Investing in Gold on Dhanteras 2020: सोना में निवेश है फायदे का सौदा, पिछले धनतेरस से अब तक 34% बढ़े दाम

हाल के दिनों में सोने की कीमतों में उछाल के कारण सोने के आभूषणों की मांग पर असर पड़ा है। लेकिन धनतेरस पर सोना में निवेश करें, काफी बेहतर रिटर्न मिलेगा।

Investing ideas in Yellow metal check the return on gold since the last dhanteras
सोना मे निवेश से फायदा ही फायदा 

मुख्य बातें

  • धनतेरस पर सोना खरीदना सबसे शुभ होता है
  • पिछले पांच वर्षों में धनतेरस पर सोने की खरीदने वाले मालामाल हो गए हैं
  • पिछले धनतेरस से लेकर अब तक सोने की कीमतों में 34% का उछाल आया है

नई दिल्ली: हर साल दिवाली और धनतेरस पर सोना खरीदना सबसे शुभ समय माना जाता है। धनतेरस के आसपास सोना खरीदने की परंपरा लंबी चली आ रही है। इस मौके पर सोना खरीदने से काफी लाभ मिला है। ईटी वेल्थ की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच वर्षों में प्रत्येक धनतेरस पर सोने की खरीद करने वाले निवेशकों ने 17.9% CAGR रिटर्न अर्जित किया है जबकि 10 साल और 15 साल की अवधि में क्रमशः 10.7% और 11.9% मिला है।

पिछले पांच वर्षों में उच्च रिटर्न को पिछले एक साल में सोने की कीमतों में तेजी के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। पिछले धनतेरस से लेकर अब तक सोने की कीमतों में 34% का उछाल आया है। हालिया बढ़ोतरी के बावजूद एक्सपर्ट्स का मानना है कि जो लोग इस धनतेरस पीली धातु में निवेश करेंगे तो भविष्य में बेहतर रिटर्न मिलेगी, क्योंकि उम्मीद है कि सोने की कीमतों में मौजूदा तेजी कुछ और समय तक जारी रहेगी। हालांकि सोने से भविष्य के रिटर्न उस रिटर्न से मेल नहीं खा सकते हैं जो निवेशकों को पिछले एक साल में सोने से मिला था। ईटी वेल्थ के कमोडिटीज एंड करेंसी डायरेक्टर नवीन माथुर, स्टॉक और स्टॉक ब्रोकर आनंद राठी ने बताया कि कोविड की वजह से अनिश्चितता, सोने की कीमतों की प्रमुख ड्राइवरों में से एक, पहले से ही इसकी कीमत अधिक है। वैक्सीन आने तक बढ़ेगा

सोने की कीमतों में हालिया उछाल के कारण सोने के आभूषणों की मांग पर असर पड़ा है। लेकिन एक्सपर्ट का मानना है कि उच्च स्तर पर कीमत स्थिर होने के बाद फिजिकल गोल्ड की उपभोक्ता डिमांड ठीक हो जाएगी। हालांकि आभूषणों की मांग में कमी है, फिर भी भारतीय सोना खरीद रहे हैं। गोल्ड ईटीएफ के एयूएम में हालिया वृद्धि, गोल्ड बॉन्ड इश्यू में भारी कलेक्शन, सोने की छड़ और सिक्कों की मांग में वृद्धि, जो तीसरी तिमाही में 49% तक बढ़ गई।

 

एवीपी, फंडामेंटल रिसर्च- कमोडिटीज, शेयरखान कॉमट्रेड प्रवीण सिंह ने कहा कि हम सोने पर तेजी जारी रख रहे हैं और दुनिया भर में अधिक प्रोत्साहन और मुद्रा विवाद के साथ सोना एक साल में 2,500 डॉलर प्रति ट्रॉय औंस तक पहुंचने की उम्मीद है। सोने की निवेश डिमांड इन दिनों मजबूत रहेगी क्योंकि सोने को करेंसी की तरह छापा नहीं जा सकता है। विकसित देशों के सरकारी कागजात पर नकारात्मक ब्याज दर एक अन्य कारक है जो निवेशकों को सोने की ओर आकर्षित कर रहा है।

तकनीकी कारक भी अब सोने के पक्ष में काम कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, तीसरी तिमाही के दौरान ग्लोबल स्वर्ण ईटीएफ में शुद्ध प्रवाह 273 टन था। 2020 के पहले नौ महीनों के दौरान गोल्ड ईटीएफ में 1000 टन से अधिक की आमद के साथ, गोल्ड ईटीएफ होल्डिंग्स 3,872 टन के ऑल टाइम हाई लेवल पर पहुंच गया है। इसके अलावा, दुनिया भर के केंद्रीय बैंक 2020 के दौरान सोने के शुद्ध खरीदार रहे हैं।
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर