दिल्ली पुलिस ने पकड़ा जैश का आतंकी, डासना पुजारी यति नरसिंहानंद की हत्या की थी योजना

क्राइम
Updated May 17, 2021 | 16:10 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

दिल्ली पुलिस ने पहाड़गंज के एक होटल से एक मोहम्मद डार के नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है, जो कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े आबिद के इशारे पर यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या की योजना बना रहा था।

Yeti Narasimhanand Saraswati
यति नरसिंहानंद सरस्वती 

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने 24 साल के कथित जैश-ए-मोहम्मद (JeM) आतंकवादी की गिरफ्तारी की है। इसके साथ दावा किया जा रहा है कि डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ हत्या की साजिश का खुलासा कर दिया गया है। मोहम्मद डार के रूप में पहचाने जाने वाले आरोपी को मध्य दिल्ली के पहाड़गंज के एक होटल से गिरफ्तार किया गया। कथित तौर पर उसे 41,000 रुपए का भुगतान किया गया था। 

पुलिस ने कहा कि कश्मीर के पुलवामा जिले के डार को पहाड़गंज के एक होटल से गिरफ्तार किया गया। एक अधिकारी ने कहा, 'उसके सामान की तलाशी के दौरान, पुलिस ने एक .30 बोर की पिस्तौल के साथ दो मैगजीन और 15 गोलियां, एक नारंगी रंग का कुर्ता और सफेद रंग का पायजामा, कलावा का एक टुकड़ा और मोतियों की एक माला बरामद की।'

आबिद ने सौंपा नरसिंहानंद की हत्या का काम

पुलिस ने कहा कि पूछताछ के दौरान डार ने उन्हें बताया कि वह बढ़ई है और  दिसंबर 2020 में अपने घर के पास आबिद नाम के शख्स से मिला। आबिद ने डार से कहा कि वह पाकिस्तान से है और जैश से जुड़ा है। वे अच्छे दोस्त बन गए और 11 अप्रैल को वे फिर मिले। वे व्हाट्सएप पर लगातार एक-दूसरे के संपर्क में थे। फरवरी में डार अपनी बहन और ससुर के साथ दिल की बीमारी से पीड़ित अपने भतीजे के इलाज के लिए दिल्ली आया था। एक बार जब वह कश्मीर लौटा, तो आबिद ने उसे यति नरसिंहानंद की हत्या का काम सौंपा।

पुलिस ने कहा कि आबिद ने उसे प्रशिक्षित किया और उसे 6500 रुपए नकद भी दिए। उसने उसके खाते में 35,000 रुपए भी ट्रांसफर किए और उसे दिल्ली में अपने दोस्त से एक हथियार खरीदने के लिए कहा। अधिकारी ने कहा, 'उसे मंदिर में प्रवेश करने के लिए गेटअप बदलने के लिए कहा गया। पुलिस अब आबिद के दोस्त की तलाश कर रही है, जिसने उसे हथियार मुहैया कराए।'

मंदिर में घुसने पर मुस्लिम युवक की पिटाई

दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पैगंबर पर अपनी टिप्पणी से धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पहले ही प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है। डार को पुजारी के वीडियो भी दिखाए जो उनके विवादास्पद बयानों के लिए वायरल हुए थे। स्वामी यति नरसिंहानंद उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी हैं। वह पहली बार मार्च में सुर्खियों में आए थे जब एक 14 साल के मुस्लिम लड़के को पुजारी के शिष्य ने मंदिर परिसर में प्रवेश करने की कोशिश करने पर पीटा था। मंदिर के मुख्य द्वार पर लिखा हुआ है, 'यह मंदिर हिंदुओं का पवित्र स्थल है, यहां मुसलमानों का प्रवेश वर्जित है।'

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर