भारतीय ग्रामीण महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए आगे आया Google, देगा 500000 डॉलर

भारती ग्रामीण महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई 500,000 डॉलर देने का ऐलान किया।

Google came forward for economic empowerment of Indian rural women, will give $ 500,000 to support
महिला सशक्तिकरण के लिए आगे आया गूगल 

नई दिल्ली: भारत में महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को सपोर्ट करने के लिए गूगल (Google) और एल्फाबेट (Alphabet) के सीईओ सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) ने सोमवार को भारत और दुनिया भर में गैर-लाभकारी और सामाजिक उद्यमों को 25 मिलियन डॉलर अनुदान देने की घोषणा की। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर, पिचाई ने भारत  के ग्रामीण इलाके में 1 मिलियन महिलाओं को गूगल इंटरनेट साथी प्रोग्राम (Google Internet Saathi programme) के हिस्से के तौर पर बिजनेस ट्यूटोरियल, टूल और मेंटरशिप के जरिये से उद्यमी बनने में मदद करने का भी वादा किया।

पिचाई ने वर्चुअल 'गूगल फॉर इंडिया' इवेंट के दौरान कहा कि महामारी के दौरान महिलाओं को अपनी नौकरी खोने की संभावना करीब दोगुनी है और अनुमानित 20 मिलियन लड़कियों के स्कूल नहीं लौटने का जोखिम है। हमारे पास भविष्य बनाने का अवसर है जो अधिक समान और अधिक समावेशी है और हमें इसे करना चाहिए। कंपनी ने डिजिटल और वित्तीय साक्षरता के साथ 100,000 महिला कृषि श्रमिकों का सपोर्ट करने के लिए नासकॉम फाउंडेशन को 500,000 डॉलर Google.org अनुदान की भी घोषणा की।

वर्चुअल इवेंट ने टाटा ट्रस्ट्स के साथ गूगल के संयुक्त प्रयास को पूरा करने के लिए चिह्नित किया, जो 2015 में शुरू किए गए इंटरनेट साथी प्रोग्राम के माध्यम से पूरे भारत में महिलाओं को डिजिटल साक्षरता कौशल के साथ सशक्त बनाने के लिए था। टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा कि आज की तकनीक और शायद कल की तकनीक, ग्रामीण महिलाओं के लाभ के लिए देना एक महान कदम है। समय के साथ, ये प्रयास सुनिश्चित करेंगे कि इंटरनेट का सही मूल्य सामने आ सके।

छह साल में, इंटरनेट साथी प्रोग्राम ने 80,000 से अधिक "इंटरनेट साथियों" द्वारा प्रदान किए गए प्रशिक्षण के माध्यम से पूरे भारत में 30 मिलियन से अधिक महिलाओं को लाभान्वित किया है। एक विशेष संबोधन में, केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि महिलाएं भारत की विकास कहानी के महान प्रवर्तकों के रूप में कार्य कर सकती हैं, जो समाज में टैक्टोनिक बदलाव पैदा करती हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर