क्यों आपको ITR दाखिल करने के लिए 31 दिसंबर की समय सीमा का इंतजार नहीं करना चाहिए

वित्त वर्ष 2019-20 के आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख 31 दिसंबर 2020 किए जाने की अधिसूचना जारी कर दी गई है। अधिसूचना के मुताबिक व्यक्तिगत आयकरदाता 31 दिसंबर तक अपना आयकर रिटर्न दाखिल कर सकते हैं।

Income Tax Return
आयकर रिटर्न 

मुख्य बातें

  • आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ी
  • कोविड-19 के दौर में राहत देने के लिए सरकार बार-बार आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि को आगे खिसका रही है

नई दिल्ली: सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न भरने की तारीख एक बार फिर बढ़ा दी है। अब इसे 31 दिसंबर 2020 कर दिया गया है। अधिसूचना के मुताबिक व्यक्तिगत आयकरदाता 31 दिसंबर तक अपना आयकर रिटर्न दाखिल कर सकते हैं। वहीं जो लोग ऑडिट कराने के बाद आयकर रिटर्न दाखिल करते हैं उनके लिए इसकी आखिरी तारीख 31 जनवरी 2021 होगी। हालांकि कोरोना वायरस महामारी के चलते इस साल बार-बार समय सीमा बढ़ा गई है, लेकिन विशेषज्ञ टैक्स रिटर्न दाखिल करने के लिए अंतिम दिन तक इंतजार नहीं करने की सलाह देते हैं।

यह करदाता के लिए लाभदायक है कि फाइलिंग को विस्तारित अवधि के अंतिम दिन तक नहीं छोड़े क्योंकि अंतिम समय में कर रिटर्न दाखिल करने पर कुछ त्रुटियां हो सकती हैं।

ये हैं कारण, इसलिए आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए आपको 31 दिसंबर की समय सीमा का इंतजार नहीं करना चाहिए:

आखिर समय की त्रुटियों से बचें

ITR फाइलिंग में यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान की आवश्यकता है कि विवरण सटीक हो। आपके पास सभी दस्तावेज, कर विवरण, ब्याज आय प्रमाण पत्र इत्यादि होना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उल्लिखित सभी विवरण सही हैं ताकि त्रुटि होने की संभावना न हो। इसे ध्यान से करने से बाद में सुधार और संशोधन से बचना होगा। यदि आप समय सीमा से पहले अपना आईटीआर फाइल करते हैं, तो आईटीआर की त्रुटियां होने की संभावना तुलनात्मक रूप से कम है।

देर से ब्याज भुगतान

ऐसे करदाता जिनकी कर देयता 1 लाख रुपए से अधिक है, उन्हें पहले की तरह अपना कर रिटर्न दाखिल करने का प्रयास करना चाहिए चूंकि वे महीने के आधार पर महीने में ब्याज भुगतान में वृद्धि के अधीन होंगे। ITR फाइल करने में असफल रहने पर हर महीने या उसके एक हिस्से के लिए 1 प्रतिशत की दर से ब्याज लगता है। 

जल्द रिफंड प्रोसेसिंग

यदि आपका टैक्स रिफंड बकाया है, तो भुगतान में देरी होगी क्योंकि कर विभाग रिटर्न दाखिल करने के बाद ही आपके रिफंड की प्रक्रिया शुरू करेगा। कर विभाग देर से रिटर्न के मामले में रिटर्न दाखिल करने की तारीख से रिफंड पर ब्याज का भुगतान करता है। इसलिए यदि आप विलंबित रिटर्न दाखिल करने में देरी करते हैं, तो आप अपने कर वापसी पर ब्याज भुगतान पर खो देंगे।

टैक्सपेयर्स को ITR दाखिल करने के लिए आखिरी तारीख को लेकर सावधान रहने की जरूत है। निर्धारित समय तक ITR नहीं भरने पर जुर्माना भी भड़ना पड़ेगा। इतना ही नहीं साल में मिलने वाले टैक्स बेनिफिट्स का नुकसान उठाना पड़ेगा। इसलिए, नियत तारीख को या उससे पहले ITR दाखिल करना महत्वपूर्ण है।  

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर