GST परिषद की 46वीं बैठक आज, क्या नए साल पर तोहफा देंगी वित्त मंत्री?

GST Council Meeting: 31 दिसंबर को जीएसटी परिषद की 46वीं बैठक में कई अहम विषयों पर चर्चा होगी। बैठक की अध्यक्षता वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण करेंगी।

GST Council Meeting: Finance Minister Nirmala Sitharaman to chair 46th meeting of Goods and Service Tax
GST परिषद की बैठक आज, इन अहम मुद्दों पर होगी चर्चा  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • 1 जनवरी 2022 से जीएसटी में कई बड़े बदलाव होने जा रहे हैं।
  • आज जीएसटी परिषद की 46वीं बैठक है।
  • इस दौरान कई अहम मुद्दों पर फैसला लिया जा सकता है।

GST Council Meeting: आज साल 2021 के आखिरी दिन यानी 31 दिसंबर 2021 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) माल एवं सेवा कर (GST) परिषद की बैठक की अध्यक्षता करेंगी। यह जीएसटी परिषद की 46वीं मीटिंग है। बैठक में जीएसटी रेट्स में बदलाव करने को लेकर चर्चा हो सकती है।

अहम मुद्दों पर होगी चर्चा
बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा होगी। बैठक में दरों को युक्तिसंगत बनाने पर राज्यों के मंत्रियों की समिति की रिपोर्ट पर भी चर्चा होगी। आमने-सामने की इस बैठक में कुछ उत्पादों पर उलट शुल्क ढांचे में सुधार पर भी चर्चा की जाएगी। एक अधिकारी ने बताया कि जीएसटी परिषद की 46वीं बैठक 31 दिसंबर को दिल्ली में होगी। यह 30 दिसंबर को राज्यों के वित्त मंत्रियों के साथ होने वाली बजट-पूर्व बैठक का विस्तार होगा।

GST: नए साल से बदलेगा इन उत्पादों पर लगने वाला टैक्स, जानें क्या होगा सस्ता और क्या महंगा

दर युक्तिकरण से संबंधित मंत्री समूह (जीओएम) परिषद को रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा। समिति ने रिफंड भुगतान को कम करने में मदद करने के लिए एक उलट शुल्क संरचना के तहत वस्तुओं की समीक्षा की है। इसके अलावा, फिटमेंट कमेटी, जिसमें राज्यों और केंद्र के कर अधिकारी शामिल हैं, ने स्लैब और दरों में बदलाव और छूट सूची से वस्तुओं को हटाने के संबंध में मंत्री समूह को कई बड़ी सिफारिशें की हैं।

12 और 18 फीसदी के स्लैब को मिलाने का होगा विचार
वर्तमान में, जीएसटी दर 5, 12, 18 और 28 फीसदी है। वहीं विलासिता और अहितकर वस्तुओं पर ऊंचे स्लैब के ऊपर उपकर भी लगाया जाता है। जीएसटी परिषद 12 और 18 फीसदी के स्लैब को मिलाने की मांग और कुछ वस्तुओं को मुक्तता की श्रेणी से हटाने पर भी विचार करेगी। इससे स्लैब को युक्तिसंगत बनाने से राजस्व पर पड़ने वाले असर को लेकर संतुलन बैठाया जा सकेगा।

(इनपुट एजेंसी- भाषा)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर