JEE Main 2022 Exam Analysis: जेईई मेन की परीक्षा शुरू, पहले दिन की परीक्षा में गणित ने बढाई छात्रों की मुश्किलें

JEE Main 2022 Exam Analysis: संयुक्त प्रवेश परीक्षा, जेईई 2022 की परीक्षा की शुरुआत कल, गुरुवार को 23 जून 2022 को हो गई है। कई छात्रों के अनुसार परीक्षा में पूछे गए गणित के प्रश्न कुछ हद तक कठिन साबित हुए...

JEE Main 2022 Exam Analysis: JEE Main exam 2022 Maths questions were difficult according to a lot of students, see Students reaction
जेईई मेन 2022 की परीक्षा  
मुख्य बातें
  • कल 23 जून, 2022 को जेईई मेन (JEE Main Exam 2022) की परीक्षा की शुरुआत हो गई है।
  • पहले दिन की परीक्षा में गणित के प्रश्न छात्रों को काफी कठिन नजर आए।
  • जेईई मेन की परीक्षा 23 जून से 29 जून तक आयोजित की जा रही है।

JEE Main 2022 Exam Analysis: संयुक्त प्रवेश परीक्षा, जेईई मेन 2022 का आयोजन शुरू हो गया है। पहले दिन की परीक्षा 23 जून को आयोजित की गई है। छात्रों के लिए पहले दिन की परीक्षा एक रोलर कोस्टर राइड की तरह रही है। एक तरफ जहां गणित ने छात्रों को उलझन में डाल दिया, वहीं ड्राइंग व एप्टीटयूड के प्रश्नों ने छात्रों को राहत भरी सांस दी।  गणित में 25 प्रश्न, ड्राइंग में दो प्रश्न और एप्टीट्यूड टेस्ट में 50 प्रश्न पूछे गए थे। पहले दिन की परीक्षा देकर लौटे छात्रों के अनुसार बी आर्क व बी प्लानिंग में गणित के प्रश्न कुछ उलझाने वाले और कठिन थे। जिसने छात्रों को मुश्किलों में डाल दिया। वहीं छात्रों ने बताया कि ड्राइंग व एप्टीटयूड के प्रश्न गणित के मुकाबले आसान थे।

बता दें कि पहले दिन बीआर्क के लिए पेपर टू ए और बी प्लानिंग के लिए पेपर टू बी की परीक्षा आयोजित की गई थी। जेईई मेन बीआर्क और बी प्लानिंग पेपर दो शिफ्टों में आयोजित की जा रही थी। वहीं परीक्षा के कुल 400 अंक निर्धारित किए गए हैं। जेईई मेन की परीक्षा 23 जून से लगातार 29 जून तक देशभर के छात्रों के लिए आयोजित की जाएगी। इसके साथ ही बता दें कि परीक्षा सीबीटी मोड में आयोजित की जा रही है। 

Read More- इस दिन हिमाचल प्रदेश बोर्ड जारी कर सकता है कक्षा 10वीं के रिजल्ट, देखें ताजा अपडेट

छात्रों ने पेपर के बारे में क्या कहा?

कुछ परीक्षा केंद्रों से लौट छात्रों के अनुसार परीक्षा का स्तर सामान्य ही था। हालांकि गणित के प्रश्न यकीनन मुश्किल थे और कन्फ्यूजन पैदा करने वाले थे। इन प्रश्नों को हल करने में जरूरत से ज्यादा समय भी देना पड़ा। वह छात्र जिनकी मैथ्स एक कमजोर कड़ी है उनके लिए यह परीक्षा और भी कठिन साबित हुई। नेगेटिव मार्किंग के कारण छात्र जब तक उत्तर को लेकर पूरी तरह से स्योर नहीं थे वह तब तक उसका उत्तर नहीं लिख सकते थे। हालांकि कुछ छात्रों के अनुसार अगर गणित को छोड़ दें तो बाकी विषयों से संबंधित प्रश्न अत्यधिक कठिन नहीं थे, जिस कारण से कुल मिलाकर पेपर भी अच्छा गया।  

आरएफएस के निर्देशक राज चित्रकार के अनुसार गणित, एप्टीट्यूड और ड्राइंग में बेहतर प्रदर्शन करने वालों के अंक अच्छे आ सकते हैं। परीक्षा की पहली शिफ्ट सुबह 9 बजे से 12 बजे और दूसरी शिफ्ट दोपहर 3 बजे स शाम 6 बजे तक आयोजित की गई थी।

Read More- एसएससी सीजीएल टियर 1 रिजल्ट कब, क​हां और कैसे करें चेक

जेईई मेन परीक्षा के साथ ही शुक्रवार से एनआईटी में नामांकन के लिए भी परीक्षा आयोजित की जा रही है। देशभर में 501 शहरों में परीक्षा केंद्रों में आयोजन किया गया है। इस परीक्षा के लिए बिहार में पटना समेत 35 अन्य शहरों में परीक्षा केंद्रों का गठन किया गया है। वहीं इन परीक्षाओं में बिहार के लगभग 70 हजार से अधिक छात्र परीक्षा में शामिल होंगे। इसके साथ ही देश के बाहर भी 22 शहरों में ऑनलाइन मोड में परीक्षा का आयोजन होना है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर