RBI गवर्नर EXCLUSIVE इंटरव्यू: लगातार कम हो रही है महंगाई, बेहतर हैं आर्थिक हालात

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने EXCLUSIVE इंटरव्यू में कहा कि ग्रोथ पर असर पड़े बिना महंगाई काबू में आएगी। फाइनेंशियल स्टेबिलिटी को लेकर चिंता नहीं है।

RBI governor Shaktikanta Das exclusive interview on economic situations
ईटी नाउ के साथ EXCLUSIVE बातचीत में RBI गवर्नर ने क्रिप्टो और महंगाई पर कहा... 
मुख्य बातें
  • बॉन्ड यील्ड से पता लग रहा है महंगाई काबू में है: शक्तिकांत दास।
  • देश के आर्थिक हालात बेहतर नजर आ रहे हैं।
  • महामारी के बाद केंद्रीय बैंक ने जल्दी और सही कदम उठाए हैं।

नई दिल्ली। ईटी नाउ और ईटी नाउ स्वदेश के मैनेजिंग डायरेक्टर निकुंज डालमिया के साथ भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में महंगाई, क्रिप्टोकरेंसी और अर्थव्यवस्था सहित कई अहम मुद्दों पर बात की। शक्तिकांत दास ने कहा कि महंगाई पीक आउट हो चुकी है। बॉन्ड यील्ड से पता लग रहा है महंगाई (Inflation) काबू में है। अच्छी बात यह है कि आगे चलकर महंगाई पर और काबू पाया जाएगा। महंगाई को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक ने तेजी से काम किया है।

महंगाई को काबू करना है प्राथमिकता
देश में महंगाई से जनता परेशान है। खाने पीने के सामान से लेकर ईंधन के दाम, उच्च स्तर पर हैं। इस बीच दास ने कहा है कि, 'क्रिकेट की भाषा में कहें, तो हमने सुनील गावस्कर की तरह खेला है। महंगाई को काबू करना ही हमारी प्राथमिकता है।'

देश का CAD इस समय सही स्थिति में है। फाइनेंसिंग की दिक्कत नहीं है। अगस्त से लगातार FIIs का इन्फ्लो बढ़ रहा है, विदेशी निवेशक भारत में काफी संभावनाएं देख रहे हैं। गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि केंद्रीय बैंक की चीन के आर्थिक आंकड़ों और भारत पर असर पर नजर है।

क्रिप्टो में निवेश जोखिम भरा है
क्रिप्टोकरेंसी पर उन्होंने कहा कि इसमें (Cryptocurrency) निवेश काफी जोखिम भरा है। हमें खुशी है कि हमने क्रिप्टो पर लोगों को सही समय पर आगाह किया है। उन्होंने कहा कि क्रिप्टो से वित्तीय अस्थिरता पैदा हो सकती है।

केंद्रीय बैंक फिनटेक कंपनियों को बढ़ावा देने के पक्ष में। उन्होंने कहा कि हम विशेष रूप से फिनटेक में इनोवेशन को प्रोत्साहित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दास फिनटेक से जुड़े रिस्क को लेकर रेगुलेशन के पक्ष में हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर