मोरेटोरियम: होम, कार, पर्सनल लोन लेने वाले इन महत्वपूर्ण बातें पर रखें ध्यान

Loan moratorium: कोरोना वायरस के चलते लोन मोरेटोरियम लगा है। होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन और अन्य लोन लेने वाले कुछ महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान रखें।

RBI loan moratorium: Take care of these important things for home, car, personal loan borrowers 
लोन लेने वालों के लिए महत्वपूर्ण बातें  |  तस्वीर साभार: BCCL

असाधारण समस्याओं के लिए अप्रत्याशित समाधान निकालने पड़ते हैं। देश में जानलेवा कोविड-19 वायरस को फैलने से रोकने और उसकी वजह से हो रही आर्थिक परेशानी को कम करने के लिए अभी हाल ही में सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किए गए अग्रसक्रिय उपायों पर शायद यह बात एकदम फिट बैठती है। पूरे देश में 21 दिन का लॉक डाउन लगाने से लेकर 1.7 लाख करोड़ के गरीब कल्याण पैकेज के तहत कुछ कल्याणकारी उपायों की घोषणा करने तक, सरकार ने यह बात पहले ही साबित कर दिया है कि भारत की अर्थव्यवस्था को बचाने और वर्तमान में कोरोना वायरस के संकट से लड़ रहे अपने नागरिकों के फाइनेंसियल हितों की रक्षा करने के लिए वह जो कर सकती है जरूर करेगी। स्वाभाविक रूप से, इस मामले से निपटने के लिए सेंट्रल बैंक से बहुत ज्यादा उम्मीदें की जा रही थीं। और RBI ने उन उम्मीदों से बढ़कर कर दिखाया है जब गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुरू में ही मोनेटरी पॉलिसी कमिटी द्वारा लिए गए तरह-तरह के शानदार फैसलों के बारे में देश को बताया।

फाइनेंसियल सिस्टम में पर्याप्त लिक्विडिटी को सुनिश्चित करने के लिए, RBI ने बैंकिंग सेक्टर में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए तरह-तरह के अन्य उपायों की घोषणा करने के साथ-साथ रेपो रेट में 75 बेसिस पॉइंट्स की कटौती करके उसे 4.4% करने का भी फैसला किया है। लेकिन, सबसे बड़ा कदम था - सभी बैंक, NBFC और FI को, जिनमें HFC भी शामिल थे, 1 मार्च 2020 को बाकी के टर्म लोन इंस्टालमेंट के पेमेंट पर 3 महीने का मोरेटोरियम देने की अनुमति देना, इस मोहलत का असर न तो उधारकर्ता की क्रेडिट हिस्ट्री पर पड़ेगा और न ही उधारदाता के बुक्स पर। अब, ख़ास तौर पर, यह कदम, होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन, इत्यादि के उधारकर्ताओं के लिए एक बहुत बड़ी राहत साबित होगा जो इस बात को लेकर बहुत टेंशन में थे कि वे इस अनिश्चितता और चुनौती के समय में अपने लोन की EMI कैसे चुकाएंगे।

साफ तौर पर जानकारी हासिल करना सबसे ज्यादा जरूरी होता है
EMI पर दी गई 3 महीने की यह मोहलत, एक दुर्लभ घोषणा है। लेकिन, उधारकर्ताओं को थोड़ा रूककर यह देखने की कोशिश करनी चाहिए कि उनके उधारदाता, सेंट्रल बैंक के दिशानिर्देश को कैसे लागू करेंगे, और उन्हें कही-सुनी बात पर कुछ भी नहीं मान लेना चाहिए। इसके अलावा उन्हें किसी ऑटो-डेबिट स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन में अपनी तरफ से बदलाव करने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि उधारदाता, मोरेटोरियम पीरियड के दौरान ऑटोमैटिक EMI पेमेंट को 3 महीने तक के लिए टाल सकते हैं क्योंकि इससे लोन का टेन्योर बढ़ जाएगा। इसके अलावा, इस EMI हॉलिडे को, इस वैश्विक महामारी वाली परिस्थिति के कारण होने वाली आर्थिक गिरावट से बेहतर ढंग से निपटने की मोहलत के रूप में देखना चाहिए, न कि लोन रीपेमेंट की छूट के रूप में। सबसे जरूरी बात तो यह है कि इस मोरेटोरियम पीरियड के दौरान टर्म लोन के बाकी हिस्से पर इंटरेस्ट जमा होता रहेगा। इसलिए, अपने लोन EMI पेमेंट के बारे में साफ तौर पर जानकारी हासिल करना बेहद जरूरी है।

आइए अब यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि दो तरह के उधारदाता - एक वो जिन्हें अपनी EMI देने में परेशानी हो रही है और दूसरे वो जो ऐसे समय में भी अपनी EMI दे सकते हैं - उन्हें अपने फाइनेंस को कैसे मैनेज करना चाहिए यदि उनके उधारदाता, 3 महीने का EMI हॉलिडे लागू करने के लिए राजी हैं।

जिन उधारकर्ताओं को अपनी EMI देने में परेशानी हो रही है उनके लिए ध्यान में रखने लायक बातें
यह प्रस्तावित मोरेटोरियम, इस कठिन परिस्थिति में आपके लिए अपनी बहुत ज्यादा जरूरी फाइनेंसियल जरूरतों को पूरा करने के लिए एक लाइफलाइन साबित हो सकता है क्योंकि हो सकता है कि इस परिस्थिति के कारण कुछ लोगों की आमदनी भी बंद हो गई हो। आपको 3 महीने तक कोई भी टर्म लोन EMI देना नहीं पड़ेगा और EMI न देने पर आम तौर पर लगने वाला पेनाल्टी चार्ज भी नहीं लगेगा और आपके क्रेडिट स्कोर पर भी इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। लेकिन, मोरेटोरियम पीरियड खत्म होने पर, आपको इंटरेस्ट के साथ EMI का पेमेंट फिर से चालू कर देना होगा।

इस मोरेटोरियम से इस सच्चाई में कोई बदलाव नहीं आएगा कि लोन का रीपेमेंट एक कानूनी और नैतिक जिम्मेदारी है। इसलिए, यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि मोरेटोरियम पीरियड खत्म होने के बाद EMI चुकाने के लिए आपके पास पर्याप्त पैसे हैं। ऐसा न करने पर, अलग से इंटरेस्ट, और लेट पेमेंट पेनाल्टी चार्ज भी देना पड़ सकता है, और लोन डिफ़ॉल्ट या सेटलमेंट की नौबत भी आ सकती है जिससे आपके क्रेडिट स्कोर को भारी नुकसान पहुंच सकता है या आपको अपने बेशकीमती कोलैटरल से भी हाथ धोना पड़ सकता है यदि आपने एक कोलैटरल वाला लोन ले रखा है जैसे एक होम लोन या एक कार लोन। एक उधारकर्ता होने के नाते, आप अपने खर्च में कटौती करने के कठोर उपायों को लागू करके इस तरह के बुरे परिणामों से बच सकते हैं - इस कोरोना वायरस लॉक डाउन के दौरान इस तरह के उपाय करना थोड़ा ज्यादा आसान होना चाहिए क्योंकि रोज आने-जाने का खर्च, बाहर खाना खाने का खर्च, शॉपिंग, इत्यादि जैसे कई खर्च अभी कुछ समय के लिए नहीं हो रहे होंगे। इसके अलावा, आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि मोरेटोरियम पीरियड के दौरान EMI पेमेंट के रूप में बचने वाले पैसे को गैर जरूरी चीजों पर खर्च न किया जा रहा हो।

