Bonus for railway employees : रेल कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, मिलेगा 78 दिनों के वेतन के बराबर बोनस

Productivity Linked Bonus : रेल मंत्रालय ने रेल कर्मचारियों के लिए बड़ी घोषणा की है। नन-गजेडेट रेल कर्मचारियों 78 दिनों के वेतन के बराबर बोनस दिया जाएगा। 

PLB : Good news for railway employees, will get bonus equal to 78 days salary
रेलवे कर्मचारियों को बोनस 

मुख्य बातें

  • नन-गजेडेट रेल कर्मचारियों को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 78 दिनों के वेतन के बराबर बोनस दिया जाएगा
  • रेलवे कर्मचारियों को 78 दिनों के पीएलबी के भुगतान के रूप में 2081.68 करोड़ रुपए दिए जाएंगे
  • करीब 11.58 लाख नन-गजेडेट रेलवे कर्मचारियों को इस फैसले से लाभ होने की संभावना है

PLB for railway employees : रेल मंत्रालय ने घोषणा की कि करीब 11.58 लाख नन-गजेडेट रेल कर्मचारियों को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 78 दिनों के वेतन के बराबर बोनस दिया जाएगा। रेलवे कर्मचारियों के प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस (PLB ) के लिए 2081.68 रुपए दिए जाएंगे। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि केंद्रीय कैबिनेट ने 21 अक्टूबर 2020 को अपनी बैठक में रेल मंत्रालय के सभी पात्र गैर-राजपत्रित रेलवे कर्मचारियों (आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को छोड़कर) के लिए वित्तीय वर्ष 2019-2020 के लिए 78 दिनों के वेतन के बराबर प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस (PLB ) के भुगतान के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया था।

रेलवे कर्मचारियों को 78 दिनों के PLB के भुगतान के रूप में 2081.68 करोड़ रुपए दिए जाएंगे। जिन पात्र नन-गजेडेट रेलवे कर्मचारियों को PLB का भुगतान किया जाना है उनके वेतन की सीमा प्रतिमाह 7,000 रुपए तय की गई। पात्र रेलवे कर्मचारी को देय अधिकतम राशि 78 दिनों के लिए 17,951 रुपए है। करीब 11.58 लाख नन-गजेडेट रेलवे कर्मचारियों को इस फैसले से लाभ होने की संभावना है।

रेलवे की ओर से यह प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस पूरे देश में फैले सभी नन-गजेडेट रेलवे कर्मचारियों (आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को छोड़कर) को दिया जाएगा। पात्र रेलवे कर्मचारियों को PLB का भुगतान प्रत्येक वर्ष दशहरा/पूजा की छुट्टियों से पहले किया जाता है।

कैबिनेट के फैसले को इस वर्ष की छुट्टियां शुरू होने से पहले ही लागू किया जाएगा। उम्‍मीद है कि इससे कर्मचारियों को रेलवे के प्रदर्शन में सुधार करने की प्रेरणा मिलेगी। वर्ष 2019-20 के लिए 78 दिनों के वेतन के बराबर PLB का भुगतान किया जाएगा, जिससे रेलवे के प्रदर्शन में सुधार की दिशा में काम करने के लिए कर्मचारियों को प्रेरित करने की उम्मीद है।

यह ध्‍यान देने की बात है कि हालांकि यह भुगतान पिछले साल के प्रदर्शन यानी 2019-20 के लिए किया जा रहा है, लेकिन इस साल भी कोरोना वायरस महामारी के दौरान, रेलवे कर्मचारियों ने श्रमिक स्‍पेशल गाड़ियां चलाने, आवश्यक वस्तुओं,जिसमें खाद्यान्न, उर्वरक, कोयला आदि शामिल हैं, को लाने-ले जाने के लिए और लॉकडाउन के दौरान 200 से अधिक महत्वपूर्ण रखरखाव प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए बहुत मेहनत की जो रेलवे परिचालन में सुरक्षा और सर्वांगीण दक्षता को बढ़ावा देगा।

माल भाड़े के मामले में भी कोविड लॉकडाउन काल के बाद प्रमुख सुधार हुआ है। पिछले साल की तुलना में माल ढुलाई की गति अब लगभग दोगुनी हो गई है। पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में अक्टूबर 2020 की इसी अवधि में माल लदान में 14प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

उम्‍मीद है कि 2019-20 के लिए PLB के भुगतान से रेलवे कर्मचारियों को रेलवे के प्रदर्शन को बेहतर बनाने की दिशा में प्रेरित किया जा सकेगा। उनके काम को मान्‍यता मिलने से रेलवे परिवारों में समावेश और अपनेपन की भावना बढ़ेगी। इससे उत्पादकता के स्तर में और वृद्धि होने की उम्मीद है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर