रेलवे ने बताई प्लेटफॉर्म टिकट 50 रुपए का करने की वजह, जानिए ये कीमत कभी कम होगी भी या नहीं!

प्लेटफॉर्म टिकट की कीमतें बढ़ाने की शक्तियां क्षेत्रीय रेलवे प्रबंधक-डीआरएम को प्रदान की गई हैं। कई स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकटों की कीमत 50 रुपए की गई है। ये वजह हैं।

Railways told the reason for making platform ticket of 50 rupees, know whether this price will ever be reduced or not!
रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत में बढ़ोतरी 

मुख्य बातें

  • रेलवे स्टेशनों पर भारी भीड़ देखी जा रही है। इसे रोकने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत बढ़ाई गई। 
  • यह निर्णय आम तौर पर त्योहार के मौसम और मेला आदि के दौरान किया जाता है।
  • इस बार कोविड का प्रसार रोकने और केवल जनता के हित में यह निर्णय लिया गया है।

प्लेटफॉर्म टिकट के मूल्य में वृद्धि के बारे में मीडिया में कुछ रिपोर्ट्स आई हैं। प्लेटफॉर्म टिकट के मूल्य में वृद्धि एक अस्थायी उपाय है और यात्रियों की सुरक्षा के लिए और स्टेशनों पर भीड़-भाड़ को रोकने के लिए रेलवे प्रशासन द्वारा शुरू की गई एक क्षेत्र गतिविधि है। स्टेशन पर जाने के लिए अधिक व्यक्तियों का पता लगाने, जमीनी हालात का आकलन करने के बाद समय-समय पर प्लेटफॉर्म टिकट शुल्क में वृद्धि की जाती है। यह कई वर्षों से प्रचलन में है और इसे कभी-कभी अल्प अवधि के लिए भीड़ नियंत्रण उपाय के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके बारे में कुछ भी नया नहीं है।

कुछ राज्यों में कोविड के उतार-चढ़ाव को ध्यान में रखते हुए, भारतीय रेलवे प्लेटफार्मों पर अनावश्यक भीड़ बढाने से रोकने के लिये लोगों को हतोत्साहित कर रहा है। महामारी की स्थिति के दौरान प्लेटफार्मों पर भीड़ को रोकने के लिए यह उपाय आवश्यक है। यह उपाय केवल सार्वजनिक हित में है। 

मार्च 2020 में, रेलवे के कई डिवीजनों ने भीड़ को रोकने के लिए विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत में वृद्धि की गई थी। बाद में, यह कुछ समय के लिए उदाहरण के लिये सेंट्रल जोन, ईसीआर में इस आदेश को रद्द कर दिया गया था। छठ, दीपावली या मेला आदि जैसे त्योहारों के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत अस्थायी रूप से बढ़ जाती है और बाद में यह मूल्य वृद्धि वापस ले ली जाती है।

स्टेशनों पर भीड़ का नियमन और नियंत्रण क्षेत्रीय रेलवे प्रबंधक-डीआरएम की जिम्मेदारी है। विशिष्ट आवश्यकताओं जैसे कि मेला, रैली आदि के दौरान प्लेटफार्मों पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट बढ़ाने के लिए 2015 से डीआरएम को शक्तियां दी गई हैं। प्लेटफॉर्म टिकट के प्रभार बदलने की शक्ति क्षेत्रीय प्रबंधन की आवश्यकता के कारण डीआरएम को सौंपी गई है।


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर