Ambani Family : एशिया के दूसरे सबसे अमीर आदमी से दोगुना अमीर है मुकेश अंबानी परिवार 

इस साल मुकेश अंबानी की संपत्ति इतनी बढ़ी की कि अंबानी परिवार एशिया के दूसरे स्थान के अमीर व्यक्ति से दोगुना अमीर हो गया। 

Mukesh Ambani Family is now twice as rich as Asia's second richest Kwoks of Hong Kong
मुकेश अंबानी 

मुख्य बातें

  • मुकेश अंबानी भारत के सबसे अमीर और शक्तिशाली व्यक्ति हैं
  • मुकेश अंबानी एशिया के भी सबसे अमीर आदमी है
  • संपत्ति के मामले में एशिया में मुकेश अंबानी के आस-पास कोई नहीं है

मुकेश अंबानी, भारत के सबसे अमीर और सबसे शक्तिशाली नागरिक हैं। सितंबर की शुरुआत में अपनी पत्नी, तीन बच्चों और अपने पार्टनर्स के साथ बर्गेंस्टॉक रिसोर्ट में अपने विशाल व्यापारिक साम्राज्य से अलग महत्वपूर्ण क्षण बताए। कोरोनो वायरस महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया। वहीं अंबानी ने इस दौरान रिलायंस की डिजिटल यूनिट के स्टेक बेचने के लिए दुनिया के कुछ प्रमुख टैक्नोलॉजी दिग्गजों के साथ सौदे किए। मुकेश अंबानी अब एशिया के सबसे अमीर अमीर आदमी तो है ही। लेकिन अंबानी परिवार एशिया के दूसरे स्थान के अमीर आदमी से दोगुने अमीर हो गए हैं यानी इनके आस-पास कोई नहीं है।

टाइकून अपनी रिफाइनरी की अगुवाई वाले समूह को एक टैक्नोलॉजी टाइटन में बदल रहा था, लेकिन निवेशकों ने एक महत्वपूर्ण सवाल पूछना शुरू कर दिया था- कौन टेकओवर करेगा? महीनों तक, भारत में लोगों ने अंबानी के काम करने वाले संभावित नए ढांचे के बारे में अनुमान लगाया था, जिसमें उनके तत्काल परिवार सहित जुड़वां ईशा और आकाश और उनके छोटे भाई अनंत को उत्तराधिकार योजना को सक्षम करने के लिए समान प्रतिनिधित्व दिया जाएगा। अमेरिका में टॉप लेवल के विश्वविद्यालयों में पढ़े-लिखे सभी बच्चे, पारिवारिक व्यवसाय में जिम्मेदारी निभा रहे हैं। हाल के वर्षों में, जैसा कि उनका भाग्य और प्रभाव बढ़ा है, अंबानी ने एशिया के आर्थिक और सांस्कृतिक जीवन में बड़ी भूमिका निभाई है। 

रिलायंस 90 बिलियन डॉलर वार्षिक राजस्व और करीब 195,000 कर्मचारियों वाली कंपनी है। इस तरह रिलायंस का दबदबा है, यह परिवार अब एशिया के दूसरे सबसे अमीर, हांगकांग के कियोक्स के मुकाबले दोगुना अमीर है। इस क्षेत्र के 20 सबसे अमीर राजवंशों की ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स रैंकिंग के अनुसार, अंबानी की संपत्ति दक्षिण कोरिया के ली परिवार से तिगुनी और जापान के तोरई और साजी क्लान की कुल संपत्ति का पांच गुना है। लिस्ट में पहली पीढ़ी के धन को शामिल नहीं किया गया है, यही वजह है कि इसका मुख्य भूमि चीन से कोई परिवार नहीं है, जहां अपेक्षाकृत युवा है और अक्सर टैक्नोलॉजी पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।

रिलायंस के एक प्रवक्ता ने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि उत्तराधिकार की क्या योजना चल रही है। उत्तराधिकार का मुद्दा ब्लूमबर्ग की 2020 की रैंकिंग में अधिकांश परिवारों के लिए एक प्रमुख है। यह अंबानी परिवार के लिए महत्वपूर्ण है। धीरूभाई अंबानी की 2002 में बिना वसीयत बनाए मृत्यु हो गई थी। मुकेश और उसके छोटे भाई अनिल के बीच संपत्ति को लेकर झगड़ा शुरू हो गया था। मां ने हस्तक्षेप किया और 2005 में संपत्ति का विभाजन कर दिया गया। जिसमें मुकेश को तेल-शोधन और पेट्रोकेमिकल का बिजनेस दिया गया और अनिल को फाइनेस, इंफ्रास्ट्रक्चर, बिजली और टेलकॉम सेक्टर दिए गए।


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर