PUBG के चक्कर में दादा जी के पेंशन अकाउंट से उड़ाए 2 लाख से ज्यादा रुपए, साइबर जांच में हैरान करने वाला खुलासा

15 साल के लड़के ने अपने दादा जी के पेंशन अकाउंट से 2 लाख से ज्यादा की रकम निकाली क्योंकि उसे पबजी गेम का आनंद लेना था।

pubg game
पबजी गेम  |  तस्वीर साभार: Representative Image

नई दिल्ली : 15 वर्षीय एक लड़के ने अपने दादा जी के पेंशन से 2.34 लाख रुपए दो महीने के भीतर उड़ा दिए। जब बुजुर्ग को मैसेज के जरिए पैसे ट्रांसफर होने की जानकारी मिली तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। इसके पीछे की वजह हैरत में डालने वाली है। लड़के ने पबजी गेम खेलने के लिए दादा जी के पेंशन अकाउंट से पैसे उड़ाए थे। दिल्ली पुलिस के हवाले से ये जानकारी सामने आई है।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने बताया कि 15 साल के लड़के ने अपने दादा जी के पेंशन अकाउंट से इतनी बड़ी रकम निकाली और वह पबजी गेम में फंड कर उसका आनंद लूट रहा था। ऐसा वह महीनों से कर रहा था।

शिकायतकर्ता द्वारा अपने मोबाइल फोन पर एक संदेश प्राप्त होने के बाद मामला प्रकाश में आया। मोबाइल पर आए मैसेज के मुताबिक शिकायतकर्ता के अकाउंट से कि 2,500 रुपये डेबिट किए गए थे जिसके बाद उनके पास 275 रुपये बचे हुए थे। उन्होंने तुरंत अपने बैंक से संपर्क किया जहां उन्हें बताया गया उनके पेंशन खाते से 2.34 लाख रुपये स्थानांतरित किए गए हैं।

शिकायतकर्ता ने इसके बाद पुलिस से संपर्क किया और इस बात की रिपोर्ट दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि हाल के महीनों में उन्होंने कोई बड़ा लेनदेन नहीं किया है और ओटीपी भी प्राप्त नहीं किया है।

साइबर सेल ने पाया कि शिकायतकर्ता के खाते से दो महीने की अवधि में 2,34,497 रुपये स्थानांतरित किए गए थे। पुलिस को पता चला कि भुगतान 23 वर्षीय पंकज कुमार के नाम से पंजीकृत एक पेटीएम खाते में किया जा रहा था।
साइबर सेल ने पंकज कुमार को गिरफ्तार किया और पूछताछ के बाद पाया कि उसके एक दोस्त ने उससे उसकी आईडी और पेटीएम अकाउंट का पासवर्ड मांगा था।

पुलिस ने जांच में पाया कि इस व्यक्ति ने PUBG के लिए Google Play पर भुगतान करने के लिए पंकज के खाते का उपयोग किया था। इस व्यक्ति की पहचान बाद में शिकायतकर्ता के पोते के रूप में हुई और उसे पकड़ लिया गया। 15 वर्षीय लड़के ने स्वीकार किया कि उसने PUBG खेलने के लिए अपने दादा के खाते से पैसे ट्रांसफर किए थे। लड़के ने कहा कि वह बैंक खाते की हैकिंग के संदेह से बचने के लिए अपने दादा के मोबाइल फोन से ओटीपी संदेश हटाता था।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर