कोरोना से जंग में लोगों को हिम्मत देने के लिए मुंबई पुलिस ने धोनी और 2011 विश्व कप का लिया सहारा

Mumbai Police: कोरोना वायरस से जंग में लोगों को हिम्मत देने, जागरुक करने व प्रेरित करने के लिए मुंबई पुलिस ने क्रिकेट का सहारा लिया। उन्होंने एक तस्वीर पोस्ट करके ऐसा किया।

Mumbai Police Coronavirus tweet
Mumbai Police Coronavirus tweet  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस से जंग के दौरान मुंबई पुलिस ने अपनाया अनोखा तरीका
  • लॉकडाउन में लोगों को प्रेरित करने व हिम्मत देने के लिए अनोखा तरीका अपनाया
  • मुंबई पुलिस ने 2011 आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में भारत की जीत का लिया सहारा

मुंबई: इन दिनों पूरा देश और दुनिया कोरोना वायरस की चपेट में है। हर जगह बस इसी को लेकर चर्चाएं हो रही हैं। इसी बीच लोग अलग-अलग तरह से देशवासियों को जागरुक करने व सचेत रहने के संदेश दे रहे हैं। मुंबई पुलिस ने भी एक जरिया खोजा और ये तरीका क्रिकेट से जुड़ा है। मुंबई पुलिस ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने की देश की लड़ाई के मद्देनजर घर पर बैठने की महत्ता को दिखाने के लिये भारत की 2011 विश्व कप जीत का उदाहरण दिया।

मुंबई पुलिस ने एक ट्वीट में महेंद्र सिंह धोनी के विजयी शॉट की दो अलग-अलग तस्वीरें पोस्ट की हैं जिसकी बदौलत भारत 28 साल के बाद विश्व कप जीतने में सफल रहा था। उसने टैगलाइन के साथ इसे ट्वीट किया है जिसमें लिखा है, ‘‘इंडिया, इसे (कोरोना वायरस को) स्टाइल से खत्म करते हैं।
बायीं ओर लगी एक फोटो में धोनी गेंद को हिट कर रहे हैं तो इसमें टैगलाइन है, ‘‘दो अप्रैल, 2011 को हम घर पर बैठे रहे जब तक भारत के लक्ष्य का सफलता से पीछा नहीं कर लिया।’’

दायीं ओर लगी इसी फोटो में गेंद की जगह कोरोना वायरस है जिसमें टैगलाइन है, ‘‘दो अप्रैल 2020, हम घर पर बैठे हैं और भारत के लक्ष्य का पीछा करने का इंतजार कर रहे हैं।’’ धोनी की अगुआई वाली भारतीय टीम ने दो अप्रैल 2011 को मुंबई में हुए फाइनल मैच में श्रीलंका को हराकर विश्व कप जीता था। धोनी ने एक शानदार छक्के के जरिए भारत को जीत दिलाई थी और इस दौरान कमेंटेटर रवि शास्त्री के बोल फैंस को आज भी याद हैं। ये मुकाबला मुंबई के प्रतिष्ठित वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था।

भारत में कोरोना वायरस ने पिछले कुछ दिनों में तेजी से अपने पांव पसारे हैं। भारत में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा तकरीबन ढाई हजार के करीब पहुंच गया है और महाराष्ट्र सबसे प्रभावित राज्यों में से एक है।

अगली खबर