Ratan Tata: 83 बरस के हुए रतन टाटा, बनाई थी दुनिया की सबसे सस्ती कार, उनके बारे में जानिए 5 रोचक बातें

जाने-माने उद्योगपति रतन टाटा 83 साल बरस के हो गए हैं। उनके बारे में जानिए 5 रोचक बातें, जो आप शायद ही जानते होंगे।

Ratan Tata 83rd birthday, made world's cheapest car, know 5 interesting facts about him
उद्योगपति रतन टाटा 

मुख्य बातें

  • रतन टाटा 1991 में टाटा समूह के 5वें चेयरमैन बने
  • उन्होंने टाटा टेलीसर्विसेज की शुरुआत की
  • रतन टाटा का जन्म 1937 में गुजरात के सूरत में हुआ था

नई दिल्ली: टाटा संस (Tata Sons) के चेयरमैन एमेरिटस रतन टाटा (Emeritus Ratan Tata) आज (28 दिसंबर, 2020) 83 साल के हो गए। रतन टाटा देश के सबसे सफल उद्योगपतियों में से एक हैं। एक बात है जो रतन टाटा को अन्य उद्योगपतियों से अलग करती है, वह है उनके सिद्धांत। वह बिजनेस करते समय दया और सहानुभूति को सर्वोच्च प्राथमिकता देते है। यहां रतन टाटा के बारे में कुछ रोचक तथ्य हैं जिन्हें जानना जरूरी है।

रतन टाटा का परिवार

रतन टाटा का जन्म 1937 में गुजरात के सूरत में हुआ था। उनके पिता का नाम नवल टाटा (Naval Tata) था जबकि सौनी टाटा (Sooni Tata) उनकी मां थीं। नवल टाटा, टाटा समूह के संस्थापक (Tata Group founder) जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) के दत्तक पोते थे। उन्होंने 25 साल की उम्र में 1962 में टाटा समूह के साथ अपने करियर की शुरुआत की। बाद में वे अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए हार्वर्ड बिजनेस स्कूल चले गए। वह कॉर्नेल यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ आर्किटेक्चर के पूर्व छात्र भी हैं।

भारत की पहली स्वदेशी विकसित कार इंडिका की लॉन्च

रतन टाटा 1991 में जेआरडी टाटा के बाद टाटा समूह के 5वें चेयरमैन बने। अपने कार्यकाल में नमक से सॉफ्टवेयर कंपनियों के चेयरमैन के तौर पर उन्होंने टाटा समूह के बिजनेस को एक नई ऊंचाई पर ले जाने के लिए कई कदम उठाए। उन्होंने टाटा टेलीसर्विसेज की शुरुआत की और भारत की पहली स्वदेशी विकसित कार इंडिका कार भी डिजाइन की और लॉन्च की। इस समूह ने वीएसएनएल का अधिग्रहण किया, जो उस समय भारत का टॉप अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार सर्विस प्रोवाइडर था।

दुनिया की सबसे सस्ती कार की लॉन्च, टाटा ग्रुप को दुनिया में दिलाई पहचान

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) को उनके कार्यकाल के दौरान 2004 में सार्वजनिक किया गया था। उन्होंने 2008 में दुनिया की सबसे सस्ती कार नैनो को भी डिजाइन और लॉन्च किया। उनके नेतृत्व में, टाटा समूह को ग्लोबल प्लेटफॉर्म पर पहचान मिली जब उन्होंने एंग्लो-डच स्टीलमेकर कोरस और ब्रिटिश लक्जरी ब्रांड जगुआर और लैंड रोवर और ब्रिटिश टी कंपनी टेटली का अधिग्रहण किया। रतन टाटा ने टाटा समूह और अमेरिकन इंटरनेशनल ग्रुप इंक के बीच एक संयुक्त उद्यम भी बनाया।

कई स्टार्टअप्स में लगाया पैसा 

रतन टाटा एक सफल निवेशक के रूप में भी जाने जाते हैं। उन्होंने शुरुआती स्तर पर कई स्टार्टअप्स में पैसा लगाया है जो अब यूनिकॉर्न बन गए हैं। न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक रतन टाटा ने कैब एग्रीगेटर ओला में निवेश किया। नवंबर 2015 में इसके शेयर की कीमतें 15,87,392 रुपए से बढ़कर 29,44,805 रुपए हो गईं। ओला के अलावा, उन्होंने पेटीएम, कारदेखो, क्योरफिट, स्नैपडील, अब्रा, क्लिमासेल, फर्स्टक्राय, अर्बन लैडर, लेन्सकार्ट और कई जैसे सफल स्टार्टअप में भी निवेश किया है।

परोपकार के लिए जाने जाते हैं रतन टाटा

टाटा संस के चेयरमैन एमेरिटस भी अपने परोपकार के लिए जाने जाते हैं। पूर्व भारतीय राष्ट्रपति के आर नारायणन ने देश की विशिष्ट सेवा के लिए रतन टाटा को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया, तो उन्होंने उत्सुकता से उल्लेख किया कि वे टाटा छात्रवृत्ति पर विश्वविद्यालय गए थे। उन्होंने उसी जोश के साथ परोपकार का काम किया। उनके नेतृत्व में, टाटा ट्रस्ट ने कई तरह से बाल कुपोषण की समस्या का सामना किया, प्रधान खाद्य पदार्थों को मजबूत किया, मातृ स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित किया, और उनके कार्यक्रमों में एक दिन में 60,000 भोजन उपलब्ध कराने के साथ गरीबी को कम करने का लक्ष्य रखा।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर