1956 विकेट लिए, महान डॉन को सबसे ज्यादा बार आउट किया लेकिन जेल में हुआ दर्दनाक अंत

Hedley Verity Birthday, 18th May: आज इंग्लैंड के क्रिकेट इतिहास के सबसे शानदार गेंदबाजों में से एक का जन्मदिन है। हेडली वेरिटी का करियर चकाचौंध भरा था लेकिन जीवन का अंत उतना ही चौंकाने वाला और दर्दनाक रहा।

Cricket Throwback, 18th May
क्रिकेट इतिहास में आज का दिन, 18 मई (Representative Image - AP) 

मुख्य बातें

  • हेडली वेरिटी का जन्मदिन - 18 मई
  • इंग्लैंड के क्रिकेट इतिहास के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक
  • जेल में हुआ जीवन का दर्दनाक अंत

क्रिकेट के जनक इंग्लैंड ने खेल इतिहास को कई शानदार खिलाड़ी दिए। इन्हीं में से एक थे हेडली वेरिटी, जिनका आज जन्मदिन है। एक ऐसा स्पिनर जिसने क्रिकेट की पिच पर ऐसे-ऐसे कमाल किए कि विरोधी टीम और फैंस देखकर दंग रह गए। एक शानदार करियर जब जारी था, तभी कुछ ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई जिसने इस खिलाड़ी को दुनिया से छीन लिया। आइए जानते हैं महान हेडली वेरिटी के बारे में।

इंग्लैंड के लीड्स (यॉर्कशायर) में 18 मई 1905 को जन्मे हेडली वेरिटी उन स्पिनर्स में थे जिन्होंने खेल को कई बड़े रिकॉर्ड्स दिए। वो एक दाएं हाथ के बल्लेबाज और बाएं हाथ के स्पिनर थे। वो बचपन से ही क्रिकेट खेलने में दिलचस्पी रखते थे लेकिन जूनियर क्रिकेट के दिनों में वो एक मध्यम तेज गति के गेंदबाज हुआ करते थे। उनका सपना हमेशा यॉर्कशायर के लिए क्रिकेट खेलने का था, उन्होंने ना सिर्फ वो सपना पूरा किया बल्कि अपने देश से खेलने का मौका भी प्राप्त किया।

वो बड़े-बड़े रिकॉर्ड्स, 10/10 सबसे खास

शुरुआत में वेरिटी का पहला घरेलू क्रिकेट सीजन तो कुछ खास नहीं रहा लेकिन 1930 में उनका औसत देश के सभी गेंदबाजों में सर्वश्रेष्ठ रहा। इसके बाद 1931 में उनका पूरा सीजन खेलने का मौका मिला तो उन्होंने वॉरिवकशायर क्लब के खिलाफ खेलते हुए एक खास कमाल कर डाला। उन्होंने इस मैच की एक पारी में 10 विकेट लेने का कमाल किया। लेकिन उससे भी बड़ा रिकॉर्ड उन्होंने उसके अगले साल नॉटिंघमशायर के खिलाफ बनाया। एक बार फिर एक पारी में 10 विकेट लिए, और वो भी सिर्फ 10 रन देकर। ये आज भी प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सबसे कम रन देकर एक पारी में 10 विकेट लेने का रिकॉर्ड है।

वेरिटी को 1931 में पहली बार इंग्लैंड की टीम में जगह मिली और 1932-33 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर दुनिया ने उनका जलवा देखा। उसके बाद वो लगातार इंग्लिश टीम का हिस्सा रहे और अपने प्रदर्शन से कई मैच जिताए। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी उन्होंने एक हैरतअंगेज रिकॉर्ड बनाया जब उन्होंने 1934 में लॉर्ड्स के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक मैच में अकेले 15 विकेट चटकाए।

महान डॉन के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज और क्रिकेट इतिहास के सबसे बड़े बल्लेबाज के रूप में पहचाने जाने वाले महान डॉन ब्रैडमेन के सामने आने से गेंदबाज कांपा करते थे, लेकिन हेडली वेरिटी उन चुनिंदा गेंदबाजों में से थे जिन्होंने डॉन को भी परेशान किया। उनके नाम डॉन ब्रैडमेन को सबसे ज्यादा बार आउट करने का रिकॉर्ड दर्ज हुआ। वेरिटी ने 99.94 की औसत वाले डॉन ब्रैडमेन को 8 बार आउट किया था।

हेडली वेरिटी के आंखें खोलने वाले आंकड़े

प्रथम श्रेणी मैच - 378

विकेट - 1956

औसत - 14.90

पांच विकेट - 164 बार

10 विकेट - 54 बार

एक पारी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन - 10/10

टेस्ट मैच - 40

टेस्ट विकेट - 144

पारी और मैच में बेस्ट प्रदर्शन - 8/43 और 15/104

जीवन का हुआ दर्दनाक अंत, किसी ने सोचा भी नहीं था

एक शानदार गेंदबाज जो लगातार क्रिकेट के मैदान पर नए-नए आंकड़े बनाता जा रहा था, उसके जीवन का अंत बेहद दर्दनाक ढंग से हुआ। वो भी तब जब वो सिर्फ 38 वर्ष के थे। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान वो सेना में शामिल हुए थे और ट्रेनिंग के बाद उनकी पोस्टिंग भारत, पर्सिया और मिस्र में हुई थी। वो कैप्टन के पद पर थे। लेकिन 1943 में इटली के सिसिली में एलाइड फोर्स ने दबदबा हासिल कर लिया था और वेरिटी भी युद्ध में बुरी तरह घायल हो गए थे। जर्मनी की सेना ने वेरिटी को कैद कर लिया। वो इटली की जेल (कैसरटा) में युद्ध बंदी के रूप में रखे गए और वहीं उन्होंने घायल होने की वजह से दम तोड़ दिया। उनको दफन भी वहीं कर दिया गया।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर