पिता को भीख मांगने से किया मना, बात नहीं मानी तो बेटे ने पीट-पीटकर मार डाला

बेटा नशे की हालत में पिता से मिलने गया था। उसी दौरान बेटे ने तैश में आकर पिता को लकड़ी के डंडे से पीटना शुरू कर दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी बेटा फरार है।

Crime News
सांकेतिक फोटो 

मुख्य बातें

  • एक बेटे ने अपने बुजुर्ग पिता की पीट-पीटकर हत्या कर दी
  • पिता को भीख मांगने की आदत थी, जिससे बेटा नाराज था
  • पिता भोजन और चाय के लिए भीख मांगता था

नई दिल्ली: तमिलनाडु के सेलम में एक शख्स ने अपने पिता की भीख मांगने की आदत के चलते हत्या कर दी। बेटे ने  शनिवार की रात कहासुनी के बाद पिता को पीट-पीटकर कर मौत के घाट उतार दिया। घटना सुक्कमपट्टी के गांधी नगर कॉलोनी की है। आरोपी की पहचान 47 साल के पेरियासामी जबकि मृतक की 75 वर्षीय सीथामलाई के रूप में की गई है। हत्या की वारदात को अंजाम देने के आरोपी बेटा फरार है। मामला सामने आने पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए स्पेशल टीमों का गठन किया है। 

भोजन और चाय के लिए मांगी भीख

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, सीथामलाई गांधी नगर कॉलोनी में अकेला रहता था। उसकी पत्नी का निधन हो चुका है। उसके दो बेटे पेरियासामी और मुरुगेसन हैं, जो अपने परिवारों के साथ उसी कॉलोनी में रहते हैं। इसके अलावा सीथामलाई की एक बेटी है, जिसकी शादी हो चुकी है। एक जांच अधिकारी ने कहा कि सीथामलाई सुक्कमपट्टी के मेन रोड पर राहगीरों से भोजन और चाय के लिए पैसे मांगता था। बेटों ने पिता को भीख मांगने से मना किया। लेकिन सीथामलाई ने बेटों की बात  पर ध्यान नहीं दिया और भीख मांगना जारी रखा।

तैश में आकर लकड़ी के डंडे से पीटा

अधिकारी ने बताया कि शनिवार की रात को पेरियासामी अपने पिता के पास नशे में धुत होकर पहुंचा। पेरियासामी ने पिता से लोगों से भीख मांगने को लेकर बात की। इसके बाद सीथामलाई ने अपने बेटे को गाली दी, जिससे वह भड़क उठा। उसने तैश में आकर लकड़ी के डंडे से पिता को पीटा और घर से भाग गया। सीथामलाई को सिर में गंभीर चोट लगी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। रविवार सुबह को जब पड़ोसियों ने सीथामलाई को मृत पाया तो पुलिस को सूचित किया। सलेम शहर के पुलिस आयुक्त सेंथिल कुमार ने कातिल को पकड़ने के लिए स्पेशल टीमें बनाई हैं और आगे की जांच जारी है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर