Coronavirus: कोरोना जैसे हालात से निपटने के लिए ऐसे बनाएं इमरजेंसी फंड, जरूरत में आएंगे बेहद काम

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसे वॉरजोन की स्थिति में यहां जानिए आप कैसे इमरजेंसी फंड तैयार कर सकते हैं।

emergency fund
इमरजेंसी फंड कैसे बनाएं (source:pixabay)  |  तस्वीर साभार: Representative Image

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में लॉकडाउन किया गया
  • ऐसे हालात में जानें कैसे तैयार कर सकते हैं इमरजेंसी फंड
  • कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था में आई मंदी

नई दिल्ली : कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया है। दैनिक जरूरतों से लेकर यातायात की सुविधाओं तक सभी कुछ बंद कर दिया गया है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए हर एक नागरिक से अपील की गई है कि वे अपने-अपने घरों में बंद रहें बाहर ना निकलें। सोशल डिस्टेंसिंग बना कर रखने को कहा गया है साथ ही कोरोना के संदिग्ध मरीजों को अपने घरों मं आइसोलेट रहने को कहा गया है। 

ऐसे में ना सिर्फ लोगों की दैनिक जरूरतों पर असर पड़ रहा है बल्कि सबसे बड़ी चीज जो है वह ये है कि बड़ी आबादी के सामने रोजगार एक बड़ी समस्या की तरह खड़ी हो गई है। खासकर दैनिक मजदूर जो रोजोना मजदूरी कर अपना भरन पोषण करते थे उनका घरों से निकलना बंद हो गया जिससे उनके सामने अपने परिवार को चलाने की बड़ी समस्या आ गई है। 

ऐसे ही समय में इमरजेंसी फंड की आवश्यकता आन पड़ती है। गिरती अर्थव्यवस्था, गिरते शेयर बाजार के कारण हर कोई नुकसान में है। खासकर ऐसे वॉरजोन की स्थिति में आज जो चीज सबसे ज्यादा मायने रखती है वो ये है कि आपके हाथ में पैसे कितने हैं। आज हम यहां आपको कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच इमरजेंसी फंड तैयार करने के टिप्स के बारे में बताएंगे। 

इमरजेंसी फंड के होने से अचानक से आपात जरूरतों में ये हमारे काफी काम आता है। बच्चों की पढ़ाई, मकान की ईएमआई और घर खर्च के लिए ये इमरजेंसी फंड काफी काम आते हैं। 

ओवरनाइट फंड
यह डेट फंड होता है इसमें हर कारोबारी दिन की शुरुआत में बॉन्ड खरीदे जाते हैं जो अगले कारोबारी दिन मैच्योर होते हैं। इसमें मैच्योरिटी एक दिन की होती है जो सुरक्षित रिटर्न चाहने वालों के लिए बेहतर माना जाता है। हालांकि इसमें ये भी रिस्क है कि एक दिन की मैच्योरिटी होने से रिटर्न कम होता है।

बजट व खर्च पर नजर डालें
आपके इमरजेंसी फंड में करीब 6 महीने का पैसा आपके लिए होना चाहिए। अगर आपकी इंश्योरेंस कंपनी कोरोना जैसी महामारी को कवर करने से इनकार कर देती है तो ऐसे में ये ही इमरजेंसी फंड आपके काम आता है। अपने बजट और दैनिक खर्च पर नजर डालें। आप यहां बचत कर अपने इंरजेंसी फंड को बढ़ा सकते हैं।

पैसों को मैनेज करें
शौकिया खर्च पर नियंत्रण भी कर सकते हैं जो आपके इमरजेंसी फंड को बढ़ाने में मदद करता है। इसका सबसे बेहतर उपाय ये है कि आप अपने सामानों की लिस्ट और खर्चों की लिस्ट तैयार कर प्लानिंग कर लें। अपने पैसों को मैनेज करना शुरू करें। अपने इंवेस्टमेंट पर ध्यान दें।

अगली खबर