आतंकवादियों ने फुटबॉल पिच पर 50 से ज्यादा लोगों का सिर किया कलम, शवों को टुकड़े-टुकड़े कर डाले

आतंकवादियों ने महिला ग्रामीणों का अपहरण करने के बाद फुटबॉल पिट पर 50 से ज्यादा लोगों के सिर काटकर अलग कर दिया।

Islamist militants beheaded more than 50 people on football pitch, chopped dead bodies to pieces
फुटबॉल पिच पर नरसंहार 

मुख्य बातें

  • आतंकवादियों ने फुटबॉल की पिच पर नरसंहार किया
  • पिच पर ही 50 से अधिक लोगों को मार कर टुकड़े-टुकड़े कर डाले
  • आईएसआईएस आतंकियों का इस इलाके में सबसे भीषण हमला था

आतंकवादियों ने महिला ग्रामीणों का अपहरण करने के बाद फुटबॉल पिच पर 50 से ज्यादा लोगों का सिर कलम कर दिया। उसके बाद शवों को टुकड़ों-टुकड़ों में काट डाला। आतंकियों ने भीषण हमला किया और अपहृत महिलाओं समेत 50 से अधिक पीड़ितों मार कर टुकड़े-टुकड़े कर डाले। फुटबॉल की पिच को युद्ध के मैदान में बदल दिया। जहां तहां शव शव बिखरे पाए गए।

ऐसा माना जाता है कि मृतकों में कम से कम 15 लड़के थे और कुछ मृतक पुरुष दीक्षा समारोह में भाग लेने वाले किशोर थे। यह हमला आईएसआईएस से जुड़े चरमपंथियों द्वारा मोजाम्बिक में जिहादी हिंसा की बढ़ती लहर की लेटेस्ट घटना है। बीबीसी समाचार के अनुसार, बंदूकधारियों में से कुछ ने कहा है कि जब उन्होंने एक गांव में छापा मारा और कुछ महिलाओं को अगवा कर लिया था, जबकि अन्य लोग मुताइड के पास मारे गए।

आतंकवादियों ने 'अल्लाहू अकबर' का जाप किया। उन्होंने शुक्रवार रात को नानजबा गांव में छापा मारा और घरों में आग लगा दी। राज्य की मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए, बीबीसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ अन्य लोग भी दूसरे गांव में जा रहे थे। 2017 के बाद से काबो डेलगाडो प्रांत में आतंकवादियों द्वारा किए गए हमलों की सीरीज की ये हत्याएं नवीनतम हैं। कम से कम 2,000 लोग मारे गए हैं और 400,000 से अधिक लोगों को मुख्य रूप से आतंकियों के वर्चस्व वाले संघर्षग्रस्त प्रांत में बेघर कर दिया गया है।

इस इलाके में आईएस से जुड़े आतंकवादियों ने आतंकी ग्रुप को दक्षिणी अफ्रीका में काम करने के लिए पैर जमाने दिए हैं। इस क्षेत्र में इस्लामिक शासन स्थापित करने के उद्देश्य से समूह ने बेरोजगारी और गरीबी का फायदा उठाया है ताकि युवाओं को अपनी रैंक में भर्ती किया जा सके। प्रांत के स्थानीय निवासियों की शिकायत है कि इसके गैस और रूबी उद्योगों के बावजूद, उन्हें इससे बहुत कम लाभ हुआ है। ताजा हमला आतंकवादियों द्वारा किए गए हमलों की सीरीज में सबसे भीषण बताया जाता है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर