महंगाई की एक और मार, LPG सिलेंडर के बाद CNG और PNG के भी बढ़े दाम

रसोई गैस सिलेंडर के बाद सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। यह वृद्धि आज (02 मार्च) से लागू हो गई है।

One more hit of inflation, CNG and PNG prices also rise after LPG cylinder
सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली: दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में सिटी गैस वितरक इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (IGL) ने 2 मार्च 2021 को सुबह 6 बजे से प्राकृतिक गैस (CNG) और पाइप्ड नेचुरल गैस (PNG) की कीमतों में बढ़ोतरी की है। यह बढ़ोतरी घरेलू रसोई गैस की कीमतों में फिर से वृद्धि के बाद हुई है। 1 मार्च से, रसोई गैस (रसोई गैस पेट्रोलियम गैस) की कीमत में सभी कैटैगरी में 25 रुपए प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी हुई है, जिसमें सब्सिडी वाले ईंधन और उज्जवला योजना के लाभार्थी शामिल हैं। दिल्ली में 14.2 किलोग्राम के गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी इंडेन सिलेंडर की कीमत 25 रुपए बढ़ाकर 819 रुपए कर दी गई है। पिछले 1 महीने में एलपीजी की कीमतों में 4 बार बढ़ोतरी की गई है, जिसमें सोमवार की बढ़ोतरी भी शामिल है।

आईजीएल ने सोमवार को एक ट्वीट में उल्लेख किया कि दिल्ली के एनसीटी में संशोधित सीएनजी की कीमत  43.40 रुपए प्रति किलोग्राम है, जबकि संशोधित पीएनजी की कीमत 28.41 रुपए प्रति एससीएम (वैट समेत) हो गई है।

IGL ने एक बयान में कहा कि मूल्य में इस संशोधन से दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर, फतेहपुर, हमीरपुर, मुज्जफरनगर, शामली, करनाल, करहल और रेवाड़ी में सीएनजी के उपभोक्ता मूल्यों में 70 पैसे प्रति किलोग्राम की वृद्धि होगी और यह बढ़ोतरी दो मार्च सुबह 6 बजे से प्रभावी होगी।

गौर हो कि ऑटो ईंधन की कीमतों में रिकॉर्ड स्तर तक गिरावट जारी है। केंद्र ने सोमवार को रिपोर्ट में कहा कि पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क कम करने की योजना बनाई जा रही है। रॉयटर्स ने सोमवार को तीन सरकारी अधिकारियों के हवाले से मामले की जानकारी दी।

IGL ने अपने घरेलू PNG मूल्यों में 2 मार्च 2021 से वृद्धि की घोषणा की है। दिल्ली में घरों में PNG के उपभोक्ता मूल्य में 91 पैसे प्रति एससीएम की वृद्धि हुई है। इसकी कीमत 27.50 रुपए प्रति एससीएम से बढ़ाकर 28.41 रुपए प्रति एससीएम कर दी गई है।

IGL ने कहा कि महामारी के दौरान पूरे लॉकडाउन अवधि में स्वच्छ ईंधन - सीएनजी और पीएनजी की निरंतर और निर्बाध आपूर्ति बनाए रखा है। ग्लोबल बाजार में आपूर्ति नियंत्रण के साथ जारी रखने के लिए पेट्रोलियम निर्यातक देशों (ओपेक) प्लस के संगठन के निर्णय के बाद ऊर्जा की कीमतों में बड़े पैमाने पर वृद्धि हुई है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर