Work From Home: वर्क फ्रॉम होम में उछाल, कोरोना के बढ़ते केस का असर

बिजनेस
ललित राय
Updated Apr 07, 2021 | 09:51 IST

कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद प्राइवेट दफ्तर एक एक कर खुलने लगे थे। लेकिन अब जिस तरह से केस में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है उसके बाद कंपनियां एक बार फिर वर्क फ्रॉम होम के विकल्प पर विचार कर रही हैं।

Work From Home: कोरोना के बढ़ते केस के बाद वर्क फ्रॉम होम में उछाल, कंपनियां हुईं मजबूर
कोरोना के बढ़ते केस का असर, वर्क फ्रॉम होम के लिए मजबूर हुईं कंपनियां 

मुख्य बातें

  • कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद वर्क फ्रॉम होम में उछाल
  • कंपनियां एक बार फिर वर्क फ्रॉम होम के विकल्प को अपनाने के लिए हुईं बाध्य

भारत में कई राज्यों में कोविड -19 मामलों में वृद्धि ने इंडिया इंक को अपनी बैक-टू-वर्क योजनाओं पर पुनर्विचार करने के लिए मजबूर किया है। कार्यालय से काम फिर से शुरू करने के बाद, कई कंपनियों ने घर मोड से काम करने के लिए वापस लौटने का फैसला किया है। हर विभाग में कार्यालयों में कर्मचारियों को काफी कम कर दिया है।। 

कोरोना के बढ़ते केस का असर
कुछ कार्यालयों ने कर्मचारियों को अपने कार्यस्थल और घर के बीच आने जाने के लिए शीर्ष प्रबंधन से काम पर लौटने और निजी वाहनों का उपयोग करने की अनुमति मांगी है। पारले प्रोडक्ट्स, टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, केट और एक्सिस बैंक जैसी कुछ कंपनियां काम से घर लौट गई हैं। जबकि आईटीसी, डाबर, पारले प्रोडक्ट्स, सैमसंग, टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आरपीजी ग्रुप, हायर, वीवो, पैनासोनिक और एक्सिस बैंक जैसे अन्य लोगों ने अपने कर्मचारियों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं।

आदित्य बिड़ला समूह के वैश्विक निदेशक, मानव संसाधन ने इकोनॉमिक टाइम्स को बताया कि कार्यालय में आने वाले कर्मचारियों की संख्या 50-60% से घटकर 35-40% होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि स्थानीय नेताओं से कहा गया है कि वे इस पर फोन करें और स्थिति का प्रबंधन करें। आईटीसी लिमिटेड में कॉर्पोरेट मानव संसाधन के प्रमुख अमिताव मुखर्जी ने कहा कि कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए कहा गया है।

वर्क फ्रॉम होम पर वापस लौटीं कंपनियां
कर्मचारियों को भी सार्वजनिक उपस्थिति का उपयोग नहीं करने, मास्क का निरंतर उपयोग, सामाजिक गड़बड़ी और बाहरी यात्रा से बचने के लिए कार्यालय की उपस्थिति को कम से कम करने के लिए कहा गया है।ऑटोमोबाइल और कंज्यूमर गुड्स सेगमेंट की कुछ कंपनियां, जिन्होंने बिजनेस रिकवरी के मद्देनजर अपने कर्मचारियों को वापस ऑफिस बुलाया था अब कटौती हो रही है। सैमसंग, जो पहले अपने 50% कर्मचारियों को ऑफिस के लिए बुलाया था उसमें 30% तक कटौती हुई है। एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स में अब 30% पहले से 10% कार्यबल प्रति विभाग है।  पैनासोनिक में कोरोना के बढ़ते केस से पहले पहले 70% लोग ऑफिस आ रहे थे। लेकिन अब वो संख्या 50% के नीचे आ गई है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर