Falguni Nayar: Nykaa की संस्थापक बनीं भारत की सबसे अमीर सेल्फ-मेड महिला अरबपति

बिजनेस
डिंपल अलावाधी
Updated Nov 11, 2021 | 10:00 IST

Nykaa Founder Falguni Nayar: बुधवार को नायका की होल्डिंग कंपनी FSN Ecommerce Ventures के शेयर सूचीबद्ध हुए। नायका की संस्थापक भारत की सबसे अमीर सेल्फ-मेड महिला अरबपति बन गई हैं।

Nykaa Founder Falguni Nayar
Falguni Nayar: Nykaa की संस्थापक बनीं भारत की सबसे अमीर सेल्फ-मेड महिला अरबपति  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • Nykaa उपभोक्ता प्रौद्योगिकी मंच है, जो उपभोक्ताओं को लाइफस्टाइल रिटेल अनुभव प्रदान करता है।
  • फाल्गुनी नायर, उनके पति संजय नायर और उनके दो बच्चों की FSN ई-कॉमर्स वेंचर्स में 53 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी है।
  • नायका का आईपीओ 28 अक्टूबर को खुला था और यह 1 नवंबर को बंद हुआ।

Nykaa Founder Falguni Nayar: नायका (Nykaa) की संस्थापक फाल्गुनी नायर (Falguni Nayar) बुधवार को भारत की सातवीं महिला अरबपति और भारत की सबसे अमीर सेल्फ-मेड महिला अरबपति (billionaire) बन गई हैं। नायका की होल्डिंग कंपनी एफएसएन ई-कॉमर्स वेंचर्स (FSN Ecommerce Ventures) के शेयरों की दलाल स्ट्रीट पर धमाकेदार शुरुआत के बाद से ही फाल्गुनी नायर की चर्चा होने लगी है। कंपनी के शेयर बाजार में बुधवार को सूचीबद्ध हुए थे और मजबूत लिस्टिंग के साथ, एफएसएन ई-कॉमर्स वेंचर्स के बाजार पूंजीकरण ने 1 लाख करोड़ रुपये तक स्तर छुआ। 

Nykaa की होल्डिंग कंपनी FSN ई-कॉमर्स वेंचर्स, स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने वाली भारत की पहली महिला-नेतृत्व वाली कंपनी है। बाजार खुलने के डेढ़ घंटे के भीतर ही नायका का मार्केट कैप ब्रिटानिया, गोदरेज और इंडिगो जैसी कंपनियों के मार्केट कैप तक पहुंच गया। बुधवार को दलाल स्ट्रीट पर ब्यूटी प्रोडक्ट्स रिटेलर के शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर 89 फीसदी बढ़कर 2,129 रुपये हो गए थे, जबकि इसका इश्यू प्राइस 1,125 रुपये था। आज भी कंपनी के शेयर 2,000 के ऊपर कारोबार कर रहे हैं।

9 साल पहले की थी कंपनी की स्थापना
इन्वेस्टमेंट बैंकर से उद्यमी बनीं फाल्गुनी नायर ने 9 साल पहले कंपनी की स्थापना की थी। उन्हें नायका के शेयर की कीमत में उछाल के साथ ही अरबपति क्लब (billionaire club) में शामिल किया गया। नायर और उनके परिवार की हिस्सेदारी अब 6.5 बिलियन डॉलर की है, जो उन्हें भारत में सबसे अमीर सेल्फ-मेड उद्यमियों में से एक बनाती है।

नायर ने इकोनॉमिक टाइम्स कहा कि वह दुनिया भर में 120 से अधिक उच्च-गुणवत्ता वाले शीर्ष निवेशकों से मिलीं, जिन्होंने कंपनी से बहुत कठिन प्रश्न पूछे और कंपनी की योजनाओं से बहुत खुश हुए। नायर ने कहा कि, 'हमने बेचने के लिए व्यवसाय का निर्माण नहीं किया है। उन्होंने कहा कि अगर कंपनी को निजी निवेशकों द्वारा अधिक मूल्यांकन मिलता है, तो भी वह सार्वजनिक बाजारों को ही चुनेंगी।'

कंपनी में अपनी 50 फीसदी से अधिक हिस्सेदारी के बारे में नायर ने कहा कि, 'पेशेवर प्रतिभा का बहुत सम्मान किया जाता है और उनकी बहुत बड़ी भूमिका होती है कि हम एक परिवार के रूप में कितना कर सकते हैं? मेरे लिए यह बहुत अच्छा है कि अंचित नायर और अद्वैता नायर दोनों व्यवसाय को लेकर उत्साहित हैं और उन्होंने इससे जुड़ने का विकल्प चुना है। पारिवारिक स्वामित्व किसी भी व्यवसाय के लिए दीर्घकालिक ओरियंटेशन लाता है। इसमें केवल स्वामित्व ही नहीं बल्कि भागीदारी भी होती है। हमारे पेशेवर टीम के सदस्य समान रूप से महत्वपूर्ण हैं।'

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर