एलटीसी कैश वाउचर स्कीम: जानिए इसका लाभ किन्हें मिल सकता है और कैसे प्राप्त करें

लीव ट्रेवल कंसेशन (LTC) कैश वाउचर स्कीम की समय सीमा 31 मार्च को खत्म हो रही है। यहां जानिए इसका लाभ कौन और केसै उठा सकता है।

LTC Cash Voucher Scheme: know who can get its benefits and how to get it
एलटीसी कैश वाउचर स्कीम 

केंद्र सरकार ने अक्टूबर 2020 में लीव ट्रेवल कंसेशन (LTC) कैश वाउचर स्कीम की घोषणा की। यह स्कीम सरकारी कर्मचारियों और प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को यात्रा के लिए LTC के बदले सामान और सेवाओं की खरीद के जरिये टैक्स लाभ का दावा करने की अनुमति देती है। इस स्कीम का चयन करके कर्मचारी लीव ट्रेवल कंसेशन/लीव ट्रेवल अलाउंस (LTA/LTC) के टैक्स फ्री हिस्से के बदले में सामान और सेवाएं खरीद सकते हैं। अगर सरकार द्वारा दिए कुछ शर्तों को पूरा किया जाता है, तो वे यात्रा किराया पर टैक्स-छूट का दावा कर सकते हैं। कर्मचारी को जीएसटी नंबर और भुगतान की गई जीएसटी राशि का का नकद वाउचर मिलेगा।

टैक्स छूट का लाभ उठाने के लिए, कर्मचारियों को या तो सामान या सेवाओं की खरीद करने की आवश्यकता होती है जो कि 3 गुना मात्रा में होती हैं जो यात्रा टिकट के संबंध में रियायत के रूप में दावा किया जाएगा। यह खर्च 31 मार्च, 2021 से पहले डिजिटल मोड के माध्यम से 12% या अधिक जीएसटी को आकर्षित करने वाली वस्तुओं और सेवाओं पर किया जाना है। 

एलटीसी नकद वाउचर स्कीम का लाभ किन्हें मिल सकता है:-

  1. यह स्कीम उन कर्मचारियों पर लागू नहीं है, जिन्होंने नई टैक्स व्यवस्था का विकल्प चुना है, जिसमें टैक्स की दरें कम हैं, लेकिन आप अधिकांश कटौती और छूट को छोड़ देते हैं।
  2. इसके अलावा, टैक्सपेयर को पहले से ही ब्लॉक के लिए एलटीसी छूट समाप्त नहीं करनी चाहिए (वर्तमान ब्लॉक 2018-21 है)। हर टैक्सपेयर चार साल के ब्लॉक में दो यात्रा के लिए यात्रा भत्ता (एलटीए) छूट का दावा कर सकता है।
  3. यह स्कीम शुरू में सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू की गई थी, लेकिन बाद में प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों के लिए भी बढ़ा दी गई।
  4. इस स्कीम के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए, कर्मचारियों को 12 अक्टूबर से 31 मार्च के बीच खरीद के लिए बिल जमा करना आवश्यक है।
  5. खर्च की जाने वाली आवश्यक राशि, एलटीसी किराया के तीन 3 गुना के बराबर होना चाहिए। स्कीम के तहत 12% या उससे अधिक की वस्तुओं और सेवाओं के बिल पर जीएसटी का दावा किया जा सकता है। माल/सेवाओं के लिए भुगतान अनिवार्य रूप से एक डिजिटल मोड के माध्यम से किए जाने की आवश्यकता है।

टैक्सपेयर निम्नलिखित शर्तों का पालन करके LTC नकद वाउचर स्कीम का लाभ उठा सकता है:-

  1. यह राशि 12 अक्टूबर 2020 से 31 मार्च 2021 के बीच की अवधि के बीच खर्च की जानी चाहिए।
  2. भुगतान को डिजिटल मोड अर्थात वीडियो मोड में किया जाना चाहिए। यूपीआई, चेक, क्रेडिट या डेबिट कार्ड इत्यादि।
  3. खरीद किसी जीएसटी रजिस्टर्ड विक्रेता से की जानी चाहिए और चालान प्राप्त किया जाना चाहिए जो नियोक्ता को प्रस्तुत किया जा सकता है।
  4. अगर आप उपर्युक्त शर्तों को पूरा करते हैं तो ही आप स्कीम के तहत लाभों का दावा कर पाएंगे।

LTC कैश वाउचर स्कीम टैक्स इंप्लीकेशन्स 

स्कीम यह भी प्रदान करती है कि अगर कर्मचारी कम राशि खर्च करता है, तो देय कुल राशि आनुपातिक रूप से कम हो जाएगी। आगे के कर्मचारी जिन्होंने सरलीकृत टैक्स व्यवस्था (नई टैक्स व्यवस्था) का विकल्प चुना है, वे इस योजना के तहत टैक्स राहत का दावा करने के योग्य नहीं हैं। हालांकि ऐसे कर्मचारी वर्तमान टैकस्था व्यवस्था के लिए फिर से चयन करने पर विचार कर सकते हैं, अगर यह स्कीम के लाभ के लिए नियोक्ता द्वारा प्रदान किया गया विकल्प है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर