VDA: वैरिएबल महंगाई भत्ता क्या है? 1.5 करोड़ से अधिक वर्कर्स को मिलती है राहत

हाल ही में केंद्र सरकार ने वैरिएबल महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी का ऐलान किया है। वीडीए में बढ़ोतरी से केंद्रीय सेक्टर के 1.50 करोड़ से अधिक कर्मचारियों को फायदा होगा।

VDA : What is variable dearness allowance? Which will benefit more than 15 million workers
वैरिएबल महंगाई भत्ता (फोटो-istock) 

Variable Dearness Allowance : महंगाई के असर को कम करने के लिए सरकार अपने कर्मचारियों को महंगाई भत्ता देती है और इसे समय समय पर बढ़ाया भी जाता है। इसका लाभ रिटायर कर्मचारियों को भी दिया जाता है। महंगाई भत्ता वेतन का एक हिस्सा है जो किसी कर्मचारी के मूल वेतन का एक निश्चित प्रतिशत होता है। महंगाई भत्ते का भुगतान जीवन यापन की लागत पर निर्भर है, महंगाई भत्ते का हिस्सा कर्मचारी की स्थिति के आधार पर भिन्न होता है। इसका मतलब है कि शहरी, अर्ध-शहरी और ग्रामीण इलाकों में श्रमिकों के लिए महंगाई भत्ते की गणना अलग-अलग की जाती है।

महंगाई भत्ते को कर्मचारियों के मूल वेतन के प्रतिशत के तौर पर मापा जाता है। वर्तमान या रिटायर कर्मचारियों को एक निश्चित वेतन या पेंशन का भुगतान किया जाता है जिसमें आवास भत्ता, महंगाई भत्ता या दोनों होते हैं। आप जहां रहते हैं उसके आधार पर महंगाई भत्ते (डीए) को नियंत्रित करने वाले नियम अलग-अलग होते हैं। डीए पूरी तरह से टैक्स योग्य लाभ है। महंगाई भत्ते दो प्रकार के होते हैं। औद्योगिक महंगाई भत्ता (Industrial Dearness Allowance) और वैरिएबल महंगाई भत्ता (Variable Dearness Allowance)। यहां हम आगे जानते हैं वैरिएबल महंगाई भत्ता क्या है?

वैरिएबल महंगाई भत्ता (Variable Dearness Allowance) क्या है?

वैरिएबल महंगाई भत्ता, जिसे उस भत्ते के रूप में वर्णित किया जाता है जो केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए 6 महीने के संशोधन का प्रत्यक्ष परिणाम है। वैरिएबल महंगाई भत्ता उस नई राशि को संदर्भित करता है जो उपभोक्ता मूल्य सूचकांक, या सीपीआई में वृद्धि या गिरावट के आधार पर अर्जित की जाती है। श्रमिकों के लिए महंगाई भत्ते को अपडेट किया जाता है और फिर इस राशि के आधार पर निर्धारित किया जाता है। वीडीए तीन अलग-अलग कॉम्पोनेंट पर निर्भर है। एक निश्चित समय के लिए, बेस इंडेक्स स्थिर रहता है। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) का वीडीए पर प्रभाव पड़ता है क्योंकि इसमें हर महीने उतार-चढ़ाव होता है। जब तक सरकार बेसिक मिनिमम वेज में संशोधन नहीं करती, तब तक वेरिएबल डीए की राशि फिक्स रहती है।

गौर हो कि हाल ही में मासिक वैरिएबल महंगाई भत्ता 105 रुपए से बढ़ाकर 210 रुपए कर दिया गया है। वैरिएबल महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी से केंद्रीय सेक्टर के 1.50 करोड़ से अधिक कर्मचारियों को मदद मिलेगी जो देश भर में विभिन्न अनुसूचित नौकरियों में कार्यरत हैं। सड़कों या रनवे या भवन के निर्माण या रखरखाव में लगे अनस्किल्ड, सेमी स्किल्ड, अनस्किल्ड सुपरवाइजर, स्किल्ड या क्लिरिकल और अत्यधिक स्किल्ड वर्कर्स को 431 से रुपए 854 रुपए के बीच प्रतिदिन मिलता है, साथ ही वैरिएबल महंगाई भत्ता मिलता है। जो साफ सफाई और लोडिंटग-अनोलडिंग में काम करते हैं उन्हें प्रतिदिन 431 रुपए से 645 रुपए के बीच मिलते हैं। निहत्थे वॉच-एंड-वार्ड स्टाफ को 609 रुपए से 784 रुपए प्रति दिन मिलते हैं। सशस्त्र स्टाप को प्रतिदिन 714 रुपए मिलते हैं। इसके अलावा  वैरिएबल महंगाई भत्ता मिलता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर