Union Budget 2021: कोरोना से तबाह हुआ मिडिल क्लास, इस बजट में मिलेगी राहत? ये हैं उम्मीदें

एक फरवरी को संसद में बजट 21-22 पेश किया जाएगा। इस बजट से मिडिल क्लास को उम्मीद है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण उनके लिए भी कई घोषणाएं करेंगी।

Union Budget 2021: Middle class devastated by Corona, will there be relief in this budget? These are hopes
बजट से मिडिल क्लास को उम्मीदें 

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में आर्थिक तबाही आई। करोड़ों लोगों के रोजगार छिन गए, लाखों की नौकरियां चली गईं, सैलरी कट गई। इस तबाही ने मिडिल क्लास को काफी प्रभावित किया। अब मिडिल क्लास को मोदी सरकार के बजट से बेहतरी की उम्मीद है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की बजट घोषणाओं पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं। हेल्थ केयर से लेकर इंश्योरेंस होम लोन तक की कई उम्मीदों के बीच पर्सनल टैक्सेशन हैं जो मिडिल क्लास के लोगों के जीवन में बड़ा प्रभाव डालते हैं।

मांग है कि वित्त मंत्री को कम से कम 3 लाख रुपए का इनकम टैक्स स्लैब बढ़ाना चाहिए, ताकि 5 लाख रुपए के आय ग्रुप के लोगों के लिए टैक्स का बोझ थोड़ा कम हो सके। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार वित्त मंत्री सीतारमण इस पर कुछ घोषणा कर सकती हैं। पिछले बजट 2020 में, सीतारमण ने पर्सनल इनकम टैक्सपेयर्स को प्रति वर्ष 15 लाख रुपए तक कमाने वालों के लिए कम दरों का लाभ उठाने का विकल्प दिया था।

वित्त मंत्री ने घोषणा की थी कि उन लोगों के लिए नई पर्सनल इनकम टैक्स व्यवस्था के तहत जो किसी भी कटौती और छूट नहीं लेते हैं। उन्हें 20 प्रतिशत की वर्तमान दर के मुकाबले प्रति वर्ष 5 लाख-7.5 लाख रुपए के बीच कमाने वालों के लिए यह दर 10 प्रतिशत होगी। प्रति वर्ष 7.5 लाख से 10 लाख तक की आय वाले लोग इस शर्त के वर्तमान 20 प्रतिशत के मुकाबले 15 प्रतिशत की दर से टैक्स का भुगतान कर सकेंगे, जो कि इनकम टैक्स अधिनियम के विभिन्न वर्गों के तहत किसी भी कटौती और छूट का विकल्प नहीं चुनते हैं। 10 से 12.5 लाख रुपए के बीच आय पर नई दर वर्तमान में 30 प्रतिशत के मुकाबले 20 प्रतिशत होगी, जबकि 12.5 लाख से 15 लाख तक की आय वाले लोग 30 प्रतिशत के मुकाबले 25 प्रतिशत टैक्स का भुगतान करेंगे।

प्रति वर्ष 15 लाख रुपए से अधिक कमाने वालों के लिए कोई बदलाव नहीं होगा और वे 30 प्रतिशत की मौजूदा दर से टैक्स का भुगतान करते रहेंगे। लेकिन नई टैक्स दरें केवल उन लोगों के लिए उपलब्ध होंगी जो इनकम टैक्स अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कटौती और छूट प्राप्त करते हैं।

संसद का बजट सत्र 29 जनवरी को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के संबोधन के साथ शुरू होगा, जिसमें दोनों सदनों के संयुक्त बैठक और केंद्रीय बजट को 1 फरवरी को पेश किया जाएगा। संसद का बजट सत्र 8 अप्रैल को समाप्त होगा। सदन 15 फरवरी को स्थगित होगा और 8 मार्च को फिर से शुरू होगा।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर