रेलवे स्टेशनों पर समुद्र तल से ऊंचाई क्यों लिखा होता है? जानिए यात्रियों की सुरक्षा से यह कैसे जुड़ा है

भारतीय रेलवे सभी स्टेशनों पर पीले रंग के साइनबोर्ड समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई लिखता है। जानिए आखिर इसकी क्या जरूरत है और यह आपकी सुरक्षा से कैसे जुड़ा है।

Why is height above sea level written on railway stations? Know how it is related to passengers' safety
रेलवे स्टेशनों पर पीले संकेतों पर समुद्र तल से ऊंचाई जिक्र क्यों होता है? 

मुख्य बातें

  • समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई को मीन सी लेवल भी कहते हैं।
  • यह भारतीय रेलवे की ट्रेनों में आने वाले सभी यात्रियों की सुरक्षा के लिए है।
  • यह रेलवे स्टेशन के शुरू और अंत में लगे पीले रंग के साइनबोर्ड पर लिखा रहता है।

भारतीय रेलवे नेटवर्क दुनिया के सबसे बड़े रेलवे नेटवर्क में से एक है। रेलवे स्टेशनों पर पीले संकेतों पर समुद्र तल से ऊंचाई का उल्लेख क्यों किया जाता है? आपने कभी ये बात कभी अवश्य सोची होगी। एक गंतव्य से दूसरे गंतव्य तक ट्रेनों में यात्रा करते समय, आपने रेलवे स्टेशनों पर अंग्रेजी, हिंदी और स्थानीय भाषा में रेलवे स्टेशन के नाम का उल्लेख करते हुए पीले रंग के संकेत देखे होंगे। कई भाषाओं में नाम के साथ-साथ समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई का भी जिक्र मिलता है।

 रेलवे के हर स्टेशन पर एक स्टेशन मास्टर का कार्यालय और पूछताछ केंद्र होते हैं। रेलवे ने यात्रियों के लिए कोई भी शिकायत के लिए एक हेल्पलाइन नंबर, 139 भी जारी किया है। फिर भी हर यात्री कम से कम एक बार रेलवे स्टेशन के शुरू और अंत में लगे पीले रंग के साइनबोर्ड को देखता है ताकि पता लगाया जा सके कि उनकी यात्रा कितनी लंबी होने वाली है या वे किस स्टेशन पर पहुंचे हैं। स्टेशन का नाम खोजने की कोशिश करते समय आपने समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई का उल्लेख करने वाले आंकड़े भी देखे होंगे।

समुद्र तल से स्टेशन की ऊंचाई को मीन सी लेवल (MSL) के रूप में प्रमुखता से लिखने का कारण भारतीय रेलवे की ट्रेनों में आने वाले सभी यात्रियों की सुरक्षा के लिए है। अब सवाल उठता है कि MSL यात्रियों की सुरक्षा से कैसे जुड़ा है। MSL सीधे लोको पायलटों (ट्रेन चालकों) और गार्डों को उस ऊंचाई के बारे में सचेत करता है जिस पर वे यात्रा कर रहे हैं। MSL की मदद से एक लोको-पायलट ट्रेन की गति को नियंत्रित करता है। अगर ट्रेन अधिक ऊंचाई की ओर बढ़ रही है तो लोको-पायलट ट्रेनों के सुचारू रूप से चलने के लिए इंजन के अनुसार शक्ति प्रदान करते हैं।

भारतीय रेलवे ने मार्च 2020 से, पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा के बाद, कोरोना वायरस सीरीज को तोड़ने के लिए अपनी यात्री सेवा को रोक दिया था। अनलॉक के साथ ही भारतीय रेलवे ने देश भर के महत्वपूर्ण शहरों को जोड़ने के लिए कई स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं। लोग अभी भी भारतीय रेलवे की नियमित समय पर चलने वाली ट्रेनों के शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर