GDP: भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.7 फीसद की आ सकती है कमी, NSO का अनुमान

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए जीडीपी के बारे में जो अनुमान लगाया है उसके मुताबिक भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.7 फीसद की कमी आ सकती है।

GDP: भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.7 फीसद की आ सकती है कमी, NSO का अनुमान
जीडीपी में 7.7 फीसद की कमी का अनुमान 

मुख्य बातें

  • जीडीपी में 7.7 फीसद की आ सकती है कमी
  • राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय का अनुमान
  • कृषि क्षेत्र को छोड़कर सभी सेक्टर में गिरावट दर्ज

नई दिल्ली।  गुरुवार को जारी अपने अग्रिम जीडीपी अनुमानों में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) के अनुसार वित्त वर्ष 2020-21 (FY21) के दौरान वार्षिक आधार पर भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.7% की कमी आ सकती है। इसके पीछे बड़ी वजह कोविड-19 महामारी को बताया जा रहा है। कोरोना की वजह से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। सरकार के पहले अग्रिम अनुमान में यह जानकारी दी गई थी कि पिछले वित्त वर्ष में इकॉनमी 4.2 फीसदी बढ़ी थी। नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस ने नैशनल इनकम का पहला अग्रिम अनुमान जारी किया।

सिर्फ कृषि क्षेत्र में उम्मीद की किरण
एनएसओ के मुताबिक कृषि क्षेत्र को अगर अपवाद मानें तो सभी सेक्टरों में गिरावट आई है। एनएसओ ने बताया कि वित्त वर्ष 2020-21 में रियल जीडीपी यानी स्थिर मूल्य (2011-12) पर जीडीपी के 134.40 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है जबकि 2019-20 के लिए जीडीपी का अस्थायी अनुमान 145.66 लाख करोड़ रुपए है। इस तरह रियल जीडीपी की ग्रोथ माइनस में जा सकती है जिसकी वैल्यू -7.7 फीसदी रह सकती है। जबकि 2019-20 में  जीडीपी 4.2 फीसद थी।

क्या कहते हैं जानकार
जानकार कहते हैं कि एनएसओ की तरफ से जो अनुमान जारी किया गया है उसके पीछे वजह भी है। पैनडेमिक की वजह से विनिर्माण क्षेत्र को तमाम तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा और उसका असर कोर सेक्टर पर पड़ना स्वाभाविक था। इसके साथ ही वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था एक तरह से ठप हो गई तो उसका दीर्घकालिक असर पड़ना संभावित है। हालांकि यह अनुमान है, आने वाले समय में देखना होगा कि किस तरह से भारत सरकार ने जो स्टिमुलस पैकेज दिए हैं उसका असर किस रूप में सामने नजर आता है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर