कोरोना काल में भारत आर्थिक मोर्चे पर इतिहास रचने के लिए तैयार, यह है वजह

वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए कोरोना काल एक बड़ी चुनौती के तौर पर सामने आया है। लेकिन इस महामारी के बीच भारत आर्थिक मोर्चे पर लंबी छलांग लगाने के लिए तैयार है।

,Indian Economy, GDP, Corona Pandemic, International Monetary Fund, World Bank
कोरोना काल में भारत आर्थिक मोर्चे पर इतिहास रचने के लिए तैयार, यह है वजह 

भारतनोबेल, ऑस्कर, ओलंपिक की क्लास में पीछे हैलेकिन इकॉनोमिक्स की क्लास में भारत टॉपर हैकोविड के बाद दुनिया रिकवरी मोड में हैइसमें भारत की रफ्तार सबसे ज़्यादा है.जीडीपी ग्रोथ के अनुमान में भारत टॉपर है। वर्ल्ड बैंक के प्रेसिडेंट डेविड मल्पस का कहना है कि कोरोना काल में भारत की अर्थव्यस्था रिकवरी मोड में है। 

2021-22
भारत- 9.5%
दुनिया-5.9%

2022-23
भारत - 8.5%
दुनिया- 4.9%

दुनिया में किसकी कितनी जीडीपी ग्रोथ का अनुमान?

जीडीपी ग्रोथ में नंबर वन इंडिया!

                 2022                   2021
भारत -       8.5%                    9.5%
चीन -         5.6%                   8.0%
अमेरिका -   5.2 %                  6.0%
जर्मनी -      4.6%                   3.1%
फ्रांस -        3.9%                   6.3%
इटली -       4.2%                    5.8%
जापान -      3.2%                   2.4%
ब्रिटेन -        5%                      6.8%
हर ग्लोबल संस्था भारत को नंबर वन बता रही है।

ग्रोथ रेट का अनुमान- 2021-22
IMF-9.5 % <International Monetary Fund>
World Bank- 8.3 %
Fitch Ratings -8.7 %
ADB-10 % <Asian Development Bank>
-पूरी दुनिया के निवेशक भारत में अपना भविष्य देख रहे हैं
-निवेशकों में एक बड़ा नाम अमेरिका के जॉन चैंबर्स का है
-जॉन चैंबर्स इंवेस्टमेंट कंपनी JC2 वेंचर्स के संस्थापक हैं
-कुछ दिन पहले ही उन्होंने कहा था कि जॉन चैंबर्स, फाउंडर और चेयरमैन JC2 वेंचर्स
"मोदी उन 3 टॉप नेताओं में से एक जिनसे मैं जिंदगी में मिला। वो अविश्वसनीय हैं, वो अपनी रणनीति खुद बनाते हैं। अगर मुझे एशिया में किसी एक देश पर दांव लगाने को कहा जाए तो मैं भारत पर ही दांव लगाउंगा। और अगर 2 देशों पर दांव लगाने को कहा जाए तो दोनों बार भारत का नाम लूंगा।"

भारत को सब नंबर वन क्यों मान रहे हैं?क्यों भारत की अर्थव्यवस्था तेज़ी से बढ़ेगी?इसके कारण आपको बताते हैं।

फास्ट वैक्सीनेशन
95 करोड़ से ज़्यादा डोज़- लग चुकी है
पहला डोज - 77 %
दूसरा डोज - 31 %

दूसरी वजह
लगातार छठे महीने निर्यात 
30 बिलियन डॉलर के पार 

तीसरी वजह
देश में निवेश बढ़ा है 
Production-linked incentive के तहत 
3300 करोड़ का निवेश 

चौथी वजह
इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन 12% बढ़ा 

पांचवीं वजह
सप्लाई चेन बेहतर हुई 

छठी वजह
सर्विस सेक्टर में PMI बढ़ा यानी परचेसिंग मैनेजर्स इंडेक्स इसका अर्थ यह है कि  यानी भारतीय अर्थव्यवस्था पर भरोसा बढ़ा है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर