Petrol Diesel price today: पेट्रोल और डीजल की कीमत में लगी आग, दिल्ली- कोलकाता में पेट्रोल 100 के पार

बिजनेस
ललित राय
Updated Jul 07, 2021 | 07:46 IST

पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत में 100 रुपए के पार चली गई है।

petrol diesel price today,petrol price in delhi, petrol diesel price in mumbai, petrol diesel price in kolkata
दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 100 के पार 

मुख्य बातें

  • पेट्रोल और डीजल की कीमत में एक बार फिर बढ़ोतरी, दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 100 के पार
  • पिछले 2 महीने में 36वीं बार इजाफा हुआ
  • दिल्ली और कोलकाता में पहली बार पेट्रोल की कीमत 100 के पार

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आग लगी हुई है। अगर बात दिल्ली समेत मुंबई, कोलकाता और चेन्नई की करें तो लोगों की जेब ढीली हो रही है। पिछले 2 महीने में इसकी कीमतों में 35 बार इजाफा हुआ है इस समय दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 110.21 रुपए यानी 100 के बेहद करीब और डीजल 89.36 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। आज की बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों में क्रमश: 35 पैसे और डीजल में 17 पैसे की बढ़ोतरी हुई। 

दिल्ली- कोलकाता में पेट्रोल पहली बार 100 के पार
फिलहाल पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 100.21 रुपये प्रति लीटर और 89.53 रुपये प्रति लीटर है। 1 मई को 90.40 रुपये प्रति लीटर की मूल्य रेखा से शुरू होकर, राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 68 दिनों में पेट्रोल 9.81 रुपये प्रति लीटर बढ़ गया। इसी तरह, राजधानी में डीजल की कीमतों में भी पिछले दो महीनों में 8.80 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। बुधवार को यह वृद्धि 4 मई के बाद से कीमतों में 36वीं बढ़ोतरी है, जब राज्य-नियंत्रित तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के दौरान दरों में संशोधन में 18 दिनों की रोक को समाप्त कर दिया था।

कच्चे तेल की लागत
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में बदलाव घरेलू बाजार में कच्चे तेल की कीमत को सीधे प्रभावित करता है; यह भारतीय घरेलू बाजार में पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। अंतरराष्ट्रीय मांग में वृद्धि, कम उत्पादन दर और दुनिया के कच्चे तेल उत्पादक देशों में कोई भी राजनीतिक अशांति पेट्रोल की कीमत को गंभीर रूप से प्रभावित करती है।
बढ़ी हुई मांग
 भारत और अन्य विकासशील देशों में आर्थिक विकास ने भी भारत में पेट्रोल और अन्य आवश्यक ईंधन की मांग में वृद्धि की है। निजी वाहन रखने वाले लोगों की संख्या हाल के दिनों में बढ़ी है, जिसने भारत में पेट्रोल की मांग में वृद्धि में योगदान दिया है; इसकी वजह से भारत में पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है।

आपूर्ति और मांग का बेमेल
भारत में तेल रिफाइनरी कंपनियों को कच्चे तेल के इनपुट मूल्य की उच्च लागत के कारण बाजार की मांगों को पूरा करने में समस्या का सामना करना पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप देश में पेट्रोल की आपूर्ति कम और अधिक मांग होती है। आपूर्ति में वृद्धि से पेट्रोल की कीमत में कमी आती है और इसके विपरीत। तेल शोधन और विपणन कंपनियां छह सप्ताह तक कच्चे तेल की सूची बनाए रखती हैं, जो पेट्रोल और पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत को भी प्रभावित करती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर