IAS preparation Tips: UPSC परीक्षा में सफलता के लिए मात्रा नहीं गुणवत्ता जरूरी

IAS के उम्मीदवार को तैयारी के दौरान केवल अध्ययन करने की अवधि की गणना नहीं करनी चाहिए बल्कि उसने क्या और कैसे अध्ययन किया इस पर ध्यान देना जरूरी है ।

 IAS preparation Tips:
IAS preparation Tips: आईएस परीक्षा के टिप्स  |  तस्वीर साभार: Shutterstock

मुख्य बातें

  • IAS परीक्षा में मात्रा की बजाय गुणवत्ता वाली पढ़ाई अहम
  • हार्ड वर्क के साथ परीक्षा की तैयारी में स्मार्ट वर्क भी जरूरी
  • परीक्षा की तैयारी के साथ अपनी रूचि पर भी ध्यान देने की जरूरत

नई दिल्ली:  देश की सबसे प्रतिष्ठित और कठिन परीक्षाओं में से एक यूपीएससी की आईएएस परीक्षा पास करने का ख्याल जब किसी कैंडिडेट के मन में आता है तो सबसे पहले सवाल उठता है कि उसे किस प्रकार की तैयारी की आवश्यकता  पड़ेगी। कहां से शुरू करें, स्टडी मैटीरियल कैसे मिलता है, सिलेबस कहां से देखें, कोचिंग कौन सी चुने । इसके साथ ही सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न हमारे दिमाग में आता है कि हमें इसके लिए कितनी मेहनत की आवश्यकता है और हमें प्रत्येक दिन कितना समय अध्ययन पर देना चाहिए। 

सिविल सर्विसेज यानी संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी करते समय यह जरूरी होता है कि आप जितनी देर भी पढ़ रहे हैं, उसमें आपका मन कितना लगा। घड़ी की सुई में घंटे देखने से कोई लाभ नहीं होता। यहां आपको किसी और को नहीं दिखाना होता है कि आप इतने घंटे से पढ़ रहे हैं या आपने इतने घंटे की पढ़ाई की बल्कि आपको खुद को बताना है कि कुल पढ़ाई के घंटों में आपने कितनी तैयारी की। आपने जो पढ़ा वह आपको कितना समझ आया, यानि कि एक आईएएस के उम्मीदवार को तैयारी के दौरान केवल अध्ययन करने की अवधि की गणना नहीं करनी चाहिए । बल्कि उसने क्या और कैसे अध्ययन किया इस पर ध्यान देना चाहिए। क्योंकि यहीं चीज परीक्षा में आपके सफलता का माध्यम बनेगी।

मात्रा नहीं गुणवत्ता अहम

उदाहरण के तौर पर एक आईएएस की तैयारी करनेवाला उम्मीदवार 17 से 18 घंटे तक कुर्सी पर बैठकर अध्ययन करता हैं लेकिन उनका ध्यान विषय पर केंद्रित न होकर अन्य जगह होता है जिसके फलस्वरूप वह संबंधित विषयों को अच्छी तरह नहीं समझ पाते और यही उनकी असफलता का कारण बन जाता है। हालांकि जब बात आईएएस जैसे एग्जाम पास करने की हो तो एक दिन में 10 से 12 घंटे की पढ़ाई आपके लिए जरुरी हो जाती है। अगर किसी दिन नियमित अवधि की पूर्ति करने में असफल होते हैं जो अगले दिन उसका समायोजन जरूर कर लें। 

स्मार्ट वर्क की आवश्यकता

प्रतिवर्ष लाखों उम्मीदवार यूपीएससी परीक्षा में भाग लेते हैं लेकिन उनके  द्वारा की गई कठोर मेहनत सही दिशा में की गई तैयारी से ही इस परीक्षा में सफलता सुनिश्चित होती है । आईएएस परीक्षा में एक कड़ी मेहनत के साथ-साथ एक स्मार्ट सोच और रणनीति का भी बहुत बड़ा योगदान होता है। कई उम्मीदवार इस परीक्षा में काफी समय देते हैं और इसके बावजूद भी वह सफलता हासिल नहीं कर पाते हैं । इसका प्रमुख कारण यह है कि वह केवल हार्ड वर्क  करते हैं जबकि यदि हम इस परीक्षा की प्रकृति को देखें तो इसमें सफल होने के लिए एक विशेष अथवा स्मार्ट वर्क की आवश्यकता है । यही स्मार्ट वर्क या रणनीतिबद्ध तैयारी आपकी सफलता का मूलमंत्र साबित हो सकती है। परिश्रम के साथ आपकी रणनीति,सोच ये सब अहम योगदान निभाते हैं और यही सब कुछ आपकी कामयाबी में सहायक सिद्ध होता है।
 
तैयारी के साथ अपनी रूचि पर दें विशेष ध्यान
  
आईएएस परीक्षा की तैयारी के साथ साथ दिमागी संतुलन को बनाए रखने के लिए विश्राम करना भी आवश्यक है । इसलिए दिन में 6 से 7 घंटे आराम के साथ अपनी नींद को पूरी करें । इसके साथ कुछ समय अपनी रूचि के अनुसार अन्य विषयों पर भी समय दें जिससे आप तरोताजा महसूस कर सकें। इस बात को याद रखें कि आधी-अधूरी नींद या फिर बगैर विश्राम के आपकी तैयारी बोझिल होगी। इसलिए हर दिन पर्याप्त नींद और जब जरूरी हो विश्राम जरूरी है। 
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर