Travel Blogger Success Story : नौकरी छोड़ बने ट्रैवल ब्लॉगर, यूट्यूब पर 10 लाख से ज्यादा हैं सब्सक्राइबर

Travel Blogger Varun Vagish Success Story : 15 साल की नौकरी छोड़कर ब्लॉगर बने वरुण वागिश आज सक्सेसफुल ट्रैवल ब्लॉगर हैं। उन्होंने चैनल की शुरुआत 2017 में की थी और आज उनके 10 लाख  से ज्यादा सब्सक्राबर हैं।

Travel blogger Success story in Hindi Varun Vagish quit job for YouTube channel blogger
Varun Vagish  |  तस्वीर साभार: YouTube

मुख्य बातें

  • 15 साल की नौकरी को छोड़, बन गए ट्रैवल ब्लॉगर
  • 10 लाख से ज्यादा हो चुके हैं चैनल सब्सक्राइबर
  • हिन्दी का पहला ऐसा चैनल है, जो पर्यटन को समर्पित है

वरुण वागिश यूट्यूब ट्रैवल ब्लॉगर हैं। वे अपने अनुभवों को साझा करने के लिए इस चैनल को बनाए और देखते ही देखते इनका चैनल इतना पॉपुलर हो गया कि वह अपने इस पैशन को फुल टाइम देने के लिए अपनी 15 साल की नौकरी तक को छोड़ दिए। वह अपनी देश-विदेश की यात्रा के अनुभव, स्थान और कम बजट में कैसे ट्रैवल करें आदि की जानकारी देते हैं। वरुण को इस काम के लिए पर्यटन मंत्रालय द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है। वरुण बचपन से ट्रैवलिंग पसंद करते थे और ट्रेवलिंग को अपना करियर बनाने के लिए उन्होंने क्या कुछ किया आए जानें।

माउंटेन ट्रेकर के नाम से है उनका यूट्यूब चैनल

दिल्ली में अपनी पढ़ाई के दौरान वरुण को जब खाली समय मिलता था वे हिमालय की वादियों में चले जाते थे। यात्रा के प्रति उनका जुनून धीरे-धीरे बढ़ने लगा। पढ़ाई के साथ-साथ वे नौकरी भी करते थे जिससे उनकी यात्रा और रहने का खर्च निकलता रहे। वह मीडिया सेक्टर से जुड़े थे और काम के दौरान  अपने शौक को पूरा करने का समय भी निकाल लेते थे। माउंटेन ट्रेकर के नाम से है उन्होंने 2017 में एक यूट्यूब चैनल बनाया जिसमें लोगों को ट्रैवलिंग्स टिप्स केसाथ अपने अनुभव भी साझा करते हैं। उनके ये टिप्स लोगों को बहुत पसंद आते हैं। वीडियो पर बढ़ते लाइक्स और स्ब्सक्राइबर ने वरुण को फुल टाइम ब्लॉगर बनने की प्रेरणा दी और वह नौकरी छोड़ कर फुल टाइम ट्रैवल ब्लॉगर बन गए हैं।

1 मीलियन से ज्यादा हैं सब्सक्राइबर

भारतीय ट्रैवल ब्लॉगर वरुण वागीश के यूट्यूब चैनल पर अब तक 1 मिलियन यानी दस लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं। बता दें कि वे पहले भारतीय ट्रैवल यूट्यूबर बन गए हैं, जिसके इतने सब्सक्राइबर हों। 13 मार्च को यूट्यूब ने उन्हें 'गोल्डन प्ले बटन' भेजकर इसकी आधिकारिक तौर पर मुहर भी लगा दी है। वरुण वागीश ने पत्रकारिता संस्थान में पढ़ाया भी है। यूपीएससी से रिकमेंड होने के बाद सरकार में उनका नया करियर शुरू हुआ। कई सरकारी संस्थानों मैं वह काम किए। दिल्ली के उप राज्यपाल समेत दिल्ली व केन्द्र सरकार के मंत्रियों के सूचना अधिकारी रह चुके थे।

वरुण दिल्ली के रहने वाले हैं

वरुण वागीश का जन्म दिल्ली में हुआ था, लेकिन उनके पेरेंट्स सरकारी नौकरी में थे उनका जगह-जगह ट्रांसफर होता रहा। आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान में रहने के बाद वरुण आगे की पढ़ाई के लिए दिल्ली आ गए। यहां उन्होंने मास कम्युनिकेशन में स्नातक की पढ़ाई की। वरुण ने मास कम्युनिकेशन में मास्टर्स, एम.फिल और पीएचडी भी किया है।

थाईलैंड और मलेशिया ट्रिप है उनकी फेमस सीरीज

वरुण के ट्रैवल सिरीज में थाईलैंड और मलेशिया ट्रिप सबसे फेमस है क्यों उन्होंने बहुत कम बजट में ये यात्रएं की हैं। वरुण ने थाईलैंड की यात्रा 6000 और मलेशिया की 3000 रुपये में की थी। साथ ही वरुण ने बताया है कि कैसे 10 हजार रुपये से भी कम बजट में 15 दिन तक यूरोप में तीन देशों की सैर की जा सकती है। वरुण अब तक रूस, अमेरिका, कैनडा, थाईलैंड, मलेशिया, इंडोनेशिया, ईजिप्ट, मॉरीशस, तुर्की, जॉर्जिया, इटली, चेक रिपब्लिक, ऑस्ट्रिया, चेकोस्लोवाकिया, कजाकिस्तान, किर्गिज्स्तान, दक्षिण कोरिया की यात्रा कर चुके हैं।  

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर