Pariksha Pe Charcha 2021: पीएम मोदी ने बताए कोरोना काल के फायदे- इसने सोशल डिस्टेंसिंग को मजबूर किया, लेकिन...

Pariksha Pe Charcha 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम के माध्यम से छात्रों, शिक्षकों और माता-पिता से चर्चा की। पहली बार ये कार्यक्रम डिजिटल माध्यम से किया गया।

Pariksha Pe Charcha 2021
परीक्षा पे चर्चा 2021 

Pariksha Pe Charcha 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम के तहत वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से दुनिया भर के छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से संवाद किया। प्रधानमंत्री मोदी साल 2018 से परीक्षा से पहले छात्रों से चर्चा करते रहे हैं। पहली बार इसका आयोजन दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हुआ था। 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम के जरिए वह हर साल छात्रों से संवाद करते हैं और उन्हें परीक्षा के तनाव को दूर करने के उपाय सुझाते हैं। इस बार 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम का आयोजन डिजिटल माध्यम से किया गया।

कोरोना वायरस ने सोशल डिस्टेंसिंग को मजबूर किया, लेकिन इसने परिवारों में भावनात्मक बंधन को मजबूत किया। 

माता-पिता अक्सर एक लक्ष्य निर्धारित करते हैं, एक पैरामीटर बनाते हैं। फिर वे उन सपनों और लक्ष्यों को साकार करने का भार अपने बच्चों पर डालते हैं। वे बच्चों को साधन मानने लगते हैं और जब वे उन्हें उस दिशा में खींचने में असफल होते हैं, तो वे कहते हैं कि बच्चों में प्रेरणा की कमी है। किसी को प्रेरित करने का पहला सबक उचित प्रशिक्षण है। एक बार जब बच्चे का मन प्रशिक्षित हो जाता है, तो प्रेरणा का समय शुरू हो जाता है। प्रशिक्षण के कई तरीके हो सकते हैं- अच्छी किताबें, अच्छी फिल्में, अच्छी कहानियां, अच्छी कविताएं या अच्छे अनुभव। ये सभी प्रशिक्षण के उपकरण हैं।

आजकल बच्चों का आकलन परीक्षा के नतीजों तक ही सीमित हो गया है। परीक्षा में अंकों के अलावा भी बच्चों में कई ऐसी चीजें होती हैं जिन्हें अभिभावक देख नहीं पाते। परीक्षा एक प्रकार से लंबी जिंदगी जीने का अवसर है। समस्या तब होती है, जब हम परीक्षा को जीवन-मरण का सवाल बना देते हैं।

मैं हर माता-पिता से अनुरोध करता हूं कि वे घर पर काम करने वाले लोगों से पूरे सम्मान के साथ व्यवहार करें। बच्चे घर पर छोटी-छोटी चीजों को देखते हैं और उसी व्यवहार को कॉपी करने की कोशिश करते हैं। 

हर कोई सब कुछ नहीं कर सकता है, लेकिन हम कड़ी मेहनत से कुछ भी पूरा कर सकते हैं। यदि आपको कुछ विषय कठिन लगते हैं, तो उससे भागें नहीं। ऐसी कई चीजें होंगी जो आपको कठिन लगीं लेकिन अब आप उन्हें आसानी से कर सकते हैं। जब भी आपको लगे कि आप कुछ भी नहीं कर सकते, तो इन बातों को लिख लें और इस सूची को फिर से देखें। आपके दिन में खाली समय बहुत आवश्यक है अन्यथा हमारा जीवन बहुत नीरस और रोबोट जैसा बन जाएगा। 

चीजों को पसंद और नापसंद करना मानव स्वभाव का हिस्सा हैं। लेकिन हमें अपनी क्षमताओं को समान रूप से वितरित करना सीखना होगा। प्रत्येक विषय को समान रूप से अपना समय दें। एक छात्र को शुरुआत में हमेशा कठिन विषय को पढ़ने का प्रयास करना चाहिए और इसके लिए अधिक समय देना चाहिए। कठिन विषयों को सुबह पढ़ें, इसके बाद आप आसान विषयों की पढ़ाई कर सकते हैं। सुबह मन ताजा रहता है और एकाग्रता भी रहती है। मैं सभी शिक्षकों से अनुरोध करता हूं कि वे अपने छात्रों का समय प्रबंधन पर मार्गदर्शन करें। 

आपको पहले से परीक्षा का पता होता है। वे अचानक नहीं आए हैं। इसका मतलब है कि आप परीक्षा से नहीं बल्कि किसी और चीज से डर रहे हैं। आपके आसपास ऐसा माहौल बनाया गया है कि परीक्षा ही सब कुछ है। कभी-कभी स्कूल, माता-पिता, रिश्तेदार ऐसा माहौल बनाते हैं कि आपको एक बड़ी घटना भारी संकट से गुजरना पड़ता है।

छात्रों और अभिभावकों को परीक्षा को जीवन का अंत नहीं मानना चाहिए। हमें हमेशा अगले प्रयास में बेहतर करने की कोशिश करनी चाहिए। परीक्षा अपने आप को साबित करने का अंतिम मौका नहीं है, लेकिन यह आपके सपनों की ओर पहला कदम उठाने का अवसर है। मैं अभिभावकों से अनुरोध करना चाहता हूं कि वे परीक्षा के लिए बच्चों पर दबाव न डालें। बच्चों को उनकी परीक्षा का आनंद लेने दें। ऐसे समय होते हैं जब माता-पिता और रिश्तेदार छात्रों के लिए तनावपूर्ण माहौल बनाते हैं। अति करने की कोई जरूरत नहीं है, यह केवल शुरुआत है। 

पीएम मोदी ने कहा, 'यह 'परीक्षा पे चर्चा' का पहला वर्चुअल एडिशन है। हम पिछले एक साल से कोरोना के बीच रह रहे हैं। मुझे आप सभी से मिलने और एक नए प्रारूप के माध्यम से आपके पास आने का आग्रह करना पड़ा। आपसे व्यक्तिगत रूप से नहीं मिलना, आपके उत्साह का अनुभव नहीं करना मेरे लिए बहुत बड़ी क्षति है।'

मैं छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों को बताना चाहता हूं कि यह कार्यक्रम परीक्षा से काफी अधिक है, यह बहुत सारे दिलचस्प विषयों को आकर्षित करेगा। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर