कभी Revlon की लिपस्टिक की दीवानी थी लड़कियां, अब निकला 90 साल पुरानी कंपनी का दिवाला

बिजनेस
डिंपल अलावाधी
Updated Jun 17, 2022 | 12:06 IST

Revlon bankruptcy: रेवलॉन 150 से भी ज्यादा देशों में परिचालन करती है। कंपनी को वैश्विक सप्लाई चेन संकट और उच्च मुद्रास्फीति का सामना करना पड़ रहा है।

US cosmetic company Revlon has filed for bankruptcy
लिपस्टिक बनाने वाली कंपनी 90 साल पुरानी कंपनी Revlon का निकला दिवाला (Pic: iStock) 

नई दिल्ली। 90 साल पुरानी लिपस्टिक कंपनी रेवलॉन (Revlon) ने बैंकरप्सी के लिए आवेदन कर दिया है। अमेरिका की दिग्गज कंपनी ऑनलाइन बिक्री और सप्लाई चेन की समस्याओं से जूझ रही थी। एक समय था जब अमेरिकी कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन की लिपस्टिक की लड़कियां दीवानी थीं। लेकिन प्रतिद्वंद्वियों से सालों की कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद अब कंपनी कंगाल हो गई है। रेवलॉन इंक. अपने भारी लोन का प्रबंधन करने में असमर्थ रही। इसके लिए कंपनी ने अध्याय 11 दिवालियेपन के लिए दायर किया है।

कंपनी पर अरबों डॉलर का कर्ज
दिग्गज कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन पर 1 अरब डॉलर और 10 अरब डॉलर तक का कर्ज है। रेवलॉन को जो अपने सिग्नेचर नेल पॉलिश और लिपस्टिक के लिए जाना जाता है। कंपनी ने पहली तिमाही में 3.3 अरब डॉलर की लॉन्ग टर्म देनदारियों की सूचना दी थी।

इस संदर्भ में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) Debra Perelman ने एक बयान में कहा कि, 'यह फाइलिंग रेवलॉन को हमारे ग्राहकों को दशकों से वितरित किए गए प्रतिष्ठित प्रो़क्ट्स की पेशकश करने की अनुमति देगी। यह हमारे भविष्य के विकास के लिए एक स्पष्ट रास्ता प्रदान करेगी।'

उधारदाताओं से 575 मिलियन डॉलर मिलने की उम्मीद
मालूम हो कि संयुक्त राज्य अमेरिका में अध्याय 11 को पुनर्गठन दिवालियेपन (Reorganization Bankruptcy) के रूप में जाना जाता है। यह कंपनियों को लेनदारों से सुरक्षित रहने और संचालन जारी रखने के दौरान खुद को रिस्ट्रक्चर करने की अनुमति देता है। कंपनी ने कहा कि अगर उसके दिवालिएपन को अदालत में मंजूरी मिल जाती है तो उसे अपने उधारदाताओं से 575 मिलियन डॉलर की फाइनेंसिंग मिलने की उम्मीद है।

अरबपति निवेशक रोनाल्ड पेरेलमैन हैं कंपनी के मालिक
जनवरी से मार्च के दौरान रेवलॉन को 67 मिलियन डॉलर का शुद्ध घाटा हुआ था। कंपनी के मालिक अरबपति निवेशक रोनाल्ड पेरेलमैन हैं और उनकी बेटी डेबरा पेरेलमैन इस कंपनी का संचालन करती हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर