसे में आपको उनके सामने बहुत अच्छे से पेश आना चाहिए। यदि आप गुस्से में रहेंगे, तो आपके मुंह से कुछ भी गलत शब्द निकल सकता है। आपके बच्चे उस शब्द को बहुत जल्द सीख सकते है। यदि आप अच्छी बातें हमेशा बोलें, तो आपके बच्चे कभी भी गलत बात नहीं बोलेगें।

2. बच्चों को शांति से समझाने की कोशिश करें

बहुत बच्चे अपने बड़े बुजुर्ग को गाली देते समय सुद-बुद खो बैठते हैं। ऐसी स्थिति में उन पर गुस्सा करने के बजाय आपको उन्हीं शांति से समझाने की कोशिश करनी चाहिए। उन्हें समझाना चहिए कि गाली गलौज करना बुरी आदत है। ऐसे शब्द का इस्तेमाल करने से उनसे कोई भी अच्छा आदमी दोस्ती नहीं करेगा।

3. अच्छे शब्दों का महत्व समझाएं

बच्चों को यह समझना बेहद जरूरी है, कि गलत शब्द या गाली गलौज देना कितनी बुरी बात है। यह जानने की कोशिश करें कि आपके बच्चे गाली गलौज कहां से सीख रहे है। उन्हें अच्छे शब्दों का महत्व समझाएं।

4. सही गलत में अंतर समझाएं

बच्चे नादान होते है। वह किसी के साथ बहुत जल्द घुलमिल जाते है। ऐसी अवस्था में उन्हें अच्छे बुरे लोगों का फर्क समझा ना बेहद जरूरी होता हैं। उन्हें यह बताना होगा कि बुरे लोगों के साथ रहने से उनकी आदतें बुरी हो सकती हैं। उन्हें अच्छे लोगों से दोस्ती करने को कहें। ऐसा करने से आपके बच्चे बुरी आदतों से दूर हो सकते है।
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर