लॉन मोरेटोरियम विस्तार से किसे फायदा होगा और किसे नुकसान?

RBI's extension on loan moratorium : भारतीय रिजर्व बैंक ने लोन मोरेटोरियम के लिए और तीन महीने का विस्तार दिया है। लेकिन मोरेटोरियम से किसी को अधिक फायदा होगा तो किसी को नुकसान होगा।

Who will get benefit and suffer from RBI's extension on loan moratorium?
लोन मोरेटोरियम विस्तार से किसे होगा फायदा?  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • मार्च में लागू लोन मोरेटोरियम के विस्तार का विकल्प दिया गया है
  • ईएमआई न चुकाने की छूट तीन महीने और बढ़ गई है
  • इससे सभी लोन लेने वालों को एक समान फायदा नहीं होता है

भारतीय रिजर्व बैंक ने पिछले सप्ताह मार्च में लागू लोन मोरेटोरियम के विस्तार का विकल्प दिया। इससे लोन लेने वालों के लिए एक बड़ी राहत माना गया है। ईएमआई न चुकाने की छूट तीन महीने और बढ़ गई है। कोरोना वायरस प्रकोप के परिणामस्वरूप गंभीर लिक्विडिटी की कमी का सामना करने वाली कंपनियों या व्यक्तियों को अब अगस्त में अपने लोन पुनर्भुगतान को फिर से भरने का विकल्प चुन सकते हैं। वास्तविक लोन मोरेटोरियम 31 मई को समाप्त होने वाला था। कर्ज लेने वालों में मोरेटोरियम के विस्तार को खुले हाथों से स्वागत किया। लेकिन कर्ज माफी को लेकर भ्रमित नहीं होना है। इससे क्या फायदा हुआ? इससे सभी लोन लेने वालों को एक समान फायदा नहीं होता है। 

इंडस्ट्री के डेटा से पता चलता है कि इस सुविधा का लाभ उठाने वालों में से अधिकांश होम या ऑटो लोन के उधारकर्ता हैं। बजाज फाइनेंस ने खुलासा किया कि ऑटो फाइनेंस सेगमेंट के भीतर प्रबंधन के तहत करीब 70 प्रतिशत ने मई की शुरुआत में मोरेटोरियम लिया है। एलएंडटी के दोपहिय लोन करीब 29 प्रतिशत भी मोरेटोरियम के अधीन था। इसका मतलब यह नहीं है कि जिन लोगों ने कंज्यूमर लोन, कृषि लोन और छोटे व्यवसाय लोन लिए हैं, उन्होंने सुविधा का लाभ नहीं उठाया है। बजाज फाइनेंस की बी2सी शाखा, जिसके पास लगभग 30,500 करोड़ रुपए एयूएम है। जो 29 प्रतिशत धनराशि मोरेटोरियम के तहत था।

तो कौन वास्तव में इस लोन से किसे फायदा होगा और कौन लॉन्ग टर्म में अधिक जोखिम में होगा? समझने वाली पहली बात यह है कि, जब लोन लेने वाला को ईएमआई का भुगतान नहीं करेगा तो ब्याज अभी भी अनपेड राशि पर जमा होगा और मूलधन में जोड़ दिया जाएगा। इस हालत में कर्जदाताओं ने लोन लेने वालों को तीन विकल्प पेश किए हैं।

  1. पहला, कर्ज लेने वालों को अप्रैल और मई में अर्जित ब्याज का भुगतान करने के लिए जून में सिंगल भुगतान करने की अनुमति देता है। 
  2. दूसरा ब्याज को बकाया लोन राशि में जोड़ने की अनुमति देता है, जिससे पुनर्भुगतान अवधि के शेष के लिए कुल ईएमआई बढ़ जाती है। 
  3. तीसरा, लोन लेने वाला अपनी ईएमआई को अपरिवर्तित रखने का विकल्प चुन सकते हैं, जो उनके लोन कार्यकाल को विस्तारित करेगा।  

मोरेटोरियम से किसे फायदा होगा?
उन कंपनियों या व्यक्तियों के लिए जो गंभीर नकदी प्रवाह की स्थिति से पीड़ित नहीं हैं, उन्हें पहले या दूसरे विकल्प को लेने की सलाह दी जाती है। हालांकि, दूसरों के लिए, लंबे समय तक पिंच महसूस करना उनके शेष रिपेमेंट कार्यकाल पर निर्भर करेगा। लोन लेने वाला, जिन्होंने हाल ही में लोन लिया है, उच्च ब्याज चुकाना होगा और मोरेटोरियम अवधि के अंत में अधिक बकाया राशि होगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्याज लोन चुकाने की अवधि की शुरुआत में भुगतान की जाने वाली ईएमआई का एक बड़ा हिस्सा बनाता है। और कार्यकाल समाप्त होने तक कम हो जाता है। इसके विपरीत जिन्होंने 10 या 15 साल पहले लोन लिया है, उनकी बकाया राशि में बहुत अधिक वृद्धि नहीं होगी, क्योंकि उनकी ईएमआई पर अर्जित ब्याज अपेक्षाकृत कम होगा। यह थोड़ा विडंबनापूर्ण हो सकता है क्योंकि जिन लोगों ने कई साल पहले लोन लिया है, उन्हें मोरेटोरियम की जरूरत नहीं होगी।

क्रेडिट कार्ड बिल लिए लोन मोरेटोरियम
क्रेडिट कार्ड बिल के लिए लोन मोरेटोरियम लेने की भी सलाह नहीं दी जाती है। बैंक क्रेडिट कार्ड बिल पर बकाया राशि को भुगतान स्थगित करने के लिए पर्याप्त 3 से 4 प्रतिशत ब्याज शुल्क लेते हैं। इसका मतलब है कि अगर क्रेडिट कार्ड धारक दो महीने तक बिल का भुगतान नहीं करता है, तो ब्याज 6 से 8 फीसदी से अधिक बढ़ सकता है। इसके अलावा, उन दो महीनों के दौरान किए गए किसी भी अतिरिक्त व्यय पर भी ब्याज लगाया जाएगा। अंत में, आपको उस ब्याज पर ब्याज लगाया जाएगा जो पिछले महीनों में भुगतान नहीं किया गया है। जैसे, बड़े क्रेडिट कार्ड बिल वाले लोगों के लिए, इस राशि को आसान ईएमआई में परिवर्तित करने या पर्सनल लोन में बदलने मे समझदार होगी। इन दोनों योजनाओं में ब्याज की दरें अधिक हैं, लेकिन फिर भी उस ब्याज का भुगतान करने की तुलना में सस्ता हो सकता है।
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर