दिल्ली में गैंगवार: ताबड़तोड़ फायरिंग में गैंगस्टर जितेंद्र गोगी की मौत, वकील बनकर आए दो हमलावर भी ढेर

दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में दो गुटों में जमकर गोलीबारी हुई। इस फायरिंग गैंगस्टर जितेंद्र गोगी समेत तीन बदमाश ढेर हो गए।

Delhi's top gangster Jitendra Gogi shot dead in Rohini court
दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में गोलीबारी 

मुख्य बातें

  • दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में दो गैंगस्टर गुटों में फायरिंग हुई।
  • टिल्लू गैंग ने गैंगस्टर जितेंद्र गोगी पर हमला किया।
  • इस गोलीबारी में तीन बदमाशों की मौत हो गई।

नई दिल्ली: दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में दो गुटों में जमकर फायरिंग हुई। करीब 40 राउंट गोलियां चलीं। कोर्ट नंबर 206 और 207 के सामने फायरिंग हुई। हमलावर वकील की ड्रेस में आए थे। दिल्ली पुलिस ने कहा कि इस हमले में तीन बदमाश मारे गए। टिल्लू गैंग ने गैंगस्टर जितेंद्र गोगी पर हमला किया। गोगी दिल्ली-एनसीआर का जाना-माना गैंगस्टर था। गोगी तिहाड़ जेल में बंद था। सुनवाई के लिए रोहिणी कोर्ट लाया गया था। इस हमले में गोगी मारा गया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में राहुल और मौरिश नाम के बदमाश को मार गिराया। फायरिंग के वक्त कोर्ट में जज मौजूद थे। राहुल और मौरिश टिल्लू गैंग का बदमाश था। 

रोहिणी कोर्ट संयुक्त सचिव अरविंद वत्स ने टाइम्स नाउ को बताया कि पुलिस अधिकारी वहां थे। लेकिन कम संख्या में थे। बड़ा सवाल यह है कि हथियार कोर्ट तक कैसे पहुंचते हैं। हमने अधिक सुरक्षा के लिए कई बार अनुरोध किया है। सुरक्षा की समुचित व्यवस्था नहीं थी। गार्ड उतने कारगर नहीं है।

डीसीपी रोहिणी ने कहा कि पुलिस द्वारा सुनवाई के लिए दिल्ली के रोहिणी कोर्ट लाए जाने पर हमलावरों ने गैंगस्टर जितेंद्र मान 'गोगी' पर गोलियां चला दीं। जवाबी कार्रवाई में दो हमलावर मारे गए।

घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए रोहिणी कोर्ट के उपाध्यक्ष शिल्पेश चौधरी ने टाइम्स नाउ को बताया कि यह एक बड़ी सुरक्षा चूक है। मैं बार ऑफिस में था। जब हमने फायरिंग की आवाज सुनी तो हम वहां गए। दोनों आरोपी वर्दी में आए थे। एक वकील की। पुलिस ने उन्हें बेअसर कर दिया।

यह घटना राष्ट्रीय राजधानी में कानून और व्यवस्था की स्थिति की दुर्दशा को सामने लाती है, जहां कई राउंड फायरिंग की गई, जिसमें कई लोगों की जान चली गई और अपराधियों, पुलिस और वकीलों को भी गंभीर चोटें आईं। दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने प्रेस को जानकारी देते हुए बताया कि हमलावरों को मार गिराया गया है और मामले की तह तक जाने के लिए त्वरित जांच शुरू कर दी गई है।

मार्च में कुलदीप फाचा जीटीबी अस्पताल से फरार हो गया था। उनके दो साथियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। तीन दिन बाद फाचा की एक अपार्टमेंट में गोली मारकर हत्या कर दी गई।

दिसंबर 2015: कड़कड़डूमा कोर्ट परिसर में कांस्टेबल की मौत और 2 घायल।
नवंबर 2017: नीरज बवानिया गिरोह ने रोहिणी कोर्ट परिसर में विचाराधीन विचाराधीन की गोली मारकर हत्या कर दी।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर