SBI MCLR rate cut: गुड न्यूज! एसबीआई ने घटाया MCLR, और सस्ता होगा लोन

SBI MCLR Rate: : देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने  एमसीएलआर में 5 से 10 बेसिक प्वाइंट्स की कटौती का ऐलान किया। 

SBI mclr rate; SBI reduced MCLR by 5-10 bps, loan to become more cheaper
SBI MCLR rate एसबीआई ने 14वीं बार घटाया MCLR  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • एसबीआई ने एमसीएलआर में 5 से 10 बेसिक प्वाइंट्स की कमी करने का ऐलान किया
  • एसबीआई की MCLR में लगातार 14 वीं कटौती है
  • एसबीआई का एमसीएलआर प्रति वर्ष 6.65% तक नीचे आ गया

SBI MCLR Rate : देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने बुधवार (08 जुलाई) को अपने एमसीएलआर में 5 से 10 बेसिक प्वाइंट्स की कटौती की घोषणा की। यह कटौती शॉट टर्म के लिए है। यानी तीन महीने के लिए होगी। यह कटौती 10 जुलाई 2020 से प्रभावी होगी। डिमांड को प्रभावी बनाने के लिए यह ऐलान किया गया है। इस कटौती के बाद होम लोन और सस्ता हो  जाएगा। एसबीआई की MCLR में लगातार 14 वीं कटौती है। इस संशोधन के साथ, 3 महीने तक एसबीआई का एमसीएलआर प्रति वर्ष 6.65% तक नीचे आ गया, जो SBI के EBLR के बराबर है। SBI का MCLR बाजार में सबसे नीचे है।

एसबीआई की प्रेस रिलीज के अनुसार बैंक की एमसीएलआर में यह लगातार 14 वीं कमी है। इस संशोधन के साथ, एसबीआई का एमसीएलआर 3 महीने के कार्यकाल के लिए 6.65 प्रतिशत तक घट जाता है, जो एसबीआई के बाहरी बेंचमार्क आधारित उधार दर (EBLR) के बराबर है। रिलीज के अनुसार SBI का MCLR बाजार में सबसे नीचे है।

SBI Marginal Cost Lending Rates (MCLR)

(सोर्स-एसबीआई वेबसाइट)

जून में, बैंक ने अपनी प्रमुख उधार दरों, MCLR और बाहरी बेंचमार्क दर (EBR) को 25 बेसिक पॉइंट्स और 40 बेसिक पॉइंट्स पूरे साल में कटौती की थी। एक साल की एमसीएलआर घटकर 7 फीसदी सालाना हो गई थी।

एसबीआई ने रेपो रेट (अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा घोषित) में पूरे 40 बेसिक पॉइंट्स कट पारित किया, जो अपने उधारकर्ताओं को बाहरी बेंचमार्क उधार दर के साथ-साथ रेपो-लिंक्ड उधार दर से जुड़े लो का लाभ दे रहा था। इसके साथ SBI का EBR और RLLR 40 बेसिक पॉइंट्स नीचे आने से क्रमश: 6.65 प्रतिशत और 6.25 प्रतिशत नीचे आ गया।
 


 

अगली खबर