ये कैसी प्रथा? बारिश के लिए ग्रामीणों ने लड़कियों को नग्न कर परेड कराई

मध्य प्रदेश के दमोह में एक गांव में बारिश के लिए नाबालिग लड़कियों को नग्न कर परेड कराई गई। ग्रामीणों का मानना है कि इससे बारिश के देवता खुश हो जाएंगे और बारिश हो जाएगी।

damoh
दमोह जिले के एक गांव की है घटना 

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के दमोह जिले के एक गांव में नाबालिग लड़कियों को कथित तौर पर नग्न अवस्था में चलने के लिए मजबूर किया गया। ये कदम एक अनुष्ठान का हिस्सा है जो बारिश के देवताओं को खुश करने के लिए किया जाता है। कथित तौर पर जब उन्हें नग्न परेड कराया जा रहा था, तब लड़कियों के कंधों पर मेंढ़कों के साथ लकड़ी के शाफ्ट को बांध दिया गया था।

अनुष्ठान में भाग ले रही स्थानीय महिलाओं ने Mirror Now को बताया कि उनकी फसल सूख गई है और वे बारिश का बेसब्री से इंतजार कर रही हैं। बारिश की कमी से निपटने के प्रयास में गांव की छोटी लड़कियों को नग्न घूमने के लिए मजबूर किया गया। 

एक महिला ने कहा कि ये प्रथा बारिश के देवताओं को खुश करने और क्षेत्र में भारी बारिश सुनिश्चित करने का एक प्रयास है। घटना के वीडियो में महिलाओं को नग्न लड़कियों के पीछे खड़े होकर गाना गाते देखा जा सकता है। अनुष्ठान की विचित्र प्रकृति से बेखबर दिखने वाली महिलाओं को ताली बजाते और मुस्कुराते हुए देखा जा सकता है।

यह पहली ऐसी घटना नहीं है जहां लोगों ने बारिश के देवताओं को खुश करने के लिए अंधविश्वास का सहारा लिया हो। इस साल जनवरी में बुंदेलखंड में ग्रामीणों ने बारिश के देवताओं को खुश करने के लिए कुत्तों की शादी का आयोजन किया और लगभग 800 लोगों के लिए एक भोज का आयोजन किया।
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर