ENG vs WI: खत्म हुआ 13 साल का इंतजार, एलेस्टर कुक के बाद ऐसा करने वाले इंग्लैंड के पहले ओपनर बने रोरी बर्न्स  

Rory Burns completed 1000 test Runs: इंग्लैंड के युवा सलामी बल्लेबाज रोरी बर्न्स ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन एक व्यक्तिगत उपलब्धि हासिल कर ली।

rory burns
rory burns  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • साल 2018 में श्रीलंका दौरे पर रोरी बर्न्स ने किया था टेस्ट डेब्यू
  • वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन बर्न्स ने पूरे किए एक हजार टेस्ट रन
  • एलेस्टर कुक के बाद इस मुकाम पर पहुंचेन वाले पहले टेस्ट ओपनर हैं बर्न्स

साउथैम्टन: इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज रोरी बर्न्स वेस्टइंडीज के खिलाफ साउथैम्टन टेस्ट के दूसरे दिन 85 गेंद पर 30 रन की पारी खेलकर आउट हुए। तेज गेंदबाज शेनन गैब्रियल की गेंद पर एलबीडब्ल्यू होने से पहले उन्होंने एक ऐसी उपलब्धि हासिल कर ली जो पिछले 13 साल में इंग्लैंड का और कोई सलामी बल्लेबाज हासिल नहीं कर सका था। 

साउथैम्टन टेस्ट के दूसरे दिन के पहले सत्र में जैसे ही 21 रन के आंकड़े को पार किया उसके साथ ही उनके टेस्ट क्रिकेट में 1 हजार रन पूरे हो गए। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान सर एलेस्टर कुक के बाद वो इस मुकाम पर पहुंचने वाले इंग्लैंड के पहले ओपनिंग बैट्समैन हैं। बर्नस के पहले तकरीबन डेढ़ से दो दर्जन सलामी बल्लेबाजों को इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने मौके दिए लेकिन कोई भी बल्लेबाज मजबूती से पिच पर अपने पैर नहीं जमा सका।  

16वें टेस्ट में हासिल की ये उपलब्धि
इंग्लैंड के लिए घरेलू क्रिकेट में सरे के लिए खेलने वाले 29 वर्षीय रोरी बर्न्स ने साल 2018 में श्रीलंका के खिलाफ गॉल में टेस्ट डेब्यू किया था। इसके बाद से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। अब तक खेले 16 टेस्ट मैच की 30 पारियों में उन्होंने 33.63 की औसत और 44.80 के स्ट्राइक रेट से 1009 रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 2 शतक और 6 अर्धशतक निकले हैं। अपने दो शतकों में से एक उनके बल्ले से पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज सीरीज के दौरान निकला था। वहीं दूसरा शतक उन्होंने न्यूजीलैंड दौरे पर जड़ा था। उनका सर्वाधिक स्कोर 133 रन रहा है।



खत्म हुआ 13 साल का सूखा
एलेस्टर कुक के बाद इंग्लैंड को जैसे टेस्ट ओपनर की तलाश थी वो उन्हें सालों बाद मिला है। एलेस्टर कुक इंग्लैंड के सर्वकालिक महानतम सलामी बल्लेबाज रहे हैं इसमें किसी को कोई संदेह नहीं है। कुक ने टेस्ट करियर में खेले 161 मैच में 45.35 के शानदार औसत से 12,472 रन बनाए थे। इस दौरान उनके बल्ले से 33 शतक निकले थे। एक छोर से खड़े होकर वो इंग्लैंड के लिए लगातार रन बनाते रहे लेकिन दूसरे छोर पर उन्हें स्थाई पार्टनर नहीं मिला। कई बल्लेबाज आए और शानदार शुरुआत बतौर ओपनर की लेकिन वो लगातार रन नहीं बना पाने के कारण उन्हें अपनी जगह गंवानी पड़ी। 

साउथैम्टन टेस्ट में इंग्लैंड की टीम कैरेबियाई गेंदबाजों के सामने एक नहीं चली। पूरी टीम जेसन होल्डर और शेनन गैब्रियल के कहर का सामना नहीं कर सकी और महज 204 रन बनाकर ढेर हो गई। खराब रोशनी के कारण दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक वेस्टइंडीज ने 1 विकेट खोकर 57 रन बना लिए हैं। 

कुक के बाद ये खिलाड़ी कर चुके हैं टेस्ट में ओपनिंग
एंड्रर्यू स्टॉस के बाद कुक को बतौर ओपनर कोई स्थाई साथी नहीं मिल सका। स्ट्रॉस के संन्यास लेने के बाद कुक के साथी लगातार बदलते रहे। पिछले कुछ सालों में निक क्रॉम्पटन, जो रूट, माइकल कारबेरी, सैम रॉबसन, जॉनेथन ट्रॉट, एडम लिथ, मोईन अली, जोस बटलर, एलेक्स हेल्स, बेन डकेट, हसीब हमीद, कीटन जेनिंग्स, मार्क स्टोनमैन, रोरी बर्न्स, जैक लीच, जो डेनली, जेसन रॉय इंग्लैंड के लिए टेस्ट ओपनर की भूमिका अदा कर सके हैं। 

अगली खबर