मुंद्रा बंदरगाह ड्रग केस में दो तस्कर कबीर तलवार और प्रिंस शर्मा गिरफ्तार, इनके धन में अचानक हुई थी वृद्धि, बॉलीवुड से भी है लिंक

मुंद्रा बंदरगाह ड्रग केस में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने 20 स्थानों पर छापे मारे। उसके बाद दिल्ली से हरप्रीत सिंह उर्फ कबीर तलवार और प्रिंस शर्मा को गिरफ्तार किया। पोर्ट से करीब तीन हजार किलो हेरोइन जब्त की गई थी।

Mundra port drug case, two smugglers arrested from Delhi, there was a sudden increase in their wealth, have link with Bollywood
मुंद्रा बंदरगाह ड्रग केस में दो गिरफ्तार (तस्वीर-istock)  |  तस्वीर साभार: Representative Image

नई दिल्ली:  मुंद्रा बंदरगाह पर 13 अगस्त को 2988 किलोग्राम हेरोइन की जब्ती के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने एक प्रेस रिलीज में कहा कि 24 अगस्त को विभिन्न राज्यों (दिल्ली-14, गुजरात-2, पंजाब-1, और पश्चिम बंगाल-3) में 20 स्थानों पर एक साथ तलाशी लेने के बाद दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अब तक की जांच और तलाशी के दौरान मिले आपत्तिजनक सबूतों के आधार पर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी समुद्री रास्ते से अफगानिस्तान से आयात की खेप के जरिए हेरोइन की तस्करी में शामिल थे। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान हरप्रीत सिंह तलवार और प्रिंस शर्मा की रूप में गई है। दोनों दिल्ली के रहने वाले हैं। हरप्रीत सिंह को कबीर तलवार के नाम से भी जाना जाता है। कुछ वर्षों में इनके धन में अचानक वृद्धि हो गई थी।

वे अफगानिस्तान से भारत में बड़ी मात्रा में हेरोइन की तस्करी में शामिल एक अंतरराष्ट्रीय ड्रग तस्करी नेटवर्क के हिस्सा थे। हेरोइन को सेमी प्रोसेस्ड टेल्क, बिटुमिनस कोल आदि सामग्री के आयात की खेप में छुपा कर लाते थे। करीब 3000 किलोग्राम हेरोइन की ऐसी एक खेप को मुंद्रा बंदरगाह पर रोका गया और जब्त किया गया। आरोपी व्यक्ति फर्जी आयात कंपनियों के माध्यम से नशीले पदार्थों के आयात में शामिल थे और दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, यूपी, आदि सहित कई राज्यों में हेरोइन के प्यूरिफिकेशन और वितरण में शामिल दिल्ली स्थित अफगान नागरिकों को इसके परिवहन की सुविधा प्रदान करते थे।

हरप्रीत उर्फ कबीर तलवार दिल्ली और चंडीगढ़ में पब की टॉप चेन के मालिक हैं। उनके गोदामों का उपयोग हेरोइन को स्टोर करने के लिए किया जाता था जिसे स्टोन टैल्क के रूप में आयात किया जा रहा था। वह पहले कई हेरोइन की खेप में शामिल था जो कानून प्रवर्तन एजेंसियों की निगरानी से बच गई थी। कबीर तीन क्लबों (द व्हाइट, rsvp और जज़्बा) के को-प्रमोटर भी हैं जिन्हें द व्हाइट खोजा गया था। जो दिसंबर 2021 में सम्राट में प्लेबॉय के स्थान पर आया था। कहा जाता है कि उनके बॉलीवुड लिंक भी हैं। जांच पूरी आपूर्ति सीरीज और मनी लॉन्ड्रिंग, ड्रग वितरण और इस अंतरराष्ट्रीय ड्रग नेटवर्क में शामिल अन्य प्लेयईस के नेटवर्क को उजागर करने के लिए जारी है।
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर