Life Insurance: जानिए कितने तरह के होते हैं लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी, जरूरत के हिसाब से करें चुनाव

life insurance plans: आपके साथ-साथ परिवार के लिए भी लाइफ इंश्योरेंस का होना बहुत जरूरी है। यहां हम बता रहे हैं अलग-अलग तरह के लाइफ इंश्योरेंस के बारे में, जिसे आप अपनी सुविधा के अनुसार खरीद सकते हैं।

Life Insurance
जानिए कितने तरह के होते हैं लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी 

मुख्य बातें

  • वित्तीय सुरक्षा के लिए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेनी चाहिए।
  • इसके कई फायदे हैं, आप अपने हिसाब से खरीद सकते हैं।
  • भारत में अलग-अलग तरीके के लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी हैं।

आर्थिक तौर पर राहत पाने के लिए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना बहुत जरूरी है। अगर व्यक्ति घर में एकमात्र कमाने वाला शख्स हो तो उसके जाने के बाद लाइफ इंश्योरेंस उसके परिवार को वित्तीय जोखिम से सुरक्षा देता है। भारत में कई तरह के जीवन बीमा पॉलिसी है जिसे लोग अपनी सुविधा के अनुसार खरीदते हैं। कुछ पॉलिसी कवर के साथ-साथ सेविंग्स और निवेश में अच्छा रिटर्न का भी ऑप्शन देती हैं। वहीं लाइफ इंश्योरेंस खरीदने से पहले उनके नियमों को पढ़ें, इसके बाद ही पॉलिसी का चुनाव करें।

टर्म लाइफ इंश्योरेंस-  टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी एक सबसे सस्ती लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी है, जिसे आप खरीद सकते हैं। यह एक स्पेसिफाइड पीरियड के लिए डेथ रिस्क के लिए कवरेज प्रदान करता है। पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में, बीमित व्यक्ति को एकमुश्त या मासिक भुगतान राशि के रूप में बीमित राशि का भुगतान किया जाता है। इस प्रकार का जीवन बीमा आपको लेटेस्टे प्रीमियम के साथ अधिकतम कवरेज देता है। कुछ बीमा कंपनियां टर्म बीमा योजनाएं लेकर आई हैं, जहां वे पॉलिसी अवधि के अंत में बीमित व्यक्ति को प्रीमियम की वापसी की पेशकश करती हैं। प्रीमियम की वापसी के साथ भविष्य की जेनरल टर्म प्लान एक ऐसी टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी है, जो पॉलिसी अवधि के अंत तक जीवित रहने पर आपको दिए गए प्रीमियम का 115% तक वापस कर देती है।

यूलिप(यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान्स)- यूलिप आपको इंश्योरेंस, पैसे बनाना और टैक्स सेविंग इंवेस्टमेंट तीनों तरीके का फायदा देता है। यूलिप में आप जो पैसा देते हैं, वह आंशिक रूप से फंड में और आंशिक रूप से रिस्क कवर पर लगाया जाता है। आप अपनी जोखिम और निवेश क्षितिज के आधार पर निवेश करने के लिए फंड चुन सकते हैं। निवेश, राशि और कार्यकाल की आवृति के आधार पर आपके द्वारा आवश्यक कॉर्पस की मात्री की करने के लिए आप यूलिप कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं।

एंडोमेंट पॉलिसी- यूलिप की तरह एंडोमेंट प्लान लाइफ इंश्योरेंस भी बीमा कवरेज और निवेश दोनों के अवसर देता है। बीमित व्यक्ति को पॉलिसी अवधि के दौरान मृत्यु या सम एश्योर्ड राशि और संचित बोनस के मामले में नामित या परिवार को बीमित राशि का भुगतान किया जाता है।

मनी बैक पॉलिसी- इस तरह की लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी में बीमाधारक को पॉलिसी अवधि के दौरान अंतराल में एक स्पेसिफाइड अमाउंट प्राप्त होती है और साथ ही मृत्यु या मैच्योरिटी पर बीमा अमाउंट भी मिलती है। इसके साथ ही निवेशकों को मैच्योरिटी पर अर्जित बोनस भी मिलता है।

होल लाइफ इंश्योरेंस- होल लाइफ इंश्योरेंस व्यक्ति के पूरे लाइफ के दौरान या कुछ मामलों में 100 वर्षों तक होता है। पॉलिसी धारक की मृत्यु पर नॉमिनी को बीमित राशि का भुगतान किया जाता है। उस दुर्लभ घटना में जब पॉलिसीधारक 100 वर्ष से अधिक जीवित रहता है तो बीमित व्यक्ति को मैच्योरिटी अमाउंट का भुगतान किया जाता है।

चाइल्ड प्लान- चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान बच्चे के जीवन में महत्वपूर्ण घटनाओं जैसे उच्च शिक्षा, देश से बाहर स्टडी, शादी आदि जैसी स्थिति में मदद करती है। अधिकांश चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान 18 साल की आयु तक पहुंचने के बाद एक बार भुगतान या वार्षिक भुगतान प्रदान करती है। अगर पॉलिसी अवधि के दौरान माता-पिता का निधन हो जाता है, तो भुगतान बच्चे या परिवार को किया जाता है। वहीं कुछ इंश्योरेंस कंपनियां पॉलिसीधारक की मृत्यु के मामले में प्रीमियम को माफ कर देती हैं और मैच्योरिटी अवधि के बाद भुगतान करती हैं।

रिटायरमेंट प्लान- रिटारयमेंट के बाद पर्याप्त मात्रा में पूंजी बनाने में यह योजना आपकी मदद करती है। आप 60 वर्ष की आयु के बाद वार्षिक भुगतान या सिंगल भुगतान का ऑप्शन चुन सकते हैं। बीमित व्यक्ति की मृत्यु के मामले में, नॉमिनी को कवरेज, फंड वैल्यू या प्रीमियम के 105% भुगतान के आधार पर भुगतान किया जाता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर