टाटा स्टील बनी देश की पहली कॉरपोरेट कंपनी, जहां एक साथ 14 किन्नरों को दी गई नौकरी

बिजनेस
आईएएनएस
Updated Dec 02, 2021 | 22:09 IST

टाटा स्टील ने किन्नरों को नौकरी देकर मिसाल कायम किया। देश की पहली ऐसी कॉरपोरेट कंपनी बन गई है जहां इतनी संख्या में ट्रांसजेडर्स को नौकरी दी गई।

 Tata Steel became the first corporate company in the country, where jobs were given to 14 transgenders
टाटा ने दी किन्नरों को नौकरी 

रांची : टाटा स्टील ने एक साथ 14 ट्रांसजेडर्स यानी किन्नरों को नौकरी दी है। कंपनी ने गुरुवार को इन्हें नियुक्ति पत्र प्रदान किया। इन्हें झारखंड के रामगढ़ जिला अंतर्गत वेस्ट बोकारो डिवीजन में हेवी अर्थ मूविंग मशीनरी (एचईएमएम) ऑपरेटर के रूप में तैनात किया जायेगा। संभवत: टाटा स्टील देश की पहली कॉरपोरेट कंपनी है, जिसने एक साथ इतनी संख्या में ट्रांसजेडर्स को नौकरी दी है।

इन्हें नियुक्ति पत्र प्रदान किये जाने के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में टाटा स्टील के रॉ मैटेरियल्स डिवीजन के वाइस प्रेसिडेंट डी. बी. सुंदर राम ने कहा कि टाटा स्टील मानव मात्र की समानता, विशिष्टता और विविधता में पूर्ण विश्वास रखता है। आज का यह दिन समावेशी विकास की हमारी यात्रा में एक और मील का पत्थर है। टाटा स्टील सभी व्यक्तियों को समान अवसर प्रदान करने वाली नियोक्ता कंपनी के रूप में ट्रांसजेडर्स की विशिष्टता का सम्मान करता है।

टाटा स्टील ने जिन 14 ट्रांसजेंडर्स को नौकरी दी है, उनमें से ज्यादातर रांची, जमशेदपुर और झारखंड के शहरों में रहते हैं। नियुक्ति पत्र लेते हुए ट्रांसजेडर्स ने कंपनी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि उन्हें आम तौर पर उपेक्षा का शिकार होना पड़ता है, लेकिन टाटा ने हमें जो स्थान और सम्मान दिया है, उससे हमारा जीवन बदलेगा।

बता दें कि वेस्ट बोकारो में टाटा की कोयला खदानें हैं, जहां पहली तैनाती के दौरान इन ट्रांसजेंडर्स को हेवी अर्थ मूविंग मशीनों के संचालन की ट्रेनिंग दी जायेगी। प्रशिक्षण की अवधि लगभग एक वर्ष होगी। इसके पहले कंपनी ने टाटा स्टील के इसी डिवीजन में 17 महिलाओं को भी एचईएमएम ऑपरेटरों के रूप में शामिल किया था। ये सभी अभी ट्रेनिंग ले रही हैं और अगले साल की शुरुआत में खनन कार्यों में उनकी ड्यूटी लगायी जायेगी। बताया गया कि कंपनी ने महिलाओं और ट्रांसजेंडर्स कर्मियों की भागीदारी बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके लिए आगामी 2025 तक25 प्रतिशत विविध कार्यबल का लक्ष्य निर्धारित किया है।

टाटा स्टील के वाईस प्रेसिडेंट एचआर अत्रेयी सान्याल ने कहा कि मानव संसाधनों में विविधता के प्रति हमारी कंपनी हमेशा से प्रयासरत रही है। हम एलजीबीटीक्यू समुदाय के लोगों का टाटा स्टील परिवार में स्वागत करते हैं और उनकी सफलता और आगे के शानदार करियर की कामना करते हैं। इस मौके पर टाटा स्टील वेस्ट बोकारो डिवीजन के महाप्रबंधक मनीष मिश्रा और एचआर हेड देबाशीष बनर्जी सहित कई अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर