मेरठ में अवैध रूप से छपी NCERT की 1.5 लाख किताबें बरामद, किंगपिन और किताबों को जलाकर हुआ फरार

Seizure of illegal books: मेरठ में मिलिटी इंटेलिजेंस और स्थानीय पुलिस की टीम ने एक गोडाउन पर छापेमारी की जिसमें डेढ़ लाख से अधिक एनसीईआरटी की किताबें बरामद की गईं जिसकी कीमत करीब 50 करोड़ रुपए है।

मेरठ में अवैध रूप से छपी 1.5 लाख NCERT की किताबें बरामद, किंगपिन और किताबों को जलाकर हुआ फरार
मेरठ में मिलिट्री इंटेलिजेंस ने की थी छापेमारी 

मुख्य बातें

  • एनसीईआरटी की अवैध रूप से छपीं 1.5 लाख किताबें बरामद
  • बाजार में किताबों का मूल्य करीब 50 करोड़ रुपए
  • गोदाम का सरगना और किताबों को जलाकर हुआ फरार

मेरठ। मिलिट्री इंटेलिजेंस (एमआई) की एक संयुक्त टीम, यूपी एसटीएफ और स्थानीय पुलिस ने काशीगांव के पास एक गोडाउन सुविधा पर छापा मारा। संयुक्त टीम ने 1,50,000 से अधिक अवैध रूप से मुद्रित एनसीईआरटी पुस्तकों को जब्त करने के लिए जिसकी कीमत 50 करोड़ रुपये से अधिक है। लेकिन मोहकमपुर एन्क्लेव में मुख्य कारखाने में इसी तरह की किताबें जलाने के बाद किंगपिन सचिन गुप्ता गायब हो गए हैं। स्थानीय एमआई अधिकारियों काशीगाँव, ऐन्क्लेडा रोड के पास एक गोदाम में संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी मिली थी। 

मेरठ में किताबों की बड़ी खेप बरामद
स्वतंत्रता दिवस से पहले देश विरोधी गतिविधियों की किसी भी संभावना को नियंत्रित करने के लिए, एमआई की निगरानी ने सुविधा की गहन निगरानी की। आगे के इनपुट्स को इकट्ठा करने के बाद, यह पता चला कि उक्त सुविधा एनसीईआरटी की अवैध रूप से मुद्रित पुस्तकों की बड़ी संख्या है। इनपुट को आगे यूपी पुलिस के स्थानीय विशेष कार्य बल (एसटीएफ) के साथ साझा किया गया और इसे संयुक्त रूप से विकसित किया गया।

पूरी तैयारी के बाद छापेमारी
पूरी तैयारी के बाद शुक्रवार को लगभग 2:30 बजे एमआई, यूपी एसटीएफ और स्थानीय पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा छापेमारी की गई। छापामार दल ने जब  रिकवरी की तो वो हर किसी के लिए चौंकाने वाली थी। भारी मात्रा में पुस्तकों की हुई बरामदगी को गिना जाना बाकी है। बताया जा रहा है कि  कक्षा 1 से शुरू होने वाली विभिन्न कक्षाओं के लिए गैर-कानूनी रूप से मुद्रित एनसीईआरटी की किताबें 1,50,000 से अधिक हैं। इन पुस्तकों की अनुमानित अनुमानित कीमत रु .50 करोड़ से अधिक है।

उत्तराखंड और दिल्ली तक होती थी सप्लाई
यह पता चला है कि इन पुस्तकों को यूपी, उत्तराखंड और दिल्ली सहित कई राज्यों में खरीदारों को आपूर्ति की जा रही थी। कथित तौर पर किसी भी संदेह से बचने के लिए पुस्तकों को बीजेपी के झंडे के साथ वाहनों में स्थानांतरित किया गया था। पुलिस ने शुभम (30 वर्ष) और 5 महिला श्रमिकों सहित 17 पुरुष कार्यकर्ता को पकड़ा गया। महिला श्रमिकों को बाद में जाने दिया गया, हालांकि सभी पुरुष श्रमिकों को अभी भी हिरासत में रखा गया है और पूछताछ जारी है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर