जोफ्रा आर्चर की हरकत पर भड़के पूर्व कप्तान माइकल एथरटन, बताया 'बेवकूफाना'

England vs West Indies 2nd Test: दूसरे टेस्ट मैच से ठीक कुछ घंटे पहले इंग्लिश दिग्गज जोफ्रा आर्चर को प्रोटोकॉल उल्लंघन के कारण टीम से बाहर कर दिया गया। इस पर माइकल एथरटन भड़क गए।

Jofra Archer
जोफ्रा आर्चर  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • इंग्लैंड बनाम वेस्टइंडीज दूसरा टेस्ट
  • जोफ्रा आर्चर को दूसरे टेस्ट से किया गया बाहर
  • निर्धारित प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया

मैनचेस्टरः चार महीने तक क्रिकेट रुका रहा क्योंकि महामारी की वजह से दुनिया भर की खेल गतिविधियां बंद थीं। किसी तरह हिम्मत जुटाकर इंग्लैंड अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बहाली व आयोजन के लिए आगे आया। वेस्टइंडीज की टीम ने भी हिम्मद दिखाई और वो इस सीरीज को खेलने के लिए तैयार हुई। दुनिया में हालात अच्छे नहीं है इसलिए सीरीज को दर्शकों के बिना जैव सुरक्षित माहौल में कराने के साथ-साथ आईसीसी द्वारा जारी किए नए कोविड नियमेों के तहत कराने का फैसला हुआ। पहला टेस्ट तो ठीक-ठाक गुजरा लेकिन दूसरे टेस्ट में जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) की एक गलती ने ना सिर्फ फिर से खौफ का माहौल पेदा किया बल्कि उनको सजा के रूप में टीम से बाहर होना पड़ा। इस पर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल एथरटन (Michael Atherton) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

इंग्लिश टीम की योजना बिगाड़ दी

पूर्व कप्तान माइकल एथरटन ने जोफ्रा आर्चर के जैव सुरक्षित प्रोटोकॉल उल्लघंन को ‘मूर्खतापूर्ण’ करार दिया क्योंकि उनके गैर जिम्मेदाराना कदम से गुरूवार से वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट से पहले टीम की योजना गड़बड़ा गयी। आर्चर को टीम के जैव सुरक्षित प्रोटोकॉल को तोड़ने के लिये वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट से बाहर कर दिया गया और अब उन्हें पांच दिन के पृथकवास के दौरान कोविड-19 के दो टेस्ट कराने होंगे।

आर्चर ने माफी मांगी

जोफ्रा आर्चर ने इस गलती के लिये माफी मांगी है, हालांकि गलती का जिक्र इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड के बयान में नहीं किया गया है लेकिन ‘बीबीसी टेस्ट मैच स्पेशल’ के अनुसार यह तेज गेंदबाज पहले टेस्ट के बाद ब्राइटन में अपने घर गया था। एथरटन ने ‘स्काई स्पोर्ट्स क्रिकेट ब्राडकास्ट’ से कहा, ‘ये कई कारणों से बहुत ही बेवकूफाना है। पहली बात, इससे उसने टीम में स्थान गंवा दिया। दूसरा इससे इंग्लैंड की योजना गड़बड़ा गयी, यह महत्वपूर्ण टेस्ट है जिसमें उनका जीतना जरूर है तभी वे इस सीरीज को जीतने की कोशिश कर सकते हैं।’

ईसीबी की मेहनत को जोखिम में डाला

एथरटन ने आगे कहा, और तीसरा, ईसीबी ने अभी तक जो काम किया, उसने उसे जोखिम में डाल दिया। इन छह टेस्ट मैचों, वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन और पाकिस्तान के खिलाफ तीन, को कराने के लिये उन्हें काफी काम करना पड़ा है। गौरतलब है कि वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के बाद इंग्लिश टीम को पाकिस्तानी टीम की मेजबानी करनी है जिसमें टेस्ट के अलावा सीमित ओवर क्रिकेट सीरीज भी खेली जानी है। इसके लिए कोरोना से जूझते हुए पाकिस्तान की टीम इंग्लैंड पहुंच चुकी है। ऐसे में अगर आर्चर या किसी खिलाड़ी की वजह से कुछ अप्रिय होता है तो पूरी सीरीज मुश्किल में आ सकती है और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर ब्रेक भी लग सकता है।

अगली खबर