यदि आप मोरेटोरियम पीरियड के बाद लोन की EMI चुकाने के लिए जरूरी रकम जुटाने में अभी भी असमर्थ हैं तो आप अपने इमरजेंसी फंड का इस्तेमाल कर सकते हैं, अपने कुछ इन्वेस्टमेंट्स को लिक्विडिट कर सकते हैं या अपने दोस्तों और परिवार के लोगों से आर्थिक मदद भी मांग सकते हैं जब तक आपका फाइनेंसियल कंडीशन फिर से ठीक नहीं हो जाता। यदि आप एक एम्प्लोयीज प्रोविडेंट फंड सब्सक्राइबर हैं तो आप गुरुवार को सरकार की घोषणा के बाद अपना लोन चुकाने के लिए अपने PF फंड से नॉन-रिफंडेबल एडवांस लेने के बारे में भी सोच सकते हैं। कहने की जरूरत नहीं है कि पैसों का इंतजाम करने के लिए इस्तेमाल किए जा सकने वाले इनमें से प्रत्येक ऑप्शन से कुछ नुकसान भी है, जैसे इन्वेस्टमेंट को लिक्विडेट करने से पूँजी का नुकसान हो सकता है और अपने फाइनेंसियल लक्ष्यों को पूरा करने में दिक्कत आ सकती है, परिवार के लोगों से उधार लेने पर और उसे समय पर न चुकाने पर उनके साथ आपका इतने दिनों का मजबूत रिश्ता ख़राब भी हो सकता है, PF फंड से पैसे निकालने पर रिटायरमेंट सेविंग्स कम हो जाएगी, वगैरह, वगैरह। इसलिए, इस तरह का कोई भी कदम उठाने से पहले अच्छी तरह सोच-विचार कर लें और यह जरूर सुनिश्चित कर लें कि जल्दी से सुधारात्मक कदम उठाया जा रहा हो, जैसे अपने इमरजेंसी फंड में होने वाली कमी को पूरा करना।

जो उधारकर्ता अपने लोन की EMI चुका सकते हैं उन उधारकर्ताओं के लिए ध्यान में रखने लायक बातें
यदि आपने एक लोन ले रखा है और मौजूदा कोरोना वायरस वैश्विक बीमारी के कारण आपकी आमदनी पर बुरा असर पड़ा है तो आपको भी इस 3 महीने के मोरेटोरियम पीरियड के दौरान अपने फाइनेंस को समझदारी के साथ मैनेज करना चाहिए। लॉक डाउन के दौरान होने वाली एक्स्ट्रा बचत का सही इस्तेमाल करें, बेकार के मनमौजी खर्च पर काबू रखें, और अपने लोन की EMI चुकाने के लिए आवश्यक रकम अलग रखें। असल में, यह अपने फाइनेंस को कंसोलिडेट करने के लिए जरूरी उपाय करने का एक बहुत बढ़िया मौका है, जैसे अपने इमरजेंसी फंड को बढ़ाना, अपने परिवार के लिए एक कम्प्रीहेंसिव हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीदना यदि आपने अभी तक इसे नहीं लिया है, और अपने अन्य कर्ज चुकाना। आपको अपने क्रेडिट कार्ड बिल्स के लिए भी यह EMI हॉलिडे मिल सकती है।

लेकिन, मैं आपको यही सुझाव देना चाहूंगा कि आप समय पर अपने क्रेडिट कार्ड ड्यू का फुल पेमेंट करें ताकि आप इसके भारी भरकम इंटरेस्ट चार्ज से बचने के साथ-साथ भविष्य में कर्ज के जाल में फंसने से भी बच सकें। इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि आप एक बहुत बढ़िया क्रेडिट स्कोर को मेन्टेन कर रहे हैं जो आगे चलकर आपके बहुत काम आएगा यदि आपको निकट भविष्य में, मान लीजिए, एक रेपो रेट से जुड़े लोन के लिए अप्लाई करना हो जिससे आपको RBI के अभी हाल ही में किए गए रेट कटौती के फैसले के बाद काफी कम रेट पर लोन मिल सकता है।

एक बार फिर, यह जरूर सुनिश्चित कर लें कि मोरेटोरियम पीरियड के दौरान बचने वाले EMI के पैसे, गैर जरूरी चीजों पर खर्च न हो। RBI गवर्नर ने यह भी कहा है कि मोरेटोरियम पीरियड के दौरान EMI पेमेंट को टालने पर उधारकर्ताओं के क्रेडिट स्कोर पर कोई बुरा असर नहीं पड़ेगा। इसलिए, आपको सिर्फ यह सुनिश्चित करने के लिए अपने क्रेडिट स्कोर को नियमित रूप से देखते रहना चाहिए कि सब कुछ ठीक है।

(इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर: यह जानकारी एक्सपर्ट की रिपोर्ट के आधार पर दी जा रही है। बाजार जोखिमों के अधीन होते हैं, इसलिए निवेश के पहले अपने स्तर पर सलाह लें।)

अगली खबर