अब 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से कर सकेंगे यात्रा, रेलवे ने नए एसी कोचों का किया सफलतापूर्वक ट्रायल

भारतीय रेलवे ने नए एसी-2 टियर कोचों को 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाई गई। जल्द आप भी इस स्पीड पर सफर कर सकेंगे।

Now you will be able to travel at a speed of 180 kmph, Railways successfully trialled new AC coaches   
नए रेलवे कोचों का ट्रायल 

मुख्य बातें

  • यूरोपीय मानकों पर ट्रायल किया गया।
  • नए कोच में बर्थ की संख्या 72 से बढ़ाकर 83 कर दी गई है
  • कोच के भीतर डिजाइन में भी बदलाव किया गया है।

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने नए एसी-2 टियर एलएचबी कोच का स्पीड ट्रायल सफलतापूर्वक किया। नए कोच ने 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ लगाई। पश्चिम मध्य रेलवे (डब्ल्यूसीआर) के एक वरिष्ठ रेलवे अधिकारी के अनुसार, कोच के विभिन्न पहलुओं और यूरोपीय मानकों के अनुपालन की जांच के लिए ट्रायल किए गए।

रेलवे अधिकारी ने मिंट को बताया कि भारतीय रेलवे ने नागदा-कोटा-सवाई माधोपुर खंड में डब्ल्यूसीआर में विभिन्न कोचों और इंजनों के 60 से अधिक स्पीड ट्रायल किए हैं, जिनकी कुल लंबाई लगभग 350 किमी है और अब तक इस खंड में करीब 8900 किमी स्पीड ट्रायल का आयोजन किया गया है।  

भारतीय रेलवे ने पहले ही 180 किमी प्रति घंटे की स्पीड से नागदा-कोटा-सवाई माधोपुर सेक्शन पर वातानुकूलित थ्री टियर इकोनॉमी क्लास कोचों का सफल दोलन ट्रायल किया था। भारतीय रेलवे ने उसी का एक वीडियो भी साझा किया जिसमें स्पीडोमीटर को 180 किमी प्रति घंटे के निशान को छूते हुए और ट्रेन को बिजली की गति से विभिन्न निशानों को पार करते हुए देखा जा सकता है।

भारतीय रेलवे की अगले दो साल में मुंबई-दिल्ली रूट पर 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें चलाने की योजना है और नागदा-कोटा-सवाई माधोपुर सेक्शन इसी रूट पर आता है। इस रूट पर फिलहाल 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें चल रही हैं।

नए एसी 3-टियर इकोनॉमी कोच की विशेषताएं:

कोच के प्रत्येक बर्थ के लिए एसी डक्ट रिडिजाइन किया गया है।
 
कोच में सीटों और बर्थों का एक बेहतर और मॉड्यूलर डिजाइन है, फोल्डेबल स्नैक टेबल, इंजरी फ्री स्पेस और पानी की बोतलें, मोबाइल फोन और पत्रिकाओं के लिए जगह हैं।

मानक सॉकेट के अलावा प्रत्येक बर्थ के लिए अलग-अलग रीडिंग लाइट और मोबाइल चार्जिंग पॉइंट प्रदान किए जाते हैं।

कोच में व्यापक दरवाजे हैं जो इसे विशेष रूप से विकलांग यात्रियों के लिए सुविधाजनक बनाते हैं।

कोच में अतिरिक्त बर्थ दी गई है। नए कोच में बर्थ की संख्या 72 से बढ़ाकर 83 कर दी गई है। आरसीएफ की चालू और अगले वित्तीय वर्षों में 248 कोचों की उत्पादन योजना है। आरसीएफ चालू और अगले वित्तीय वर्षों में 248 ऐसे कोचों के निर्माण की योजना बना रहा है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर