वर्ष 2020 में 81 करोड़ लोगों को मिला वन नेशन वन राशन कार्ड, सस्ती दरों में कहीं भी खरीद सकते हैं अनाज

वर्ष 2020 में मोदी सरकार 2.0 की महत्वाकांक्षी योजना वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम शुरू की गई। इसके जरिए बीपीएल में आने लोग देश के किसी कोने में सस्ती दरों पर अनाज सकते हैं। 

In year 2020, 81 crore people got One Nation One Ration Card, can buy food grains anywhere at cheaper rates
वन नेशन वन राशन कार्ड योजना  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का लाभ बीपीएल परिवारों को मिलता है
  • इस योजना के तहत पीडीएस की दुकान से देश के किसी भी कोने में सस्ती दरों पर अनाज खरीद सकते हैं
  • यह योजना मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की तरह है

One Nation One Ration Card : वर्ष 2020 हर तरह से बड़ा उथल-पुथल वाला साल रहा है। कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था तबाह हो गई। इस पर रोकथाम के लिए देशव्यापी लॉकडाउन लगाना पड़ा। जिससे करोड़ों लोग रोजगार से वंचित हो गए। इस दौरान गरीबों और मजदूरों को सस्ते दाम पर अनाज मुहैया कराने के लिए वन नेशन वन राशन कार्ड योजना एक जून से शुरू की गई। वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत राशन कार्ड की राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी की सुविधा 1 अगस्त, 2020 से 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के एकीकृत क्लस्टर में उपलब्ध है। यह मार्च 2021 से पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा। यह योजना मोदी सरकार 2.0 की एक महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक है। 

इस योजना के जरिए गरीब आदमी देश के किसी भी राज्य में राशन कार्ड की मदद से कम कीमत पर राशन खरीद सकते हैं। पहले ये व्यवस्था नहीं थी जिस जिले का राशन कार्ड होता था वहीं से राशन खरीद सकते थे लेकिन अब उसी राशन कार्ड से दूसरे राज्य से भी अनाज खरीद सकते हैं। किसी भी पीडीएस दुकान से अनाज की खरीदारी की जा सकती है। 

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम (पीडीएस) की दुकान पर 3 रुपए प्रति किलो चावल, 2 रुपए प्रति किलो गेहूं और 1 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से अन्य मोटे अनाज दिए जाते हैं। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून 2013 के तहत देशभर के 81 करोड़ लोगों का नाम रियायत दामों पर खाद्य सामग्री खरीदने के लिए रजिस्टर्ड हैं।

यह योजना मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की तरह है जिसके अनुसार आप एक राज्य से दूसरे राज्य जाने पर भी एक ही राशन कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं दूसरे राज्य जाने पर ना ही राशन कार्ड का नंबर बदलेगा और ही राशन कार्ड। सिर्फ राशन कार्ड की पोर्टेबिलिटी करानी होगी। इसमें 10 अंकों का राशन कार्ड नंबर जारी किया जाता है जिसमें पहले दो अंक राज्य के कोड होते हैं।

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के फायदे

  1. इस योजना के तहत सस्ती दरों पर अनाज मिलता है। 
  2. गरीबी रेखा के नीचे ( बीपीएल) आने वाले परिवारों को लाभ मिलता है। 
  3. बीपीएल में वाले लोग कम कीमत पर देश के किसी कोने में राशन खरीद सकते हैं।
  4. जो बीपीएल में आते हैं और रोजगार की तलाश में एक राज्य से दूसरा राज्य में जाते है वह इस योजना का लाभ उठा सकते है।
  5. अपने राशन कार्ड की सहायता से अपने हिस्से के अनाज को किसी भी पीडीएस दुकान से पारदर्शिता और बड़ी ही आसानी से खरीद सकता है।
  6. वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का उद्देश्य है कि देश में फर्जी राशन कार्ड को खत्म करना है।
  7. इस योजना से देश में चल रहे भष्टाचार को रोकने में मदद मिलेगी।
  8. अगर कोई व्यक्ति एक जगह से दूसरी जगह रहने जाता है तो उसे राशन लेने में कोई परेशानी नहीं होगी।
  9. इस योजना का फायदा प्रवासी मजदूरों को अधिक होगा। इन लोगों को पूरी खाद्य सुरक्षा मिलेगी।

अप्लाई कैसे करे?

किसी भी राशन कार्ड धारक को वन नेशन वन राशन कार्ड के तहत ऑनलाइन और ऑफलाइन अप्लाई करने की जरूरत नहीं है। सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश उपलब्ध आकड़ों के अनुसार लाभार्थियों के राशन कार्ड फोन के जरिए आधार कार्ड से वेरिफिकेशन करके लिंक करती है। इसके बाद इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट पब्लिक डिस्टीब्यूशन सिस्टम के तहत आकड़ों को उपलब्ध कराती है। जिससे पात्र सभी नागरिक देश के किसी भी कोने से अपने हिस्से का राशन ले सकेंगे।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर