फिर शर्मिंदा होने की कगार पर पाकिस्तान, टूर्नामेंट से ठीक पहले धमाके से दहला क्रिकेट जगत

Pakistan Super League, PSL 2020, Quetta bomb blast: पाकिस्तान के शहर क्वेटा में भयानक बम धमाके ने क्रिकेट जगत को भी हिलाकर रख दिया है क्योंकि दो दिन में वहां पीएसएल की शुरुआत होनी है।

Quetta bomb blast and Pakistan Super League
Quetta bomb blast and Pakistan Super League  |  तस्वीर साभार: AP

नई दिल्लीः पाकिस्तान का शहर क्वेटा सोमवार को एक भयानक बम धमाके से दहल उठा। सात लोगों की जान चली गई और तकरीबन 25 लोग घायल हो गए। अब इस धमाके के बाद एक बार फिर पाकिस्तान शर्मिंदा होने की कगार पर खड़ा हो गया है। वजह है- पाकिस्तान सुपर लीग (PSL 2020)। पाकिस्तान के इस टी20 टूर्नामेंट के शुरू होने में सिर्फ 3 दिन का समय बाकी था और अब इस बम धमाके ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को अजीब स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया है।

अल जजीरा के मुताबिक ये बम धमाका क्वेटा में हो रही एक धार्मिक रैली के करीब हुआ। गुरुवार से शुरू होने वाले पाकिस्तान सुपर लीग (PSL 2020) का इस बम धमाके से सीधा नाता है। दरअसल, टूर्नामेंट की एक टीम क्वेटा ग्लैडिएटर्स (Quetta Gladiators) का ये घरेलू मैदान है जिसकी अगुवाई पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सरफराज अहमद करते हैं।

क्वेटा ग्लैडिएटर्स में कई विदेशी शामिल

क्वेटा ग्लैडिएटर्स में दुनिया के कई बड़े विदेशी क्रिकेटर शामिल हैं। ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर शेन वॉटसन, इंग्लैंड के ओपनर जेसन रॉय और बेन कटिंग सहित कई विदेशी क्रिकेटर इस टीम व टूर्नामेंट की अन्य टीमों का हिस्सा हैं। अब तक पाकिस्तान कड़ी सुरक्षा का दावा करते हुए इन खिलाड़ियों को यहां खेलने के लिए राजी करता आया है लेकिन क्वेटा में हुआ बम धमाका अब इन खिलाड़ियों को सोचने पर मजबूर कर देगा।

क्या आतंकियों की रणनीति है?

इससे पहले पीएसएल का आयोजन यूएई में होता था और उसके कुछ मैच पिछली बार पाकिस्तान में कराए गए थे लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इस साल पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) का आयोजन पूरी तरह से पाकिस्तान में कराने का फैसला किया। ऐसे में टूर्नामेंट से ठीक पहले हुए बम धमाके से संकेत मिल रहे हैं कि आतंकी नहीं चाहते कि पाकिस्तान में किसी भी क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन हो और विदेशी खिलाड़ी वहां पर आएं।

खिलाड़ी नाम लेंगे वापस?

टूर्नामेंट की शुरुआत एक भव्य ओपनिंग सेरेमनी के साथ होगा इसकी तैयारी की जा रही है लेकिन क्वेटा में हुए बम धमाके के बाद बड़ी बात नहीं होगी अगर कुछ विदेशी खिलाड़ी आखिरी समय में अपना नाम वापस ले लें। कुछ ही समय पहले जब श्रीलंकाई टीम अपने ऊपर 2009 में हुए आतंकी हमले के बाद किसी तरह पाकिस्तान में सीरीज खेलने को राजी हुई तो श्रीलंका के ज्यादातर दिग्गजों ने वहां जाने से मना कर दिया था। वहीं हाल ही में दक्षिण अफ्रीका ने भी व्यस्त कार्यक्रम का बहाना बनाते हुए अपना पाकिस्तान दौरा रद्द किया है।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...