PM-KISAN की किस्त नहीं मिली? हो सकता है बैंक, आधार डिटेल गलत हो, ऐसे कराएं ठीक

पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 7वीं किस्त जारी हो गई है लेकिन कई किसानों के अकाउंट में अभी तक नहीं पहुंचा है। हो सकता है आपका बैंक, आधार डिटेल गलत हो। यहां जाने कैसे ठीक होगा। 

PM-KISAN installment not got? May be  bank account, Aadhaar details are wrong, make it right
पीएम किसान सम्मान निधि योजना 

पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 7वीं किस्त जारी हो गई है, लेकिन बहुत से किसान ऐसे हैं, जिन्हें अभी तक पैसा नहीं मिला है। जबकि कई किसानों के भुगतान पेंडिंग है, जबकि कई किसान ऐसे जिनके पेमेंट फेल हो गए हैं। पेमेंट के असफल होने की सबसे बड़ी वजह आधार नंबर या बैंक अकाउंट नंबर का गलत होना हो सकती है। पीएम किसान सम्मान निधि के लिए रिजिस्ट्रेशन के समय कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जिन्हें सही-सही भरना होता है अन्यथा इस योजना का लाभ मिलना मुश्किल हो सकता है। 

अगर आपको लगता है कि आपने गलत आधार नंबर दिया है, तो आप इसे पीएम किसान की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन सही कर सकते हैं। नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें।

पीएम किसान की वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं।
आपको 'Farmers Corner' के ऊपर एक लिंक दिखाई देगा, इस लिंक पर क्लिक करें
आपको एक लिंक दिखाई देगा 'Aadhaar edit', उस पर क्लिक करें।
एक पेज खुलेगा जहां आप अपना आधार नंबर देख सकते हैं और जानकारी को ठीक कर सकते हैं।

बैंक अकाउंट डिटेल कैसे सही करवाएं?

इसके अलावा अगर बैंक खाते का डिटेल गलत है, तो आप इसे भी सही कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए आपको अपने कृषि विभाग के कार्यालय या लेखपाल से संपर्क करना होगा। वहां जाकर आप इसे ठीक करवा सकते हैं। 

किन किसानों के लिए है पीएम-किसान योजना?

जब PM-KISAN योजना फरवरी 2019 में शुरू की गई थी तब इसका लाभ केवल छोटे और सीमांत किसानों के परिवारों के लिए था, जिसमें 2 हेक्टेयर तक की संयुक्त भूमि थी। इस योजना को बाद में जून 2019 में संशोधित किया गया और सभी किसान परिवारों को उनकी भूमि के आकार के बावजूद दिया जाता है। केंद्र सरकार ने देश में सभी 14.5 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत प्रति वर्ष 6,000 रुपए का लाभ देने का फैसला किया था, भले ही उनकी भूमि का आकार कुछ भी हो।

किसे नहीं दिया जाता है PM-KISAN योजना का लाभ ?

पीएम-किसान से बाहर किए जाने वालों में संस्थागत भूमि धारक, संवैधानिक पद संभालने वाले किसान परिवार, राज्य या केंद्र सरकार के सेवारत या सेवानिवृत्त अधिकारी और कर्मचारी और साथ ही पब्लिक सेक्टर के उपक्रम और सरकारी स्वायत्त निकाय शामिल हैं। डॉक्टर, इंजीनियर और वकील के साथ-साथ रिटायर पेंशनरों जैसे 10,000 रुपए से अधिक की मासिक पेंशन और अंतिम मूल्यांकन वर्ष में इनकम टैक्स का भुगतान करने वाले पेशेवर भी लाभ के पात्र नहीं हैं।

गौर हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर को सातवीं किस्त के तहत 'प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि' (पीएम-किसान) के तहत 9 करोड़ से अधिक किसान परिवारों को 18,000 करोड़ रुपए से अधिक जारी किए थे। एक बटन दबाकर मोदी ने किसानों के अकाउंट में पैसा ट्रांसफर किया। पीएम ने पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के दिग्गज अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर हर किसान को 2,000 रुपए की किस्त जारी की, जिसे हर साल सत्ता पक्ष द्वारा "सुशासन दिवस" के रूप में मनाया जाता है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM-KISAN) योजना को 2019 में पीएम मोदी द्वारा शुरू किया गया था। इस योजना का उद्देश्य देश भर के सभी भूमिधारक किसान परिवारों को खेती योग्य भूमि के साथ कुछ विशेष छूट के अधीन आय सहायता प्रदान करना है। इस योजना के तहत, लाभार्थियों के बैंक खातों में प्रत्येक वर्ष 2000 रुपए की तीन 4-मासिक किस्तों में सीधे 6000 रुपए की राशि ट्रांसफर की जाती है।
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर